Showing posts with label Hindi Adult Story. Show all posts
Showing posts with label Hindi Adult Story. Show all posts

Monday, 28 January 2013

Hindi Adult Story - Bhookha Lund....

Meri chacheri bhabhi ka naam suneeta hai.unki umar 29 hai,woh gori, badi choochi 38d aur moti gand wali aurat hain jiski height karib 5.4 hai aur hamesha ankhon mein kajal hothon par brown lipstick lagaye rehti hain . Bilkul aisa lagta hai jaise abhi abhi shadi hui hai. Jabki unke do bacche hain ek 7 sal ka aur ek 5 saal ka. Bhaiya bombay mein kaam karte hain aur 3-4 mahine mein ek baar ghar aate hain.kaam jyada hone aur time kam hone se woh bhabhi per kaam dhyan detain hain. Waise to bhabhi mast rehti hai par mere se unki acchi patri khati hai ya kaho to mein meri bhabhi ka accha dost hoon . Main aur sunita bhabhi sath sath ghoomte hain aur logon ko yahi lagta hai jaise hum pati patni hain.market jana, picture dekhna, restaurant jana aur ane jane mein motorcycle par chipak kar baithna choochiyon ka poora wajan meri peeth par dena .bhabhi kafi sundar hai aur roj shaam ko sa jti hain.

Ek din sham ko main college se lauta to bhabhi boli chalo yaar jara saman lene chlna hai. Main tayaar hua aur bazar gaye wahan unhone kapde lyae aur saath mein bra aur panty lene lagi . Unke pas paise kum the to mujhse le liye aur boli ghar par le lena . Main sharma gaya par kuch bola nahin.aisa akar hota hai ki bhabhi mere saath bra panty le leti hain kabhi to raste mein thele se lne lagtihain.
Woh boli beta kya mast lund hai tumhara aaj to maza aa gaya hai dilkar raha hai ki tumko hamesha ke liye apna pati bana loon par phi tumhare bhaiya kya karenge aur phir mujhse boli chalo yaar ab mujhe pna mast hanthi chatne do to aur phir icecream jaise chatne lagi 15 minute tak aur choosne aur chatne ke baad meine bhabhi se kaha mera pani nikal jayega to woh boli koi baat nahin jab bur mein le sakti ho to salay maintera pani apne mooh mein le sakti hoon chal bhosriwale mere mooh mein nikal pani, maine sara pani uske mooh mein nikal diya aur woh use pee gayi aur mujhe dekh kar boli salay sooar ki aulad dekha kaise piya sab, main gussa gaya uar usko utha kar khada kiya uar usko 5-6 chante mare to woh rone lagi kya hua jo mujhe maar rahe ho maine aisa kya kah diya maine usko pakda aur uski bur mein ungli karne laga aur uski bur jo jhanton ke saath thi chatne laga to kutiya boli kas ke chat mere yaar mainuski bur mien katne kaga aur nochne la aga to boli dhmee kar main kahin bhagi nahi ja rahi meine usse bola mein soore ki aulad hoon na isliya jor se dabaoonga aurkatunga sali haramzadi randi kutiyaa kamini sali madarchod aaj tere sare kas bal dhele kar doonga woh boli meri galiyon ka bura mat mano raja yeh to tumhare chacher bhai ne sikhayi hain woh mujhe aise hi chodte hainmaine kaha sali tera rape kiya tab bhi mast hai. Boli rape tune kiya hai mera par main to pehlr hi tere chahcerebhai se chud chuki hoon aur chod ke tu mera kya bigad lega waise bhi main nasbandi kara chui hoon mujhe jaise chahe chodo mujhe kuch nahi hona hai.

Meine bola maa chod dunga aaj teri, kutiya chal apni bur dikha aur maine uski bu r ko chata aur usko bagal mein lita kar uski bagal mein let gaya aur dono tangien agey kar uski bur mein lund dala uski bur sooj gayi hi tightho gayi thi maine dhakka mara thoda sa gaya phir mara bhabhi chihunk padi dheere se yaar dard ho rahi hai.

Maine ek aur mara 3/4 andar tha uski ankhon se ansoonnikle maine chauthe dhakke mein lund poora andar kya aur phir pelne laga laga tar dhakkon se uski cheekh nikal rahi thi hai mar gayi jalim mar dala tune mujhe eeeeeeeeeeeee eeeeeeeeebas karrrrrrrrrrrrrrrrr rrr marrrrrrrrgay iiiiiiiiiiiiiuiiiiu iuiiiiiiiiiiiima a bhaoooooopap bahaooooooooooooooo oomar ho raha hai please dheme chodo na please dheeme se mar daloge kya please dheme se iiiiiiiiiiii mar gayiiiiiiiiiiiiiiii iiimee rajaaaaaaaaaaaaaaaa aaaa. Main kuch sun hi nahin raha tha mere dimag mein mooli wal scene aa raha tha maine bhabhi ko pakda aur apni taraf mooh kar ke chhoth choosne laga bhabhi bhi saath de rahi thi mast ho gayi thi tabhi andar gela sa laga bhabhi jhad gayi thi thak gayi thi par main ruk nahinraha tha main seeha let gaya aur bhabhi mree upar baith gayi aur upar neechey hone lagi 10 minute mein main jhad gaya is round mein poore 35 minute lagae aur bhabhi ki bur phool kar gubbara ho gayi . Bhabhi boli mujhe peshab jana hai maine kahan mujhe bhi jana hai chalo saaath chalein hum sath mein peshab gaye mbhabhi ke mootne mein seeti ki awaz aa rahi thi unko jor lagan pad raha tha maine unko roka aur unko kaha jara ruko mujhe ek kaam hai bhabhi peshab karte huye rok di maine unko uthaya aur apne lund par bitha diya aur mootne ko kaha to bhabhi boli pagal ho gaye ho main kaise mootongi maine kaha jor mar saali moot ab maza ayega ,
bhabhi ne jor laga man bhi unke andar mootna shuru kar diya dono sath mein peshab kar rahe the sari pesah dhere se bahar aa rahi thi 5 minute baad maine jab unko utara to woh sharam ke mare lal ho gayi thi aur mere se nazar nahin mila rahi thi , maine kaha kyon bhauji maza awa ki nahin.

