Showing posts with label College Girl. Show all posts
Showing posts with label College Girl. Show all posts

Friday, 6 September 2013

Secret Love With Friend’s Sister

Well mera ek friend hai and uski 19 saall ki sister ko main pasand karta hu and wo bhi mujhe pasand karti hai. Hamara relation 2 year purana hai. Milte hai agar mauka mile, movie jate hai waha hum sex to nahi kar sakte but oral asex jarur karte hai. Well uske bare mein kuch bta du imagin aap khud kar lena. Uski figure kuch khas nahi but jab hatho mein le kar uske momo ko dbata hu to maza aa jata hai. Uske honth bhi bahot tasty hai. And jab main uski gand ko masalta hu to kya btau figure 36 30 36 hai. Mast gand aur milky mome maza aa jata hai.
Well age shuru karta hu. Hum jab bhi milte the to theater main he milte te. Bahot lund chusaya hai use maine theater main. Aur wo pehle to mana karti thi but fir use bhi pata tha ke kahi aur mauka to mil nahi raha to wo bhi mera sath dene lg gai. Main maje seat par baith ta tha aur apne jeans ko thoda niche sarka deta tha, fir wo mere lund ko hath mein leti aur main uske hontho ko chumne lgta. Fir uske gol gol bade momo ko dabata aur uska top(jab bhi milte the to wo loose top pehn kar aati thi ta ke neck se he main niche kar sku) ko niche sarka kar uske dono momo ko chusta nipple ko maze se kat ta aur wo mere balo mein apni ungliya ferti use bhi maza aata tha bahot. Fir main use kehta ke jaan ab mere lund ko bhi apne hontho se massag do pehle to wo mana karit but fir mere lan par jhukti aur mera pura lan moo mein leti aur hath se bhi sehlati rehti. Theater main andhera hone ki vjha se kuch pata nahi chalta kisi ko. Waise bhi sabhi isi kam ke liye aae hote the waha.
Fir wo mere lan ko tb tk chusti jab tk mujhe maja naa aa jata wo bhi pure maje se apne naram hotho se mere lan ko chusti. Aur jab main jadhne wala hota to main uske head par hath rakh leta ta ke wo piche na hatt sake aur main apan pura sperm uske moo mein he chhuda deta, aur us time jis janat mein hota main hr ladka ya ladki janti he hai. Well aise hamne kai baar khud ko satisfiy karvaya but jo maza sex mein hai wo oral mein kaha.
But fir ek din muka aa he gya mom dad ko nani ji ko dekhne jana to kiu ke bahot bimar the wo to mom dad ko waha jaana tha, maine Niraj ko bta diya ke mom dad ja rahe hai. Next day mom dad jaise he gae maine use bta diya aur uska aane ka time fix ho gya karib 10 bj ke pass use mere ghar aana tha aur dil ki dhadkne badhi hui thi. Fir jab wo aai to simple dress mein aai wo kiu ke ghar jada dur nahi tha aaj hum dono ke pass time he time tha. Use andar bulata he maine use baho mein bhar liya usne kaha aram se itni jaldi kya hai. Pura time hai tumhare pass aur mere pass. But mujhse sabar kaha ho raha tha. Maine uske hontho ko apne hontho mein le kar he chusna shuru kar diya Nirajne bhi mujhe kas ke hug kar liya aur hun dono paglo ki trha ek dusre ke hontho ko chumne lage. Fir main apni tshirt utar di aur half nude ho gya Nirajmeri chest par ungliya chalane lgai aur hath dhire dhire meri nikar tk lea gai aur kaha. Aaj to ye kuch jada he tgda lag raha hai maja aaega aaj ise chusne mein. Maine Nirajko goed main utha kar sofe par le aaya aur baith gya wo mere samne thi pehle usne ek pyari si smile di aur fir apna top utar diya waaaooo. Ujale mein dekhne par alag he nasha chad ta hai. Usne net wali bra pehni thi half se jada momo dekh rahe the uske fir, wo mere upar side legs kar ke baithi aur kiss shuru kardi hontho par main apne hath uske pith par le gya. Aur uski bra ki hook ko open kar diya. Maine Nirajko piche kiya aur uske mote mote momo ko ghurne lga. Nirajsharma gai aur boli ghuro mat. Maine kaha ghurna he nahi main to aaj inhe chus chus kar laal kardunga.. Fir Nirajaage ko jhuki aur maine uska rite niple moo mein liya.
Moo mein lete he uske moo se siskari nikli aaaaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhh. And maine dusre ko dbana shuru kar diya 5 6 mint tk main uske momo ke sath khelta raha aur unhe chuss chuss kar laal kardiya Nirajbhi ab pure josh mein aa chuki thi aur fir wo mere upar se hati aur apni jeans ko utar diya. Ab wo bs mere samne penty mein he khadi thi. And fir apne ghutno par baihti aur meri niker ke upar se he mere lund ko pakad liya,, mera lan to pehle he hard hua pda tha usne jaise he meri niker ko niche utara mere lan ne use salami di. Wo meri tarf dekhte hue boli jaan ye to meri jaan he nikla dega. Bahot tars rahi hu is ke liye. Maine uske head ko pakda aur uske hair ko sehlane lga. Fir usne mere lan par ek kiss ki uuuuhhhaaa. And fir kaha ke aaj to pura chkhna hai ise. Then usne apne toung se jaise he