Bhabhi muskura di aur shower chala diya aur hum nahane lage woh mera lund dhone lagi maine unki bur par hanth ,mara aur aundar ungli karke saaf karne laga phir 15 minute bad hum bahar nikle don fresh thee maine bhabhi ke chutar par hanth rakha tio unki gaand ke ched par hant pada aur maine usmein ungli daal di bhabhi uchal padi aur bhagi main peeche tha bhabhi kamre ghus gayi aur andar se darwaza band kar liya aur boli salay bur kya dedei ab gaand ke peeche pada hai. Maine kaha please bhabhi darwaza kholdo nahin to tod doonga aur maine dhakka mara sitkani toot gayi bhabhi bistar par leti thi aur apne hath apni gand par rakhe thi nahin doongi salay ab kya meri maa hi chodega salay isi dinke liye khila pila rahi hoon, itna mast lund kiyahai taki meri hi gaand phad de, maine kaha madar chod apni gaan mara le nahin to main tumhari maa chod dalunga bhabhi bahut maza ayega ek bar mara logi gaand to hamesha kahogi meri gaand pehle maro baad mein meri bur chodna. Par bhabhi apni gaand ka ched nahi khol rahi thi tab maine unka hanth pakad kar ghaseeta aur bhabhi bistar se neeche gir padi maine urant uthaya aur unka ghutna sehlane laga bhabhi rone lagi hai maine tumhara kya bigara hai jo mera rape kiya ab meri gaand marna chahte ho please chod do maine chod to diya hai yaar par ek baar main tumhari gaand marna chahta hoon phir tujhe hanth bhi nahin lagaoonga. Bhabhi boli phir to nahin pareshan karoge pakk maine kaha pakka.maine kaha pakka bhabhi.

Phir bhabhi uthi aur mere pass ayi aur mjhe choom kar boli dekho tumhare bhai sahab meri gaand mar chuke hai mujhe dard hota hai aur tumhara to itna bada hai ki darr lagta hai please dheere dheere karna . Maine kaha theek hai maine unki gaand dekhi aur apni ungli dal di bhabhi chillai abey dheeme dal salay lagta hai, maine dhyan nahin diya aur tezi se ungli andar bahar karne laga main ungli se gaand mar rha tha aur unki choochi choos raha tha bhabhi bhi choochi utha utha kar choosa rahi thi sali ekdum randi ki tarah kam kar rahi thi , maine apna lund unko choosne ko kaha to choosne lagi mera lund mooh mein poora lekar choos rahi thi maine phi uski gaand par vase line lagaya aur maine usko kaha ki mere lund ko thook se lathpath kar bhabhi ne bahut sara thuk lagaya maine lund uski gaand par rakha to usne kaha meri maa main to mari mujhe bacha lo aake, maine takat laga kar nishana lagay par lund ki topi jakar phans gayi aur bhabhi aagey bhagi dard se chilla kar choot gyi aur lund bahar aa gaya. Ab bhabhi taiyaar nahin tha tab maine uske dono hanth uske peticoat ke chithon se bandh diye aur usko takht par pet ke bal lita diya aur uski tangein bhi band di bhabhi boli salay harami bandh kyon raha hai maine kaha taki bhabgo nahin madarchod sali kutiya bahut bolti chupe chap padi rah nahin to randi bana kar apnay doston ke agey dal doonga sali gang rape kara ke randi bana daloonga roj rat mein chudogi aur maine apna lund uski gaand par rakha woh kasmasayi par maine uski dono choochipakdi aur apna lund gaand mein dal diya pehle dhakke mein supara gaya doosare min jara sa teesremein adha chauthe mein chauthai aur panchvein mein jaise hi lund andar hua madarchod chillane lagi hayyyyymar.

Gayiiiiiiiiiiiiiiii iiiiiiiiiiiiiisa lay harami nikal lund sale kaat daugi tera lauda kutton ko nadala to mera naam sunita nahin, bhosari wale baharrrrrrrrrnikal aaaaiiiiiiimar gayi reeebachaoooooooooo ooomaaaaaaaaaaaa aaaaaaaaaaa bhaooo oooooiiiiiiiiiiiiii i salay nikal kutte harami nikal, maine uske hothon parkabza kiya aur choosne laga woh tadap rahi thi aur main lagatar dhakke mar rah ha 25 30 dhakkon ke baad mera lund jhad gaya aur maine bhabhi ke hoth chode to bhabhi boli sale phd di meri gaand mainee kaha kahan phadi sali phadunga to ab aur maine lund bahar kiya aur bhabhi ke mooh mein thel diya aur bhabhi choosne lagi maine dekha bhahi ki gaand se khoon aane laga tha maine kaha sali madarchodteri gaand to pehle hi phat gayi hai ismein se to khoon aa raha hai. Bhabhi boli dard ho raha hai yar chod do maine kaha agar saath do to is gaand amarai ke baad chutti hai. Bhabhi boli lemaar madarchod sale harami kutte , maar meri gaand bhabhi ne karahte hue apni gaand upar kari maine bhi jhat se lund gaand par lagaya aur dhakka de diya bhabhi takhat par gir padi aur chillane lagi haimar gayi jalim salay mar gai madarchod , phat gayi meri gaand ban gayi main teri raand salay bana de mujhe randi bana de mujh eaapni raand choda bhi mari gaand le jalim le le meri gaand , bhabhi gaana gaane lagi maine tadatad dhakka mana chalu kiya aur dhakke marte marte marte bhabhi maza lene lagi aur tez mere yaar aur tez amr salay dumnikal gaya kya phat gayi teri nahin mar pa raha meri gaand jhantu slay meri khujli mita ale ret dal apni bhabhi ko chod salay suar chod apni bhabhi ki gaand aaj tune apji bhabi ke teeno ched chod dale salay nikal le rass apni bhabhi ka choos le sara ras is badan ka maintumhari hoon raja ,,,,maza aa gaya,,,,,,,maza a raha hai gaand marane ka aur tez mar ab to meri maaki bhi gaand mar lna yaar main apni maa bhi tujhse chdaoongi mar salay

Mar dhakka tez maar mainebhabhi ke hanth khool diya aur pair bhi bhabhi kutiya ki tarah baith gayi thai aur main usparha jam kar dhakka mar raha tha au bhabhikabhi apni choochi daati to kabhi bur mein ungli karti aur main dhaake marta ja raha tha tabhi bhabhi boli maingayi mere yaaar mare bur ka pani nikal raha hai, aur bhabhi jhad gayi idhar mera lund tight ho gya tha aur meri tezi ne dum tod diya aur mera lund ek bar phir unki gaand mein jhad gaya aur main bhabhi ke upar let gaya mera lund unki gaand mein tha aur bhabhi kichal padi thi main unke upar shanti se leta tha 15 minute baad maine unki gaand se lund nikala bhabhi tadap gayi kyonki gaand phat chuki thi aur jagah jagah se khoon nikal raha tha , maine bhaibhi se kaha khoonnikal raha hai boli nikalne de tune phadi meri gaand ab tu hi theek karega meri gaand aaz to maza aa gaya hai mer dewar ji tum angaye mere pati , tumne mujhe karaye swarg ke darshan jab chahe lotna meri izzat, main tumhari ho gayi hoon tumhare lund ki deewani ho gayi hoon. Aaj se tummere raja mere malik mere swami ho jab chahe jaise chahe jahan chahe chomain tumheinkuch nahin kahungi.

Phir maine bhabhi ko uthaya bhabhi thak gayi thi usko sahar dena pada chal bhi nahi paarahi thi boli gaand aur bur dono dukh rahi hai, main bhabhi utha kar godi meinpeshab karane le gaya phir uski gaand aur bur dono par maine jhandu bam laga diya ab to wo chillane lagi maine uske hothon ko choosna shuru kar diya 45 minute uske hothon ko choosa jab uski jalan kam huyi to dard kam ho gaya aur tb rat ke 10 baj rahe the aur usne khana bana ya aur humne khaya aur phir blue film dkehte hue hum so gaye , aaz is baat ko paanch saal ho gaye hai aur main aaj bhi usko chod raha hoon bas ab hum saath nahin rehte hai jab chahta hoon unke ghar jaa kar chodta hoon.

Ek din mein clg se dopahar mein ghar aya to dekha ghar ka darwaza khula hai aur andar se azeeb se aawazein aa rahi hain. Main andar ghusa to dekha ki bhabhi mere computer pe padi xxx movie dekh rahin hain aur ek mooli ko apni bur mein andar bahar kar rahi hain. Yed dekh muje ajib sa laga.meine kabhi bhabhi ke bare mein aisa nahin socha tha ki bhabhi aisa kar akti hain aur woh bhi mere computer par.main turant wapas bahar aa gaya aur phir awaz karte huye gadi khadi ki bhabhi bhagti hui aayi maine dekha bhabi ko paseena aa raha tha.bhabhi baukhlayi si thi. Maine unko dekha aur andar aa gaya bhabhi ne mujhe khana diya aur main khana kham kar let gaya uar so gaya sapne mein mujhe bhabhi aur mooli dikh rahithi aur kbhi lage ki main bhabhi ko chod raha hoon.sote mein mera lund is khayal se jhad gaya aur main uth kar baith gaya au bathroom mein jaa kar saff karke laut aya. Bhabhi ne mujhe chai pine ko bulaya.mere maan mein bhabhi ko chodne ke khyal aane laga.bahar aay to dekha ki bhabhi black saree aur low cut blouse bahut bahut sexy lag rahi thi bhabhi ka cleavage dikhe ja raha thajisko bhabhi notice nahi kar rahi thi mujhe chaidekar bhabhi mere pass baith gayi aur humbatein karne lage. Tabhi bhabhi ne dekha ki main lagatar unka choochi dekh raha hoon to puchne lagi kya dekh rahe ho to main sharma gaya aur bola kuch nahi bhabhi boli kuch nahi bhabhi. Is par bhabhi hamesha ki tarah muskura kar boli are yaar sharmao mat bol ki tum mere doodh dekhne ki kosish kar rahe thee , itna sunte hi mera fuse ud gaya main hairan , aur bhabhi se sorry bola. Yeh sun kar bhabhi hasi aur boli tum jawan ho tumhare man mein aurton ke prati kafi vichaar ate honge par apni bhabhike liye to na laoo.

Kuch der chup rehne ke baad main bola dekhiye bhabhi aapp bahut sexy ho main apko pasand karne laga hoon aur aap se pyaar karta hoon please mujhse shadi kar lo. Nahi to main mar jaoonga.bhabhi boli pagal tum pagal ho gaye ho aisa kahin hota hain kya , tumhare bahiya kya karenge phir aur tum aisa mat bolo.bhabhi please maan jao na. Bhabhi boli aab bas agey nahin aur meremooh par hth rakh daba diya aur mera mooh band kar diya . Maine bhabhi ki hatheli par choom liya bhabhi muskura di par boli kuch nahin. Meine bola bhabhi mein aap ko choom sakta hoon.woh boli karna ,mein tujhe mana thodi karungi.tum mere chote se dewar ho tum mujhe pyaar karoge to main rokoongi nahin. Maine bhabhi ke dono galon par pappi li.aur phir main bola bhabhi aur le loon . Bhabhi boli kitni leni hai maine kaha bahut saari. Aur main unko choomne laga . Phir ekdum se unke hothon par kis kiya to bhabhi chilla uthi yeh kya karte ho main phir choomen laga to woh virodh kar rahi thi par mein uske hath pakad liye aur unke hothon ko apne hothon ke shikanze mein jakad kar choosne laga bahbhi kasmasa rahi th chootne ki koshish kar rahi thi par main nahi chod rahatha. 10 minute baad jab saari lipstic aur hothon ka ras main hoos chuka tha to unko choda to bhabhi apne hoth saaf karte huye gussana lagi salay kutte kamineapni bhabhi par buri nazar rakhte ho kamine kahin ke haramzade saley bhabhi ke saath kya karta haiharami madarchod mein tere bare kya kya sochti thi..tumhein bhola bhala acha ladka samajthi thi aur tu mujhe hi chodna chahta hai mujhe choos raha hai.....haram ki aulad..

Maine bhabhi ko utha kar sofe par patak diya aur unko bola kutiya kamini slai madar chod behanchod bhosri wali sali sati sawitri baan rahi hai betichod mere computer pe xxx dekhti hai ari nangi pictures dekhti hai aur abhi natak karti hai madar chod aaj to tujhe nanga kar ke teri maa chodoonga. Bhabhi aaj tumko kas kar chodunga . Poori picture dikhaunga . Aaj agar picture naa dekhi to mera naam mintu nahin bhabhi lagatr mera virodh kar rahi thi aur isi virohd mein usn mujhe dhakka diya aur ek thapar mar diya mujhe tare nazar aa gaye meri pakad dheeli huyi to usne mujhe dhakka diya main gira woh bhagne lagi to maine uska paon pakad liya aur woh phir se takhat par giri. Usko chakkar aa gaya uski aankhein baand ho gayi aur maine usko apni god mein utha liya aur use apne kamre mein le aaya aur usko do jhapad raseed kiye unke gaal lal ho gaye.aur main bola bol khudse chudogi bhabhi jaan , yaphir kaho to aaj main rape karoon tumhara aur ek haanth se maine computer khola aur wahi picture laga di, bhabhi picture dekhne lagi. Maine uski choochi par hanth rakha to mera hanth jhidak diya aur boli salay kamine tu mujhko nahin chod payega.