mere lan par lick kiya mere moo se aaaaaaaaaaaaaaaaaaaaihhhhhhhhhhhhhhhhhhhh siskari nikal gai. Aur usne jor se mere lan ko pakda aur ek dam se apne soft hontho ke bich mein liya aur pura andar tk le kar chusne lagi uske har in out ke sath meri jan nikal rahi thi aur wo mera lan icecream ki trha chusne mein mast thi. Main bs aahe bar raha tha. Aur wo kabi fast kabhi slow mere lund ko chuse ja rahi thi. Itni baar lund chusaya maine use but aaj jitna maja kabhi nahi aya. Fir maine kaha main jadhne wala hu. But bahar nahi jhadne chahta. To wo is baar khud he piche nahi hathi aur meri sanse tej hoti gai aur uski mere lan chusne ki speed and fir ek dam se main jhda gya usne chusna jari rakha aur main jhatke khata khata use moo mein jhad gya. Aur wo tb tk chusti rahi jab tk main tham nahi kya. Meine uske hair pakde aur khud ek do strock uske moo ke andar mare aur fir usne mere lan ko apne honthe se rgadte hue bahar nikala. Aur kaha ke maza aaya jaan maine kaha meri to jan nikal di aaj tumne. Haste hue kaha usne, kya pata aage mauka na mile dobara karne ka.
Fir maine kaha jaan aab to mujhe teri fudi bhi marni hai. Usne kaha main to ready ho kar he aai hu. Fir hum duser room mein gae and wo mere aage thi. Usne apni penty pakdi aur age ko jhukte hue apni penty utari main uski moti gand ko dekh raha tha waaooo aur mera lund fir hard ho gya aur main ek dm se aage badh gya aur uski moti gand ke hole par apna lund ragdne lga. Wo has padi aisa karte he. Kaha kitne besbre ho rahe ho aaj tum. Maine kaha jaan bs aaj sb karna chahta hu. Aur tumhari sexy and nude body dekh kar raha nahi ja raha. Fir maine use bed par litaya aur uski legs ko open kiya aur uski clean fudi ko kiss kiya. Kya khusbhu aa rhi thi. And gili bhi ho gai thi uski choot. Fir maine uski choot ko chatna shuru kiya aur wo siskariya lene lagi aaaaahhhhhhh aaaaaaaaaaaiiiiiii siiiiiiiii aaaaaaaaaahhhhhhhh. And maine apni toung se uski choot ko pura lick karta hardly and uski tight fudi ko fing se fuck karne ki koshish karta main lga tar uski choot ko chat ta raha. Aur kuch der baar usne apni legs se mere shoulder ko jakad lya aur mere head ko apni choot par dba diya aur aaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhh karte hue free ho gai. Aur shant pad gai..
Fir maine uski choot ko saff kiya aur uske upar aa kar leta gya. Makhman jaisi uski body par letne ka maza he alag tha aur use i love you kaha aur uske hontho ko chumna shuru kar diya, main uski legs ko opne kiya aur uski leg ke bich mein leat gya mera lund uski choot ko chum raha tha aur main uske hontho ko. Bs kuch kami na rahe dono yahi chah rahe the. Fir main utha aur apne lund ko uski gili choot par tikaya aur uske upar fir jhuk gya. And kaha ke jaan ab tumhari choot ko main chodne ja raha hu. Dard hoga control to kar logi na. To usne kaha dard ki tension hoti to main aaj na aati, bs mujhe aaj apni wife bna lo. Jo dil main hai jaise karna hai sb karo. I love you alot jaan. Fir maine uske hontho ko apne hontho mein liya aur apne lund ko uski choot par dbaya use pain hui but usne apne hontho ko apne dnato se dba liya. Maine thoda set hua and fir ek jhakta mara mera 1 inch lund uski chuut mein gya aur wo chila uthi aaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh bahot pain ho rahi hai jaan. Saha nahi ja raha main wahi ruk gya aur fir uske honto ko apne hontho mein le kar chusne lga. Aur jab use kuch rahat mili to maine ek aur jhatka mra aur half lund ek baar main he uski choot ke andar daal diya. Usne dard ko seh liya but ankho se aansu na rok ski. And kuch time ke baad wo relax hui aur maine pura lund uski choot mein daal diya aur. Shant hone ke baad maine uski choot ki chudai shuru kardi ab Nirajbhi mera sath de rahi thi usne mere shoulder ko pakda hua tha. Aur main apna lund uski choot mein andar bahar kar raha tha. Hum bate bhi kar rahe the bich mein kiu ke maze ko ek dam khatm nahi karna chahte the. Fir Nirajki choot main maine tej tej lund ko andar bahr karana shuru kar diya mainsha bhi apni gand uchal uchal kar mere lund ko pura andar le rahi th. Ab use bhi bahot maza aa raha tha uski ankhe band hoti har strock ke sath aur kehti ke aaj jitna chodna hai chod lo mujhe age mauka mila ya na mile. And fir main uske upar leat gya, usne mujhe apni legs se cross jakad liya aur hum dono ek sath free hue. Aur maine pura sperm uski chuut main nikal diya. Wo and me bahot khus the face par alag he glow tha uske. 3 hr tk wo mere sath rahi aur ek baar aur chudi wo mujh se. Bahot maza aaya usdin. Uske baad hum theater main he 3 4 baar aur mile. Fir wo apne gaon rehne chale gai. Aur sahi mein ab mauka nahi milega.

Sunday, 25 August 2013

Makaan malik ki ladki ke saath sex

Jab main 12th ke exam de chukka tha. School se chuttiyan thin. Un dinon hum log kiraye par rahate the. Mere makan malik ki ek ladki thi jo bahut khubsurat thi. Main shuru se hi use pyar bhari nazron se dekha karta tha. Uska naam mamta tha. Main ab jaban hota ja raha tha. Isliye ab voh bhi mujhe pyar bhari nazron se dekhne lagi thi. Hum dono ek-dusre ko kisi na kisi bahane touch karte rahate the. Isse hume bahut khushi milti thi.

Un chuttiyon main mere ghar se sabhi log ghumne gaye huye the. Main bhi usi ke liye ruk gaya tha. Meri sister bhi ruk gayee thi. Uskey ghar ristedari main koi death ho jane ki vajah se uskey ghar se sabhi logon ko be jana pada. Voh uske parents use meri sister ke sahare chod gaye. Lekin unhe kya malum tha ki voh use meri land ke sahare chod gayee hain. Din bhar main use kisi na kisi bahane chedata raha. Sham ko ghar main ek hi cooler hone ki vajah se humne jameen par hi bistar daal liye. Sister ne din main bahut kaam kiya tha. Isliye voh jaldi he so gayee. Lekin sister khud beech main so gayee thee. Lekin hum dono ki aankhon main neend kahan. Lekin pahli bar chune main ek dar sa tha. Maine himmat kar ke sister ke upar se haat lejakar uske hath par is tarah rakh diya jaise ki main neeend main hun. Kafi der tak haath rakhe rahane par jab usne kuch nahin kiya to maine uski ungliyon main apni ungliyan daal din. Thodi der baad maine dheere dheere maine uske haath ko dabaana shuru kiya. Lekin voh chupchap padi rahi. Ab mari himmat badh gayee thi. Maine apna haath uske gaalon par rakh diya aur dheere dheere use sahalaane laga. Main kafi der tak uske gaalon aur hothon ko sahalata raha. Lekin mari himmat uske mummon (boobs) tak jaane ki nahin ho rahi thi. Thodi der baad usne bhi apne haath ko uthaya aur mere hath ko pakad liya. Ek baar to main ghabra gaya tha. Lekin usne mere haath ko pakad kar apni neck par le ja kar rakh diya. Main uski gardan(neck) par haath sahalane laga. Lekin mera man to gardan se neechi jaane ko kar raha tha. Thodi he der main maine himmat kar ke apna haath uske mummon main daal diya. Uske bade bade boobs maine kewal upar se he dekhey they. Lekin us din unhe haath main lekar to jaise jannath he mil gayee ho. Main ek he hath se unhe dabaye ja raha tha. Thodi der main voh uthi aur toilet ki taraf chali gayee. Baad main jab voh laut kar aaye to voh meri he taraf hi let gayee. Ab to jaise mujhe sab kuch mil gaya ho. Maine dono haathon se uske mummey pakad liye aur unhe khob jor se dabane laga. Itna jor se ki usne mere hathon ko pakad liya aur unhe hatane lagi. Maine mummon par se thoda dabab kam kar diya aur uske hothon ko chusne laga. Mujhe hothon ko chusne main itna maja aaya ki main karib ek minute tak unhe kas ke chusta raha. voh bhi mera pura pura saath deti rahi. Ab maine apna ek hath chod kar uski salwar main haath daalna shuru kiya to usne apni tange chauda din. Maine ek jhatke main uska nada khol dala. Aur uski chut par haath pherne laga. Main apni ek ungli uski chut main daal kar ghumane laga tab tak uski saansen tej ho chuki thin. Maine apne ek haath se uska ek haath pakad kar apni pent main daal diya. Mera land khada tha. Voh dhire dhire use sahalane lagi. Maine uske sar ko dheere se neeche ki or dabaaya jaise main usse land chuswana chahata hun. Voh mera ishara samajhate hue neeche ki or khisak gayee. Usne mere land ko apne mouth main le liya aur use chusne lagi. Mujhe bahut maja aa raha tha. Usne 2-3 baar land ko mouth se nikalne ki koshish ki lekin maine uske mouth main land lagayee rakha. Jab voh pareshan ho gayee to maine use upar aane diya. Aab maine uski chut chatna shuru kiya. Voh dheere dheere apni gandh uthane lagi. Usne mera sar kas ke pakad rakha tha. Maine uski chut ko thuk se khub geela kar liya. Aur thodi he der main uthkar uski dono tange chauda kar apna land uski chut pa r rakh diya. Ab maine ek jor se dhakka mara aur land aadha andar chala gaya. Lekin voh mujhe hatane lagi. Maine uske dono haathon ko jor se pakad kar dabaaye rakha. Aur jaldi hi ek aur kas ke dhakka mar diya. Is bar mera pura land uski chut main ghus gaya tha. Lekin voh chatpata rahi thi. Maine uske kaan main kaha, “Bas aab aur dard nahin hoga mari raani. Bas mera saath do.” Fir maine dheere dheeere jhatke dena shuru kiye. Thodi der main voh bhi apni gand uthani lagi. Beech-beech main uske hooth chusta raha aur mummey dabaata raha. Hum dono ki sanse bahut tej ho gayee thin. Thodi he der main voh jhad gayee aur mujhe dhakka deni lagi. Tab maine bhi jaldi jaldi kuch jhatke diye aur uski chut main paani chod diya. Fir kafi der tak hum dono ek dusre se chipak kar letey rahey. Us raat maine use teen baar choda. Teen din tak uskey ghar wale nahin aaye aur maine uski sawari ki. Yeh thi mere jeevan ki pahali chudai.

Sex Experience With Girl Friend in Theatre

my girlfriend by name savita (name changed) in a theater in Mumbai, she was studying 12th and I was studying B.sc IT in the same college I was also a virgin and didn’t had sex with any girl before and
I was getting attracted to her figure which is 36,28,36 whenever I see her I use to get erection I my pants so finally I decided to propose her and on feb14th I straight away went to her and proposed her and she first refused I was disappointed but one day I got a call from her and she accepted my proposal I was so happy so we decided to meet at andheri station



I also bunked all my lectures and she also did the same,we met at andheri at 8.30 in the morning and I thanked her for accepted my proposal she replied with a smile, she was wearing a shirt and a black skirt she was looking gorgeous.

We sat in rickshaw and went to a multiplex in andheri there we had breakfast and while having breakfast I hold her hand and she was blushing I slowly kissed her hand she closed her eyes we had our breakfast and went in theater while moving I kept my hand on her waist and grabbed her close to me she saw my eyes and laughed,

we went inside theater very less crowd was there as it was a week day we sat on our seat and only some couples were there in theater, I took her hand in my hand and kissed her hand she was happy I told her in her ears that I want to kiss her lips she denied as lights were on I told her that I will kiss her when the light goes off she blushed and closed her face