Maine aaw dekha na taw aur sunita bhabhi kei saree pakad ka kheench li aur bhabhi meri bahoon mein aa gayi aur maine unke hothon par kabza kiya aur choosne laga lagataar chooste huye 20 minute mein hi bhabhi mast hone lagi maine bhabhi ke saree utar di aur bhabhi ki gaan dabane laga , phir aagey se bur par hanth lekar gaya to mujh peti coat gella hota laga maine kas kr choosna shuru kiya aur choochiyann umethne laga dabane laga au jaise hi choda to bhabhi bhagne lagi maine pada to unka blouse mere hanth mein aaya ar peeche se phat gaya neeche bra pehne thi woh bhagi main peeche bhaga aur usko seedi par pakad liya aur samne se blouse pakad kar kheench liya aur phir ek baar blouse phat gaya aur bra nazar aane lagi jo black thi. Maine bhabhi ko sedi par hi lita diya aur unko nochne laga bhabhi tilmlayi jaa rahi thi par chilla nahin rahi thi, maine unki bra pakdi uar kheench liya aurjaise hi khincha to majboot sangemarmar ke tarashe hue heree bahar aa gaye aur main ekhta reh gaya maine bhabhi ko lita diya aur unka peticoat pakad kar phad diya aur woh ekdum nangi ho gayi main mast ho use dekhne laga. Ekdumnistabdh reh gay mauka dekh bhabhi bhagi apne kamre mein main peeche bhaga bhabhi darwaza band kar rahi thi ki maine pai ada diya aur mujhe chot lagi bhabhi ne tapak se darwaja khol diya aur mera pair pakad liya aur boli chot to nahin lagi main hairan reh gaya aur shant ho gaya mere mooh se khuch nahin nikla ab main chup shant aur palta aur laut aaya. Mere dimag khali ho gaya amin apne kamre mein gaya aur picture band kar di.

Aur let gaya , tabhi mere piche bhabhi aayi boli kya hua mintu beta kya josh thanda ho gaya ab nahin chodoge apni bhabhi ko abey aaj sunhara mauka laga hai kalmile namile betichod chodo mujhe bas dar gaye ya jhad gayesalay maine kaha tha na ki tu mujhko nahin chod payega aane de apne bhai ko usko sab bataungi ki tune kaise mujhe choda hain. Maine usko dekha uski dono sngemarmar ki choochiyan hil rahi thi upar niche ho rahi thi jaisetaraju ke do palde main dekhta raha aur maine uski dono choochi pakad li aur uska mooh apne lund par dabane laga, woh gussane lagi aur maine unkee choochiyan masalna shuru kar diya aur ghundiyan kas kar aba raha tha unki siskariyan bad rahi thi maine use choochi mooh mein li aur choosne laga woh mere baal noch rahi thi hata rahi thi par main laga tar uski kabhi ek to doosri choohi choosta aur katta, woh machal rahi thi aaaaaaaaaaaaaaaaaaa aaaaaaaaaaaaaaa oiiiiiiiiiiiiyyyyya aaaauu uuusssssss sssssskar rahi thi maine aaw dekha na taaw aur apna lund nikal kar uske haath mein diya jisko pakdte hi woh hairan reh gayi ki 8 inch kalund mast khada mere hnth mein hai usne ankhein band ki aur mera lund chod diya maine usko apne upar khincha uar khade lund par baitha diya aur poora ka poora lund ek hi baar main andar kar diya woh chillane lagi salay madar chod bahar kar salay mar gayiiiiiiiiiiiimain saklay nikal baharrrrrrrrrrrrrrr rrrrrrrr dard ho raha hai salyyyyyyyyyyyyyyyy yyyyyyykhinch salay bahar khnichhhhhhhhhhhhhh hhh ma chod mere dewar at chod apni bhahi ko main teri maa saman hoon pllllllllllllllllll lllllllease mat chod chod do na aaaaaaaaaaa aaaaaaaaaaiiiiiiiii iiiiiiiidard ho raha hai salay madarchod nikalbahabr nikal please iiiiiiiiiiiiiiiiiii iiiiiiii uuuuuuuuuuunikal lo na mintu please.

Par main nahin mana maine uski kamar pakdi aur usko upar nichay karne laga phir usko godimein liya aur bahar sofe par lakar usko lia diya aur us par apni chakki chala dia main lagataar tej dhakke de raha ta aur woh chila rahi thi dheem karo please dheem kas kar nahin chodo chod do meri izzat ma looto, maine kaha sali jab chod kar aa gaya tha to mujhko josh dilane tuhi aayi thi aab chud sali madarchod bahut khujli hoti hai na teri bu mein aaj saari khujli door kar doonga sali behan chod aaj teri maa chod dalunda sali, aur main jor lagane laga bhabhi chilla rahi thi mat chod mintu thoda dheere dard ho raha hai please iiiiiiiiiiiiiiiiii u phir achanak sama badalne laga aur bhabhi ki aawa siskariyon mein badal gayi au swar badalne lage , chod lo mintu chod kas kar chod salay bahut khujli hai meri bur mein , phad dal sali ko bahut garmi hai sali mai chod aaj mein teri hoon aaj ke liye...waise bhi kai dino se land ki pyaasi hoon tabhi ter bhaiya rehte nahin hai aur kisi se chud bhi nahi sakti isiliye to xxx dekh ke apni bur mein mooli to gazar kel aur ungli karti thi...tumhare bhai ka lund chota hai theek se khada bhi nahin hota hai aur busy aadmi hai maza aa raha hai yaar chodo kas kar salay kas kar chod muhe bahut jaan hai meri choot mein dekhti hoon main kitna dum hai hai tujhmein dekhti hoon mein, lagatar bhabhi masti wali batein kar rahi thi mera josh badh gya aur maine uske hothon par hoth rakhe to abki bar woh bhi mera support kane lagi aur meresaath sath choosne lagi main laga taar dhakke de raha tha.maine uski dono tangein apne kandhe par rahi aur phir dhakak lagane laga mere jhatko aur dhakkon se bhabhi do bar jhad gayi aur maine kaha bhabhi main gaya bas choot raha hoon aur maine unki boor mein hi apna lund jhad diya bhabhi santust thi aur mujhe choom kar boli saly mera rapekar hi diya na main nahin chudna chahti thiaur tune mujhe chod diya saly kutte kamine, main bbhai munh se gandi batein sun kar stabhdh tha.