I got the green signal and national anthem started we all had to stand up as I was wearing loose pant she saw my erection and laughed I also winked after lights went off movie started I went near her she was breathing heavily I went near her lips she was blowing hot air I moved my lips on her lips and kissed her passionately she opened her mouth and

we exchanged saliva and we both played with each others tongue we kissed each other for nearly 10 min and I saw in her eyes she blushed and closed her eyes I kept one hand on her shoulders and slowly I pressed her boob she moaned haa I pressed it harder she came near me and told that someone will see I told not to worry and kept both hands on her boobs

and started to press it harder she was also co-operating and enjoying slowly I opened two buttons she stopped and resisted I told her that I want to lick her nipples she laughed and said this not the right place to do I convinced her finally she agreed I opened three buttons of her shirt and played with the nipples on bra they were hard enough I pinched the nipple

she moaned and whispered please kiss me I kept my lips on her lips she was kissing very wildly slowly I lifted her bra and went down and kissed her nipples she pressed my head to her boobs I started licking her nipples like a baby and pressing other nipple,I got up and asked her to move forward she did I lifted her shirt from back and licked her entire back she was

moaning aah haa ahh please but I was pressing her boobs continuously I whispered in her ears to lick my nipples for which she blushed and I opened four buttons of my shirt first she kept her hand inside my shirt and played with my nipples and we were kissing each other and I was pressing her boobs slowly she went down and started licking my nipples and she was good

at it I loved it after some time we kept quiet for sometime but my hands were still on her boobs and pressing it and playing with her nipples slowly I removed my hand from her shoulder and kept on her thighs and pressed it she moaned and jumped from her seat again I went down and took the nipples in my mouth and kept my hand inside her shirt from down and started

playing with her navel and started licking it she was liking it after sometime she jumped from her seat with a loud moan she had got her orgasm I asked her what happened she blushed and closed her face,I told her that I want to lick her pussy she said it is impossible in theater slowly I pressed her pussy on skirt and she moaned and kissed me wildly slowly I rubbed her

pussy on skirt and she closed her eyes and spread her legs and gave space for me I put my hand inside her skirt from top of the skirt and touched her panties it was completely wet I saw in her eyes she was blushing and closed her face with shyness slowly I kept my hand inside panty and touched her pussy she moaned squeezed my hand between her legs slowly

I inserted my middle finger in her cunt and she moaned aaaaaaaaaaaaaaaaaaa please do it fast I moved faster and she cummed on my hand I tasted it she was very happy,it was the time for interval so we adjusted ourselves and sat as nothing had happened as lights were on I saw her face she was going red I showed her the bulge in my pant she laughed we both

went outside went to toilet and came back and sat and movie began again I kept my hand on her shoulders and pressed her boobs to my surprise she had removed her bra when she had been to toilet and kept in her bag I saw her she winked I again opened four buttons of her shirt and took her boobs in my mouth she started moaning again and pressed my head to her

boobs I kept one hand on her thighs and pressed her pussy she held me tightly and moaned slowly I asked her to lift the skirt as there was nobody till next three rows only on couple was sitting and they were also busy she looked into my eyes with shyness I convinced her nothing will happen she lifted her skirt and I sat between her legs and pulled her panties it was

really hot, slowly I kissed her pussy she moaned aaaahaaaa and pressed my head I started licking her pussy and inserted my tongue and fucked her pussy with tongue she started moaning and she had a orgasm and she came into my mouth I drank all and sat on the seat again and kept my lips on her lips and started sucking and pressing her boobs slowly

I took her hand and kept it on my bulge she suddenly removed her hand and looked in my eyes and blushed I requested her so she agreed I asked her to open the zip of my pant she did and got my tool out she was surprised and I asked her to shake it she did after some time I cummed on her hand and she laughed but hardness was still there I went near and told her

to suck it she refused and finally agreed and bent down and started sucking like a wild bitch after some time I cummed in her mouth and she drank it without leaving a single drop still the movie was 45 minutes more we sat as usual and she also closed her buttons and adjusted her skirt and sat and slept on my shoulders I asked her how was she feeling she smiled

and blushed and told she was feeling relaxed and kissed me again I joined her kiss and started to kiss her I again pressed her boobs she told not now as she was relaxed I asked her we can continue watching the same movie for the second time she laughed and agreed I was happy after movie we went out had lunch I had a smoke and went to medical shol and

brought a packed of condoms and kept it in my bag which she was not knowing we went got the tickets and went inside sat on the same seats and crowd was still less as the movie was a flop so we sat comfortably she was very frank and bold by now she kept her hand on my thighs I told her I will go to toilet and come back she agreed I went out to toilet and removed

my underwear and kept it in my bag and came and sat and movie started and lights were off she came near me and kissed me I kissed her and our tougues met and we were not in hurry so we continued kissing for fifteen minutes I opened the buttons of her shirt and she lifted her bra I began pressing her boobs hardly she was responding very much slowly she came

near me and to to lick the nipples I saw in her eyes she smiled and winked I went down and strated licking her nipples it was already hard slowly I pressed my hand on her pussy she moaned and squeezed her legs slowly I lifted her skirt to my surprise she had removed her panties she winked and kissed me I sat between her legs and started licking her pussy

within minutes she cummed on my face and I drank it and came back to my seat she kept her hand on my dick it was easily accessible as I had removed my undies she laughed and opened the zip and took the tool in her hand and started stroking and I was pressing her boobs I whispered in her ears that I want to fuck her she told that somebody will see I told no body

was there and she agreed I asked her to lift the skirt completely and sit she did and spread her legs I opened the pant till knees and wore the condom and sat between her legs she saw the condom and laughed at me with shyness and slowly kept my lund near her pussy and pressed she grabbed me tightly and as the cunt was wet it went inside easily and I started to give

hard strokes to her she was also responding and finally I came I her cunt and she had multiple orgasm and after that we got covered ourselves and both were satisfied and happy till the time of interval we were talking to each other at interval we went outside had a coffee and came back inside and again movie started she straight away kept her hand on my dick and

pressed and opened the zip and took it into her mouth and started licking slowly I lifted her skirt and inserted the figure in her pussy she spread her legs and whispered in my ears to fuck her again as she was feeling good she opened all the buttons of her shirt and lifted her skirt and I opened the pant and wear a condom and pushed the dick straight away in her choot

she moaned and held me tight I started pumping her with full speed and she was moaning like ahhhhhh please shhhhhhhhhhhhhhhhhshsh do it darling and cummed in her choot and she had three more orgasm and we sat in fully tired and she was also happy but lund was still hard

I showed her that she straight away sat between my legs and took my lund in her mouth and gave a excellent blow job and I cummed in her mouth

First Time With College Receptionist

I had a sexual encounter and enjoyed a bit though. The girl I am speaking about is receptionist in my college. I am studying Intermediate and our college has study hours. That day all the people in my college went early and even the teachers.That was my day and I first approached her and sat beside her. She and I were good friends. I had just come and in the mean time I had patted on her back and caught hold of her bra strip knowing it is bra strip I had asked her what is this thing. She ignored but I kept bugging her and she said you shouldn’t ask about it.


I kept asking her and she told it is innerwear which women wear so I kept a hand in her chudi from the back and felt it. When I kept like that she shivered and said me to remove my hand. I asked her what happened she said she felt something bad I asked what she said a strange feeling I asked her let me feel again as it is not bad and we shara a healthy relation but she didn’t accept.

Then I kept an angry expression she said you are like my bro you shouldn’t ask things like these. At times I even touched her thighs.. Then I came near her and kissed on her cheeks and she was shocked and also amused and didn’t react. I said you are so damn kissable and cute.

She Laughed and then I attacked her I kept kissing and seeing no resistance I kept a long kiss on her cheeks and then sucked her neck she was uncomfortable and scolded me. I smiled then she moved to the cabin corner and I came near and she stood turning her back then I kept kissing her neck and mimicked of fucking her by putting my cock on her ass (without removing dress) and moved to and fro as it is my first experience I cummed with the mimicking and then kept doing that for 1 min. Then she ran from cabin and I was satisfied with first experience and left her and while going I kept a short kiss on her cheek and said bye this is my first experience.

Sunday, 28 July 2013

सेक्स का कीडा

मेरा नाम राज है।तब मेरी उम्र १९ वर्ष थी मेरे अन्दर सेक्स का कीडा
भडक रहा था। मेरी छुटि्टयॉ चल रही थी। हमारे घर के सामने वाले घर मे एक लड़की
रहती है।उसका नाम पूजा है। हम दोनो बचपन से ही बहुत अच्छे दोस्त हैं। इस बार
मैं द्यर दो सालों के बाद आया था। मतलब की हम दोनो पूरे दो सालों के बाद मिले
थे। और अब वह पहले वाली पूजा नहीं थी अब वह बला की खूबसूरत हो गयी थी।
उसका भरपूर १७ वर्ष के जिस्म ने मेरे अन्दर की आग को और भडका दिया था। उसके
बूब्स काफी बडे थे वो उसकी टाईट टीशर्ट में बिल्कुल गोल दिखते थे जिन्हे
देखकर उन्हे हाथ में पकडने को जी चाहता था। वह अकसर शार्ट डे्रस पहना करती
थी।बचपन में मैने बहुत बार खेलते हुए पूजा के बूब्स को देखा था जो कि शुरू से
ही आम लड़कियों के बूब्स से बड़े थे और कभी कभी छू भी लेता था लेकिन मेरा मन
हमेशा उनको अच्छी तरह दबाने को करता रहता था लेकिन मुझे डर लगता था कि कहीं
वो अपने द्यर वालों न बता दे क्योंकि मेरी उसके बड़े भाई के साथ बिलकुल भी
नहीं बनती थी। वो पूजा को भी मेरे साथ न बोलने के लिये कहता रहता था लेकिन
पूजा हमेशा मेरी तरफ ही होती थी। लकिन अब पूजा बड़ी हो चुकी थी और जवानी उसके
शरीर से भरपूर दिखने लगी थी।मैं उस को चोदने के लिये और भी बेकरार हो रहा था।
लेकिन अब वह पहले की तरह मेरे साथ पेश नहीं आती थी।एसा मुझे इस लिये लगा
क्योंकि वो मेरे ज्यादा पास नहीं आती थी।दूर से ही मुस्करा देती थी।


लेकिन एक दिन मेरी किस्मत का सितारा चमका और मैने पहली बार एसा द्रिष देखा
था।उस दिन मैं तकरिबन ११ बजे सुबह अपनी छत पर धूप में बैठने के लिये गया
क्योंकि उन दिनों सर्दियां थी। मैं अपनी सब से ऊपर वाली छत पर जा कर कुरसी पर
बैठ गया।वहां से सामने पूजा के द्यर की छत बिलकुल साफ दिख रही थी।मैं सोच रहा
था कि पूजा तो स्कूल गयी होगी लेकिन तभी मैने नीचे पूजा की आवाज सुनी मैने
नीचे देखा पूजा के मम्मी पापा कहीं बाहर जा रहे थे। थोड़ देर बाद पूजा अन्दर
चली गयी।मैं सोच रहा था कि आज अच्छा मौका है और मैं नीचे जाकर पूजा को फोन
करने के बारे मे सोच ही रहा था कि मैने देखा पूजा अपनी छत पर आ गयी थी।मैं उस
को छुप कर देखने लगा क्योंकि मै पूजा को नही दिख रहा था।उस दिन पूजा ने शर्ट
और प्जामा पहन रखे थे और ऊपर से जैकिट पहन रखी थी।वह अभी नहाई नही थी।तभी उस
ने धूप तेज होने के बजह से जैकिट उतार दी और कुरसी पर बैठ गयी। उस ने अपनी
टांगे सामने पड़े बैड पर रख ली और पीछे को हो कर आराम से बैठ गयी जिस की बजह
से उस के बड़े बड़े बूब्स बाहर को आ गये थे।

मेरा दिल उनको चूसने को कर रहा था और मैं बड़े गौर से उस के शरीर को देख रहा
था।तभी अचानक पूजा अपने बूब्स की तरफ देखने लगी और उसने अपने हाथ से ठीक करने
लगी।उसके चारों तरफ ऊंची दीवार थी इसलिये उसने सोचा भी नही होगा कि उस को कोई
देख रहा है।उसी व्कत उस ने अपनी शर्ट के ऊपर वाले दो बटन खोल दिये।मेरे को
अपनी आंखो पर विशवास नहीं हो रहा था कि मै यह सब देख रहा हूं। मैने अपने आप
को थोड़ा संभाला। लेकिन तब मैं अपने लण्ड को खड़ा होने से नही रोक पाया जब
मैने देखा कि उस ने नीचे ब्रा नहीं डाला हुआ था और आधे से ज्यादा बूब्स शर्ट
के बाहर थे।मैने अपने लण्ड को बाहर निकाला और मुठ मारने लगा।