Woh boli beta kya mast lund hai tumhara aaj to maza aa gaya hai dilkar raha hai ki tumko hamesha ke liye apna pati bana loon par phi tumhare bhaiya kya karenge aur phir mujhse boli chalo yaar ab mujhe pna mast hanthi chatne do to aur phir icecream jaise chatne lagi 15 minute tak aur choosne aur chatne ke baad meine bhabhi se kaha mera pani nikal jayega to woh boli koi baat nahin jab bur mein le sakti ho to salay maintera pani apne mooh mein le sakti hoon chal bhosriwale mere mooh mein nikal pani, maine sara pani uske mooh mein nikal diya aur woh use pee gayi aur mujhe dekh kar boli salay sooar ki aulad dekha kaise piya sab, main gussa gaya uar usko utha kar khada kiya uar usko 5-6 chante mare to woh rone lagi kya hua jo mujhe maar rahe ho maine aisa kya kah diya maine usko pakda aur uski bur mein ungli karne laga aur uski bur jo jhanton ke saath thi chatne laga to kutiya boli kas ke chat mere yaar mainuski bur mien katne kaga aur nochne la aga to boli dhmee kar main kahin bhagi nahi ja rahi meine usse bola mein soore ki aulad hoon na isliya jor se dabaoonga aurkatunga sali haramzadi randi kutiyaa kamini sali madarchod aaj tere sare kas bal dhele kar doonga woh boli meri galiyon ka bura mat mano raja yeh to tumhare chacher bhai ne sikhayi hain woh mujhe aise hi chodte hainmaine kaha sali tera rape kiya tab bhi mast hai. Boli rape tune kiya hai mera par main to pehlr hi tere chahcerebhai se chud chuki hoon aur chod ke tu mera kya bigad lega waise bhi main nasbandi kara chui hoon mujhe jaise chahe chodo mujhe kuch nahi hona hai. Meine bola maa chod dunga aaj teri, kutiya chal apni bur dikha aur maine uski bu r ko chata aur usko bagal mein lita kar uski bagal mein let gaya aur dono tangien agey kar uski bur mein lund dala uski bur sooj gayi hi tightho gayi thi maine dhakka mara thoda sa gaya phir mara bhabhi chihunk padi dheere se yaar dard ho rahi hai.

Maine ek aur mara 3/4 andar tha uski ankhon se ansoonnikle maine chauthe dhakke mein lund poora andar kya aur phir pelne laga laga tar dhakkon se uski cheekh nikal rahi thi hai mar gayi jalim mar dala tune mujhe eeeeeeeeeeeeeeeeeee eeebas karrrrrrrrrrrrrrrrr rrr marrrrrrrrgayiiiiii iiiiiiiuiiiiuiui iiiiiiiiiiimaa bhaoooooopap bahaooooooooooooooo oomar ho raha hai please dheme chodo na please dheeme se mar daloge kya please dheme se iiiiiiiiiiii mar gayiiiiiiiiiiiiiiii iiimee rajaaaaaaaaaaaaaaaa aaaa. Main kuch sun hi nahin raha tha mere dimag mein mooli wal scene aa raha tha maine bhabhi ko pakda aur apni taraf mooh kar ke chhoth choosne laga bhabhi bhi saath de rahi thi mast ho gayi thi tabhi andar gela sa laga bhabhi jhad gayi thi thak gayi thi par main ruk nahinraha tha main seeha let gaya aur bhabhi mree upar baith gayi aur upar neechey hone lagi 10 minute mein main jhad gaya is round mein poore 35 minute lagae aur bhabhi ki bur phool kar gubbara ho gayi . Bhabhi boli mujhe peshab jana hai maine kahan mujhe bhi jana hai chalo saaath chalein hum sath mein peshab gaye mbhabhi ke mootne mein seeti ki awaz aa rahi thi unko jor lagan pad raha tha maine unko roka aur unko kaha jara ruko mujhe ek kaam hai bhabhi peshab karte huye rok di maine unko uthaya aur apne lund par bitha diya aur mootne ko kaha to bhabhi boli pagal ho gaye ho main kaise mootongi maine kaha jor mar saali moot ab maza ayega , bhabhi ne jor laga man bhi unke andar mootna shuru kar diya dono sath mein peshab kar rahe the sari pesah dhere se bahar aa rahi thi 5 minute baad maine jab unko utara to woh sharam ke mare lal ho gayi thi aur mere se nazar nahin mila rahi thi , maine kaha kyon bhauji maza awa ki nahin.

Bhabhi muskura di aur shower chala diya aur hum nahane lage woh mera lund dhone lagi maine unki bur par hanth ,mara aur aundar ungli karke saaf karne laga phir 15 minute bad hum bahar nikle don fresh thee maine bhabhi ke chutar par hanth rakha tio unki gaand ke ched par hant pada aur maine usmein ungli daal di bhabhi uchal padi aur bhagi main peeche tha bhabhi kamre ghus gayi aur andar se darwaza band kar liya aur boli salay bur kya dedei ab gaand ke peeche pada hai. Maine kaha please bhabhi darwaza kholdo nahin to tod doonga aur maine dhakka mara sitkani toot gayi bhabhi bistar par leti thi aur apne hath apni gand par rakhe thi nahin doongi salay ab kya meri maa hi chodega salay isi dinke liye khila pila rahi hoon, itna mast lund kiyahai taki meri hi gaand phad de, maine kaha madar chod apni gaan mara le nahin to main tumhari maa chod dalunga bhabhi bahut maza ayega ek bar mara logi gaand to hamesha kahogi meri gaand pehle maro baad mein meri bur chodna. Par bhabhi apni gaand ka ched nahi khol rahi thi tab maine unka hanth pakad kar ghaseeta aur bhabhi bistar se neeche gir padi maine urant uthaya aur unka ghutna sehlane laga bhabhi rone lagi hai maine tumhara kya bigara hai jo mera rape kiya ab meri gaand marna chahte ho please chod do maine chod to diya hai yaar par ek baar main tumhari gaand marna chahta hoon phir tujhe hanth bhi nahin lagaoonga. Bhabhi boli phir to nahin pareshan karoge pakk maine kaha pakka.maine kaha pakka bhabhi.