जब मैने फिर देखा तो पूजा का एक हाथ शर्ट के अन्दर था और अपने एक मुम्मे को
दबा रही थी और आंखे बन्द कर के मझे ले रही थी ।तभी उस ने एक मुम्मे को बिलकुल
शर्ट के बाहर निकाल लिया जो कि बिलकुल गोल और बहुत ही गोरे रंग का था।उसका
निप्पल बहुत ही बड़ा था जो कि उस समय इरैकट था और हलके भूरे रंग का था। मैं
यह सब देख कर बहुत ही उतेजित हो रहा था और अपनी मुठ मार रहा था। तभी उसने
अपनी शर्ट का एक बटन और खोल दिया और अपने दोनो बूब्स बाहर निकाल लिए। फिर
उसने अपने दोनो हाथों की उगलिुयों से निप्पलस को पकड़ कर अच्छी तरह मसलने
लगी। काफी देर तक वो अपने बूब्स को अच्छी तरह दबाती रही। थोड़ी देर बाद वह
कुर्सी से उठी और बैड पर लेट गयी। एक हाथ से उसने अपने बूब्स दबाने शुरू कर
दिए और दूसरा हाथ उसने अपने पजामे मे डाल लिया और अपनी चूत को रगड़ने लगी।

अब उस को और भी मस्ती चड़ने लगी थी और वह अपनी गांड को भी उपर नीचे करने लगी
थी।मैं अभी सोच ही रहा था कि खड़ा हो कर उस को दिखा दूं कि मैं उस को देख रहा
हूं तभी मेरा हाथ मे ही छुट गया और मैं अपने लण्ड को कपड़े से साफ करने लगा।
जब मैने फिर देखा तब तक पूजा खड़ी हो गयी थी लेकिन उसके बूब्स अभी भी बाहर ही
थे और वो वैसे ही नीचे चली गयी। लेकिन फिर भी मै बहुत खुश था लेकिन फिर मेरे
को लगा कि मैने पूजा को चोदने का मौका गवा दिया। मुझे खड़ा हो जाना चाहिए था।
एसा करना था वैसा करना था। तभी मेरे दिमाग मे एक आइडिया आया। और मैं जलदी से
नीचे गया और पूजा के द्यर फोन कर दिया। पहले तो वह मेरी आवाज सुन कर थोड़ी
हैरान हुई क्योंकि फोन पर हमारी ऐसे कभी बात नही हुई थी लकिन वह बहुत खुश थी।
लेकिन मैं उस से सेक्स के बारे में कोई भी बात नही कर सका। इधर उधर की बातें
करता रहे। उस दिन हम ने २ द्यटें बातें की और फिर उसका भाई विशाल आ गया था।
शाम को उसने मुझे फिर फोन किया और हमने १ द्यटां बति की और फिर रोजाना हमारी
फोन पर बातें होने लगी और द्यर पर भी अकसर आमने सामने हमारी बातें हो जाती
थी। छत पर भी हम एक दूसरे को काफी काफी देर देखते रहते थे। लेकिन मेरे को
उसके भाई से बहुत डर लगता था इस लिए जब वह द्यर पर होता था मै पूजा से दूर ही
रहता था।

एक बार विशाल की बजह से हमारी पूरे २ दिन बात नही हुई और हम दोनो बहुत परेशान
थे और हम छत पर भी नही मिल पाए और विशाल ने उस को हमारे द्यर भी नहीं आने
दिया था। उस दिन मैं पूरा दिन बहुत परेशान रहा क्योंकि पूजा मुझे सिर्फ एक
बार दिखी थी और हमारी बात भी नही हुई थी।रात के ९ बज चुके थे। मै बैठा पूजा
के बारे मे सोच रहा था।तभी बाहर की द्यटीं बजी। जब मैने गेट खोला तो देखा
बाहर पूजा खड़ी थी।

उसने मुझसे सिर्फ यह कहा "आज रात साढ़े बारह मै फोन करूंगी रजत मेरा मन नहीं
लग रहा है " और वापस चली गयी।

मैं एक दम से हैरान रह गया। मुझे विशवास नही हो रहा था। लेकिन मै बहुत खुश
था। पहली बार किसी से रात को बात करनी थी। गेट बन्द करके अन्दर गया और मम्मा
से कहा पता नही कौन था द्यटीं बजा कर भाग गया। ११ बजे सभी सो गए लेकिन मुझे
नींद कैसे आ सकती थी।मैने दूसरे फोन की तार निकाल दी थी और अपने कमरे वाले
फोन की रिंग बिलकुल धीमी कर दी थी और कमरे का दरवाजा भी बन्द कर लिया था।
तकरीबन १२:३५ पर फोन आया और पूजा बहुत ही धीमे स्वर मे बोल रही थी और उसने
बताय्या कि "विशाल ने हम दोनो को बात करते हुए देख लिया था।इसलिए उसने मुझे
तुमसे मिलने और फोन पर बात करने से मना किया है वह कहता है कि तुम अच्छे
लड़के नहीं हो। लेकिन मुझे तुम बहुत अच्छे लगते हो। तुमसे बात करके बहुत
अच्छा लगता है। मै तुम से बात किए बगैर नही रह सकती। इसलिए रजत हम रात को बात
किया करेंगे और इस समय हमें कोई डिसटर्ब भी नही करेगा खास कर विशाल"

ऐसे ही हमारी बहुत देर बातें होती रहीं और अब पूजा पूरी तरह मेरे जाल मे फस
चुकी थी। तब मैने पूछा कि तुम कमरे मे अकेली ही हो न इतनी धीमे क्यों बोल रही
हो। उस ने कहा कि मेरे कमरे का दरवाजा खुला है और मम्मी पापा साथ वाले कमरे
मे हैं। तो मैने उसको दरवाजा बन्द करने को कहा। उसने पूछा क्यों तो मैने कहा
कि उसके बाद मैं तुम्हारे पास आजाऊंगा बैड के उपर बिलकुल तुम्हारे साथ। तो वह
कहने लगी नहीं मुझे तुमसे डर लगता है। तुम मेरे साथ कुछ कर दोगे। तब मैने
उससे कहा कि मै कभी तुम्हारे साथ जबरदसती नही करूंगा। जो तुम्हे अच्छा लगेगा
हम वह ही करेंगे। मैने पूजा को अपना हाथ पकड़ाने के लिए कहा।

उसने कहा "पकड़ लो लेकिन आराम से पकड़ना" थोड़ी देर चुप रहने के बाद उसने कहा
"तुम्हारे हाथ पकड़ने से रजत मेरे को कुछ हो रहा है प्लीज अभी मेरा हाथ छोड़
दो"

मैने कहा ठीक है छोड़ देता हूं। लेकिन पूजा मैं तुम से लड़कियों के बारे मे
एक बात पूछना चाहता हूं। बताओगी।

उसने कहा "पूछो क्या पूछना चाहते हो।"

मैने हिचकचाते हुए कहा मैं पिरीअडज के बारे मे सब कुछ जानना चाहता हूं। पहले
पूजा चुप कर गई लेकिन थोड़ी देर बाद उसने मुझे सब कुछ बतायया और उसके बाद
हमारी सेक्स के बारे मे बातें शुरू हो गई। मैने उसको कहा कि मैने उसके बूब्स
देखे हैं। तो उसने कहा आप झूठ बोल रहे हो। तब मैने छत वाली बात बता दी कि मै
सब कुछ देख रहा था। वह थोड़ा शरमा गई और कहने लगी कि आप बहुत खराब हो। उसने
कहा कि ऐसा करने से उसको मजा आता है। थोड़ी देर बाद उसने कहा कि जब मैने पहले
उसका हाथ पकड़ा था तब उसकी टांगो के बीच में कुछ हो रहा था उसको बहुत मजा आ
रहा था और उसकी चूत में से बहुत पानी निकल रहा था जिस की बजह से वह द्यबरा गई
थी और इसी लिए उसने मुझे हाथ छोड़ने को कहा था।

तब उसने फिर से हाथ पकड़ने को कहा। मैने कहा ठीक है पकड़ा दो। थोड़ी देर बाद
उसने कहा कि उसकी पैंटी चूत के पानी से बिलकुल गीली हो गई है और उसके निप्पलज
भी बिलकुल इरैकट हो गए हैं।तब मैने उसको अपने कपड़े उतारने को कहा।तब उसने उठ
कर दरवाजा बन्द कर लिया और सारे कपड़े उतार दिए।फिर उसने बूब्स दबाने शुरू कर
दिए और सेक्सी सेक्सी आवाजें निकालने लगी।मेरा लण्ड भी बिलकुल खड़ा हो चुका
था।तब पूजा अपनी उंगली से चूत के ऊपर क्िलटरीज को दबाने लगी और फिर उसने
उंगली चूत के अन्दर डाल ली।

उसके मुंह से आवाजें आ रही थी।आहहहहहहहहहहहहहहह आह आहहहह वह कह रही थी " रजत
प्लीज चोदो मेरे को।अपना लण्ड मेरी चूत मे डालो।मेरे मुम्मों को चूसो।जोर जोर
से चोदो मेरे को।"

उस रात हमने सुबह ५ बजे तक बात की।उसको बाद हम अकसर रात को बातें करते
थे।लेकिन मैं उस दिन के इंतजार मे था जिस दिन मै उसको असली मे चोदूं। आखिर वह
दिन आ ही गया जब मेरा सपना सच हो गया। पूजा के एक रिश्तेदार अचानक बीमार हो
गये उसके मम्मी और पापा को उन्हें देखने के लिये जाना पडा। और किसी भी हालत
में उनके तीन दिन तक लौटने कि कोई उम्मीद नही थी।विशाल दिन भर दुकान पर
था।पूजा द्यर मे अकेली थी। लेकिन मम्मा की बजह से मै उससे बात नहीं कर पा रहा
था। मैं अपने कमरे मे चला गया।

मैंने एक सेक्स मैगजीन निकाला और देखने लगा। उसमें कुछ आपत्तिजनक तस्वीरे थी।
मैं उन्हें देख रहा था तभी अचानक पीछे से पूजा आ गई उसने पूछा क्या देख रहे
हो और वह मेरे बेड पर बैठ गयी।मैने पूछा कि मम्मा से क्या कहा है तब उसने कहा
कि आन्टी ने उसको जहां आते हुए नही देखा।तभी मैं उठा और मम्मा से कहा कि मैं
सोने लगा हूं और मैने दरवाजा अन्दर से बन्द कर लिया।फिर मैने उसके सामने वह
किताब रख दी वह उसे देखने लगी। फिर हम दोनो सेक्स के बारे में बातें करने
लगे। मैं उठकर उसके पीछे खडा हो गया मैने उसके कन्धे पर अपना हाथ रखा और
झुककर उसके कन्धों को चूम लिया। उसने कुछ भी प्रतिरोध नहीं किया यह मेरे लिये
बहुत था।

मै उसके सामने बैठ गया और उसके होठो को चूम लिया। मेरा हाथ तेजी से उसकी कमर
में पहुॅच गया और कसकर पकडकर उसे अपनी ओर खींच लिया। मेरे हाथ उसके बूब्स पर
पहुॅच गया और ऊपर से ही दबाने लगा।

उसके मॅुह से प्रतिरोध के शब्द निकले उसके मुॅह से निकला ओहहहहहहहहहहह नहीं
बस करो रजत।

लेकिन उसके हाथो ने उतना एतराज नहीं जताया। उसने एक ढीली ढाली टीशर्ट और
साइकलिंग शार्ट पहन रखा था। मेरा हाथ उसकी टीशर्ट के अन्दर उसकी ब्रा के ऊपर
से ही उसके उभारों को दबाने लगा। मेरी जीभ उसके मुॅह में द्यूम रही थी। अब
उसके तरफ से भी सहयोग मिलने लगा था। मैंने उसकी टीशर्ट निकाल दी उसने पहले ना
नुकुर की लेकिन मेरे हाथ का जादू उसके दिलो दिमाग पर छा रहा था। उसका
प्रतिरोध नामात्र का था। मैं उसके बूब्स को उसकी ब्रा के ऊपर से ही मुॅह मे
लेने लगा। और मेरा दूसरा हाथ उसकी जांद्यो के बीच के भाग को उसके कपडो के ऊपर
से ही सहलाने लगा। मेंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया उसका भरपूर यौवन मेरे
सामने था। जिनको मैंने बिना एक पल की देरी किये अपने मुॅह में ले लिया। वह
अपने वश में नहीं थी उसने मुझे कसकर पकड लिया।