Phir bhabhi uthi aur mere pass ayi aur mjhe choom kar boli dekho tumhare bhai sahab meri gaand mar chuke hai mujhe dard hota hai aur tumhara to itna bada hai ki darr lagta hai please dheere dheere karna . Maine kaha theek hai maine unki gaand dekhi aur apni ungli dal di bhabhi chillai abey dheeme dal salay lagta hai, maine dhyan nahin diya aur tezi se ungli andar bahar karne laga main ungli se gaand mar rha tha aur unki choochi choos raha tha bhabhi bhi choochi utha utha kar choosa rahi thi sali ekdum randi ki tarah kam kar rahi thi , maine apna lund unko choosne ko kaha to choosne lagi mera lund mooh mein poora lekar choos rahi thi maine phi uski gaand par vase line lagaya aur maine usko kaha ki mere lund ko thook se lathpath kar bhabhi ne bahut sara thuk lagaya maine lund uski gaand par rakha to usne kaha meri maa main to mari mujhe bacha lo aake, maine takat laga kar nishana lagay par lund ki topi jakar phans gayi aur bhabhi aagey bhagi dard se chilla kar choot gyi aur lund bahar aa gaya. Ab bhabhi taiyaar nahin tha tab maine uske dono hanth uske peticoat ke chithon se bandh diye aur usko takht par pet ke bal lita diya aur uski tangein bhi band di bhabhi boli salay harami bandh kyon raha hai maine kaha taki bhabgo nahin madarchod sali kutiya bahut bolti chupe chap padi rah nahin to randi bana kar apnay doston ke agey dal doonga sali gang rape kara ke randi bana daloonga roj rat mein chudogi aur maine apna lund uski gaand par rakha woh kasmasayi par maine uski dono choochipakdi aur apna lund gaand mein dal diya pehle dhakke mein supara gaya doosare min jara sa teesremein adha chauthe mein chauthai aur panchvein mein jaise hi lund andar hua madarchod chillane lagi hayyyyymar.

Gayiiiiiiiiiiiiiiii iiiiiiiiiiiiiisa lay harami nikal lund sale kaat daugi tera lauda kutton ko nadala to mera naam sunita nahin, bhosari wale baharrrrrrrrrnikal aaaaiiiiiiimar gayi reeebachaoooooooooo ooomaaaaaaaaaaaa aaaaaaaaaaa bhaooooooooiiiiiiii iiiiiii salay nikal kutte harami nikal, maine uske hothon parkabza kiya aur choosne laga woh tadap rahi thi aur main lagatar dhakke mar rah ha 25 30 dhakkon ke baad mera lund jhad gaya aur maine bhabhi ke hoth chode to bhabhi boli sale phd di meri gaand mainee kaha kahan phadi sali phadunga to ab aur maine lund bahar kiya aur bhabhi ke mooh mein thel diya aur bhabhi choosne lagi maine dekha bhahi ki gaand se khoon aane laga tha maine kaha sali madarchodteri gaand to pehle hi phat gayi hai ismein se to khoon aa raha hai. Bhabhi boli dard ho raha hai yar chod do maine kaha agar saath do to is gaand amarai ke baad chutti hai. Bhabhi boli lemaar madarchod sale harami kutte , maar meri gaand bhabhi ne karahte hue apni gaand upar kari maine bhi jhat se lund gaand par lagaya aur dhakka de diya bhabhi takhat par gir padi aur chillane lagi haimar gayi jalim salay mar gai madarchod , phat gayi meri gaand ban gayi main teri raand salay bana de mujhe randi bana de mujh eaapni raand choda bhi mari gaand le jalim le le meri gaand , bhabhi gaana gaane lagi maine tadatad dhakka mana chalu kiya aur dhakke marte marte marte bhabhi maza lene lagi aur tez mere yaar aur tez amr salay dumnikal gaya kya phat gayi teri nahin mar pa raha meri gaand jhantu slay meri khujli mita ale ret dal apni bhabhi ko chod salay suar chod apni bhabhi ki gaand aaj tune apji bhabi ke teeno ched chod dale salay nikal le rass apni bhabhi ka choos le sara ras is badan ka maintumhari hoon raja ,,,,maza aa gaya,,,,,,,maza a raha hai gaand marane ka aur tez mar ab to meri maaki bhi gaand mar lna yaar main apni maa bhi tujhse chdaoongi mar salay

Mar dhakka tez maar mainebhabhi ke hanth khool diya aur pair bhi bhabhi kutiya ki tarah baith gayi thai aur main usparha jam kar dhakka mar raha tha au bhabhikabhi apni choochi daati to kabhi bur mein ungli karti aur main dhaake marta ja raha tha tabhi bhabhi boli maingayi mere yaaar mare bur ka pani nikal raha hai, aur bhabhi jhad gayi idhar mera lund tight ho gya tha aur meri tezi ne dum tod diya aur mera lund ek bar phir unki gaand mein jhad gaya aur main bhabhi ke upar let gaya mera lund unki gaand mein tha aur bhabhi kichal padi thi main unke upar shanti se leta tha 15 minute baad maine unki gaand se lund nikala bhabhi tadap gayi kyonki gaand phat chuki thi aur jagah jagah se khoon nikal raha tha , maine bhaibhi se kaha khoonnikal raha hai boli nikalne de tune phadi meri gaand ab tu hi theek karega meri gaand aaz to maza aa gaya hai mer dewar ji tum angaye mere pati , tumne mujhe karaye swarg ke darshan jab chahe lotna meri izzat, main tumhari ho gayi hoon tumhare lund ki deewani ho gayi hoon. Aaj se tummere raja mere malik mere swami ho jab chahe jaise chahe jahan chahe chomain tumheinkuch nahin kahungi.

Phir maine bhabhi ko uthaya bhabhi thak gayi thi usko sahar dena pada chal bhi nahi paarahi thi boli gaand aur bur dono dukh rahi hai, main bhabhi utha kar godi meinpeshab karane le gaya phir uski gaand aur bur dono par maine jhandu bam laga diya ab to wo chillane lagi maine uske hothon ko choosna shuru kar diya 45 minute uske hothon ko choosa jab uski jalan kam huyi to dard kam ho gaya aur tb rat ke 10 baj rahe the aur usne khana bana ya aur humne khaya aur phir blue film dkehte hue hum so gaye , aaz is baat ko paanch saal ho gaye hai aur main aaj bhi usko chod raha hoon bas ab hum saath nahin rehte hai jab chahta hoon unke ghar jaa kar chodta hoon.

Kirayedar Madam Ki Chudai..

Dosto mujhe shuru se hi shadishuda aurato me dilachaspi zyada hai| usaka karan ye hai ki shadishuda auratom ka yauvan aur unake chehare par shadi ke bad jo chamak nahoti hai use dekhakar mere sharir me ek bijali si daud jati hai tab mujhase apane ling par kabu hi nahi kiya jata aur mujhe hastamaithun karake ise shamt karana padata hai| halamki kolej me topar hone ki vajah se kai ladakiyam mujhase badi impresd hai par unake yauvan me mujhe vo baat nazar nahi ati jo ek vivahit mahila ke yauvan me hoti hai| shadi ke bad naya naya smbhog ke bad unake sharir me ek alag hi badalav a jata hai| unake nitmbo me jo kasav aur sharir me jo bharav ata hai usaki baat kuch alag hi hoti hai abhi kuch hi samay ki baat hai us samay mere ghar me naye kirayedar ae| unaki shadi ko abhi do hi sal hue the aur vo pati patni dono varkimg the| rajesh ek maltineshanal kmpani me job karate the aur rita mere hi kolej me prophesar thi|

dono kuch hi samay pahale dilli me ae the isalie unhe naye ghar ki talash thi| chunki klas me hamesha top karata tha to aksar meri rita se sabjekts ko lekar baat hoti thi| ek din unhone mujhase kirae ka ghar dhundane ke bare me pucha to maine unhe apane ghar ko kirae par lene ke lie kaha, unhe ghar pasmd a gaya, aur vo kolej ke pas bhi tha isalie unhone ghar kirae par le liya| maine unase ghar par padhana shuru kiya aur jab unako karib baith kar dekha to mai pagal ho gaya| rita ke sharir me jo baat thi kya kahane, ek dam gora rmg, bilkul slim bodi aur khadi hui chuchiyam, kad karib pamch phut sat imch aur khubasurati itani ki kisi ka bhi ji lalacha jae| mere sath bhi aisa hi hua| ab padhai me to dimag hi nahi lagata tha|

maine aksar unake karib jane ke mauke talashane shuru kar die| ek bar unake pati kisi kam se kuch se kuch dinom ke lie bahar gaye tab maine rita ke karib jane ke aur mauke talashane shuru kar die| unake bedarum ki ek khidaki us raat ko khuli thi| maine karib adhi raat ke samay usamem jhamk kar dekhana shuru kiya kyomki tab tak mere sab ghar vale so chuke the| rita ke kamare me jo nazara tha use dekhakar mai pagal ho gaya| rita apane bed par nagn avastha me leti hui thi aur apani yoni ko masal kar kar sisakiyam le rahi thi| mano aisa lag raha tha ki kitane dinom smbhog n kiya ho| mere hath mere ling ka kadapan mahasus kar rahe the aur maine tabhi vahim hastamaithun kiya| raat bhar mujhe nimd nahi ai|

agale din kolej se jab mai vapis aya to dekha mere sab ghar vale kahim bahar gaye hue the maine ghar ki chabi ke liye rita se pucha to rita apane kamare se bahar ai aur mujhe boli ki chabi to nahi hai par tab tak ke lie tum mere kamare me baith jao| us samay unhone bhi kolej se akar chenj hi kiya tha to unhone short naiti dali hui thi| vo mere samane hi sophe par baith gayi aur mujhase baatem karani lagi| baatem karate hue mujhe dhyan aya ki jis tarah tamge khol kar vo baithi thi unaki jamghe dikhai de rahi thi| aur dhyan dene par maine paya ki unhone andar kuch nahi dala hua tha| mere ling par mera kabu n raha aur vo tan kar khada ho gaya| tabhi unhone mujhase kaha ki raat ko chorom ki khidaki me dekhana thik nahi| mai ghabara gaya ki inhe kaise pata chala kal raat ke bare mem|

rita - ye thik nahi hai koi aur raat ko tumhe hastamaithun karate hue dekh leta to, mai jo bhi kar rahi thi apane kamare me kar rahi thi, age se dhyan rakhana|

maine thoda jhuk kar unaki tamgom ke bich me dekhana shuru kar diya|

rita - ye kya kar rahe ho| kaham dekh rahe ho?

maine kaha ab to mai kamare ke andar hun|

rita - bade samajhadar banate ho| vo mere mmsube jan gayi thi|

maine himmat kar ke unaki tamgo par hath rakh diya|

rita - bas tamgo se hi pyar hai ya age bhi badhana hai|

vo boli - aksar rajesh to bahar rahate hai aur mujhe akele rahana padata hai| unhe mere yauvan ki pyas ki koi kadar nahi hai| isalie mujhe akelepan me yum sisakana padata hai| par tumhe kal raat dekh kar mujhe bhi kuch ho gaya| kitana bada ling hai tumhara| lagata hai badi blu filmem dekhate ho aur hastamaithun kar kar ke aisa lamba kar liya hai| mai isaka svad chakhana chahati hun ab to mere dil ki baat unhone kah di| maine apane dono hathom se unaki jamgho ko sahalana shuru kar diya| sath hi unake homtho ki or apane homth badha die, ham ek dusare ko kafi der tak kis karate rahe aur phir mai unake sath unake bedarum me chala gaya|

rita - mera yauvan dekhana chahoge aur ye kahate hi unhone apani naiti utar di|

sach me shadishuda aurat ke nagn jism ko mai pahali bar dekh raha tha aur bekabu hokar maine unake boobs chusane shuru kar die| aur vo aur kasate chale ho gaye aur puri tarah khade ho gaye|

rita - pahale kabhi smbhog kiya hai|

maine kaha - nahi|

to phir to tum abhi kachche ho,,, ye kahate hue unhone meri paimt utar di maine amdaraver nahi pahana tha aur mera ek bar skhalit bhi ho gaya tha| gili paimt dekh kar rita boli| rita - bas itane me hi jhad gaya| to tum kya karoge|

maine kaha - pahali bar kisi shadishuda ko nagn dekhakar ye jhad gaya| abhi das bar aur jhad sakata hai|

tab maine kaha - mujhe apaki yoni dekhani hai| vo bed par let gayi aur apani tamge khol di| maine pahali bar kisi choot ko dekha tha maine sidha use chatana shuru kar diya |

rita - are bade bekabu ho| chalo koi baat nahi| pahali bar to aisa hi hota hai|

maine apani jibh unaki yoni me phirani shuru kar di| vo sisakane lagi|

maine jibh ko aur andar dalana shuru kar diya|

rita - are aise chusoge to mai jhad jaumgi| maine spid thodi kam kar di aur unake upar akar unake boobs dabane shuru kar die|

rita - mujhe tumhare ling ka test karana hai| maine kaha to a jao siks nain ki pozishan mem

rita - vo kya hai|

maine kaha - blu philms nahi dekhi kya kabhi|

rita - vo to tum kids dekhate ho| ham to vo sab asali me karate hai|

aur maine unako siks nain ki pozishan me lakar apana ling unake muh me dal diya aur unaki yoni chatane laga|

ham dono ne apani spid badha di aur maine dekha ki unaki tamge kasati ja rahi hai aur ek dam unaki yoni ne itani zor
se mere muh par apana pani jhad diya ki mera pura muh gila ho gaya| maine aisa pahale kabhi blu philms me bhi nahi dekha tha|

rita - dekha ladake itana tumhara das bar me bhi nahi jhad sakata jitana ham ek bar me nikal dete hai|

mai bola - isake svad me to maza a gaya aur kaha ki mera viry bhi to chakh kar dekho lo
unhone kaha - to a jao - pahale unhone mera ling apane boobs me daba kar upar niche karana shuru kar diya, mujhe maza ane laga| mera ling aur kada ho gaya| tab unhone mere supade ko apane muh me le liya| dhire dhire vo use pura nigalane lagi|

meri uttejana charam par jane lagi aur bmduk ki tarah maine unake muh ke andar viry ki dhar mar di|

rita - ye to amrut se bhi zyada svad hai| maza a gaya| par ab meri pyas kaun shamt karega| tum to do bar jhad chuke ho|

ab to tumhara khada nahi rahega zyada der|

maine kaha - mai to abhi pahale ki tarah hi hun aur kai bar aur muth ki dhar chod sakata hun| par apaka nahi pata, itana zyada jhada hai apane, ab bhi hai uttejana apamem baki?