मैने उसके बाकी बचे कपडो को उतार फेंका और उसे बेड पर लिटाया। मैंने अभी तक
अपने कपडे नहीं उतारे थे मैने अपने कपडे उतार दिये । मैं अब सिर्फ अन्डरवियर
में था।और उसके ऊपर वापस झुक गया। और उसके निप्पल को मुॅह में ले कर चूसने
लगा। मेरे हाथ उसकी जांद्यो के बीच की गहराइयों तक पहुॅच गये और उसके जननांग
को सहलाने लगे। उसने अपना हाथ मेरी अन्डरवियर में डालकर मेरे हथियार को बाहर
निकाल लिया। मैं नीचे गया और अपने होठ उसके जननांगों पर रख दिये उसके मुॅह से
एक सीत्कार निकल पडी। उसने मुझे अपने पैरो में फॅसा लिया। मेरी जीभ उसकी चूत
के अन्दर बाहर हो रही थी। उसने पानी छोड दिया मेरी जीभ को नमकीन स्वाद आने
लगा। उसने मेरे लण्ड को अपनी चूत में डालने के लिये मुझे ऊपर की ओर खींच
लिया। और बोलने लगी प्लीज इसे अन्दर डालो अब बरदाश्त नहीं होता।

मैंने एक पल की भी देरी नहीं की उसके टांगो को फैलाया और अपने लण्ड को उसके
चूत के ऊपर रखा । एक धीमा सा धक्का दिया वह पहले झटके को आसानी से सहन नहीं
कर पायी और दर्द से कराह उठी और चिल्लाने लगी ़़़़ ज़ल्दी निकालो मैं मर
जाऊॅगी। मैंने उसको कस कर पकडा और उसके निप्पल को मुॅह में लेकर अपनी जीभ से
चाटने और दांतों से काटने लगा। थोडी देर में ही वह अपनी कमर को आगे पीछे
हिलाने लगी। मेरा लण्ड जो कि अभी तक रमा की चूत के अन्दर ही था और बडा होने
लगा था। मेरे लिये अब यह पल बरदाश्त के बाहर था। मैंने भी आगे पीछे जोरो से
धक्के लगाने लगा। मेरी स्पीड लगातार बढ़ती रही उधर उसके मुॅह से उत्तेजित
स्वर और तेज होते रहे। और थोडी देर में हम दोनो अपनी चरम सीमा पर पहुॅच गये
फिर वासना का एक जबरदस्त ज्वार आया और हम दोनो एक साथ बह गये।

मैं उसके ऊपर ही लेटा रह गया। उसने मुझे कसकर पकड रखा था। थोडी देर में मैं
मुक्त था। पूजा छुप कर अपने द्यर चली गई।बाद दुपहर जब विशाल खाना खा कर वापस
दुकान पर चला गया मैं मम्मा से यह कह कर कि मै अपने दोसत के द्यर जा रहा हूं
पूजा के द्यर चला गया। फिर हमने शाम तक एक दूसरे के साथ सेक्स किया इक्कठे
नहाए और पूजा ने मेरे लण्ड को अपने मुंह मे डाल कर खूब चूसा और उसको लण्ड को
चूसने में ब्हुत ही मजा आ रहा था। शाम को जब मैं जाने लगा तो उसने कहा के आज
रात को वह मेरे साथ सोना चाहती है।मैने कहा यह कैसे हो सकता है। उसने कहा कि
आज रात को वह नीचे अकेली होगी और उसने कहा कि ११ बजे बाहर आ जाना वह गेट खोल
देगी। रात को मैं ११ बजे मैं छोटे गेट से उसको बाहर से ताला लगाकर पूजा के
द्यर के बाहर गया तब उसने गेट खोल दिया और मै अन्दर चला गया।पूजा गेट बन्द
करके अन्दर आ गई।

मैने पूछा विशाल सो गया क्या ।उसने कहा कि विशाल तो एक द्यंटे से सोया हुआ
है।तब मैने पूछा कि वह क्या कर रही थी। उसने कहा " आप से अच्छी तरह चुदने की
तैयारी कर रही थी।"

वह मेरे को अपने मम्मी पापा के बैडरूम मे ले गई और आप बाथरूम मे चली गई।
थोड़ी देर बाद जब वह बाहर आई उसने छोटी सी नाईटी जो कि बिलकुल पारदरशी थी
पहनी हुई थी। उसने नीचे कुछ भी नही पहना हुआ था। उसके मुम्मे और चूत दिख रहे
थे। उसने कहा के यह नाईटी मम्मा की है और आज वह मम्मा की तरह ही चुदना चाहती
है तब मैने पूछा कि मम्मा की तरह का क्या मतलब है। तो उसने कहा कि एक रात वह
बाथरूम जाने के लिए उठी तो उसने देखा कि मम्मी पापा के रूम की लाईट जल रही
थी। उसने खिड़की मे से देखा तो मम्मा ने यह ही पहनी हुई थी। उसके बाद उसने २
द्यंटे मम्मा को पापा से चुदते देखा।

थोड़ी देर बाद मैने देखा कि पूजा ने सारे बाल साफ कर हुए थे।उसके बाद हम फिर
से एक दूसरे के लिए बिलकुल तैयार थे।उस रात सुबह ५ बजे तक बिलकुल नन्गे एक
दूसरे की बाहों मे रहे और इस बीच मैने उसको तीन बार चोदा।उसने मेरे लण्ड को
बहुत चूसा। अगले दो दिन भी हम ऐसे ही एक दूसरे की बाहों मे मजे करते रहे। अब
हमें जब भी मौका मिलता है हम इसका आनन्द उठाते हैं।