rita - aurat ki pyas ko mard kabhi samajhe hi nahi| mera sharir jaldi hui mashal ki tarah hai| tum jaise ladako ke to kai lund jala sakata hai|

maine kaha - aisi baat to a jao ek bar aur mere lund ki giraft mem|

rita - kafi jaldi kafi kuch sikh rahe ho

maine kaha - apaka student hun na

rita - ao kitane dinom se ye seal tuti nahi hai ao ise tar - tar kar do|

maine apana supada unaki choot par rakh diya aur dhire dhire us par pherane laga|

rita - tum to mujhe jala doge| pliz ab andar dal do|

maine zor lagana shuru kiya par mera itana mota aur kada tha ki andar nahi ja raha tha asani se| maine zor lagaya to unaki chikh nikal gayi| par lund andar nahi gaya aur choot se khun nikalane laga|

rita - sahi me tum to mard se kuch zyada hi ho| khun nikal diya meri choot se par andar nahi gaya| thodi sa jhag laga kar sabun ka phir koshish karo|

mai bathroom se sabun ka jhag le kar aya aur use lund par masal liya| ab maine zor lagana shuru kiya| rita dard se chillane lagi aur maine phir puri takat laga kar ek zor ka jhataka diya aur mera lund choot se khun ke chimte mere muh par marate hue andar chala gaya| rita ki sams gale me hi atak gayi|

rita - bada dard ho raha hai par aisa maza bhi kabhi nahi aya| ab to meri choot ko jala do ek dam|

maine jhatake badhane shuru kar die| unake muh se uuuhah aahah aaaahah ki avazem tej a gayi|

rita - aur zor se, aur zor se, phad do mujhe aur meri choot ko

maine jhatake badhane shuru kar die aur unaki chuchi chusani shuru kar di|

unaki uttejana aur badhane lagi aur tab maine dhyan diya unake boobs aur kade ho gaye tab mujhe lagane laga ki ab ye jhadane vali hai maine jhatake tej kar die aur tabhi mera jhad gaya par maine jhatake dene chalu rakhe aur vo itani garam ho gayi ki unaka bhi jhad gaya maine unake pani ko apane muh par masal liya aur ham dono thmde pad gaye| mai unake sath hi unake bistar par leta raha kuch der tak unake sath chipak kar| abhi bhi ham dono apane jism ki sirahan mahasus kar rahe the|

rita - tumhara viry to meri choot me andar chala gaya, agar mai pregnemt ho gayi to, maine kaha chimta mat karo bazar me kai goliyam ati hai jo aisa hone par bhi pregnensi rok deti hai|

Hindi Adult Story - दीदी को मैंने चोदा...

गया एक पुलिस कांस्टेबल के साथ, मेरे जीजा रिज़र्व पुलिस में थे तो उनको आउट स्टेशन जाना पड़ता था। और मेरे दीदी और जीजाजी के सम्बन्ध उतना क्लोज नहीं था क्योंकि उनकी उमर २५ थी जब वो दीदी को शादी किये थे। मेरे दीदी मेरे घर के बाजु में ही घर लिये थे। पता नहीं कब मेरे दीदी और मेरे भैया के साथ अफैर हो गया।


मुझे पहले पहले कुछ ऐसा लगता था कि मेरे भैया और दीदी के बीच में कुछ है। मैं उन दोनो के उपर शक करता था। एक बार दोपहर में मैने कोलेज से आया तू मेरे दीदी और मेरे भैया रूम में बैठ के जोर जोर से बात कर रहे थे तो में रूम का दरवाज़ा खोलके अंदर चला गया देखा तो दीदी ने उसके बच्चे को दूध पिला रही है वो भी पूरा ब्लाउज़ खोलके और भैया आराम से बैठ के देख रहा है मैने सोचा कि बच्चा को दूध पिला रही है तो उसमे शक करने कि बात नहीं है। फिर भी मेरे मन मे शांति नहीं था सिर्फ़ उन दोनो का है बात दिमाग में हर वक्त चलता था।

कुछ महीने के बाद रात मे मैं धीरे से घर आया रूम में दीदी, भैया और दीदी का बच्चा सब सो रहे थे तो मैने डिनर करने के लिये किचन में गया और तभी पावर कट हो गया। तो मैने खाना लगा के हाल में आया तो रूम के अंदर से कुछ आवाज़ आ रही थी (भैया का रूम तो हाल में अटैच था। ) थ मेरे को शक हो गया कि रूम में शायद हो दोना कुछ कर रहे हैं और मैने धीरे से रूम के दरवाज़ा पर कान रख के सुना तो पया कि मेरे भैया बड़ी जोर से सांस ले रहा था और दीदी भी कुछ अजीब से आवाज़ कर रही थी। कुछ देर बाद में एक अजीब स्मेल रूम से आने लगा और फच फच कर के बहुत जोर से सांस ले के दोनो आवाज़ मिलकर रूम से आ रहा था मेरे को वो स्मेल और आवाज सुनकर मेरे लौड़ा खड़ा हो गया मैने बहुत जल्दी में खना खा लिया और बड़ी हिम्मत से रूम का दरवाज़ा खोल के अंदर गया तो खाट के उपर बच्चे को सुला के भैया और दीदी नीचे ज़मीन पर एक के बगल में सो रहे थे। उस रात से मैं उन दोनो का पीछा करना शुरु किया तो मुझे वो दोनो रंगे हाथ पकड़े गये

वो रात मेरे को पता कि आज भैया और दीदी मस्त चोदने वाले है क्योंकि मेरे घर में उस दिन कोई बी नहीं थे सिर्फ़ मैं, भैया, दीदी और उस का बच्चा को छोड़के। तो उस रात मैने बड़ी जल्दी सोने का नाटक किया और रात ९ बजे तक बेड पर चला गया। और १० बजे को उठा और रूम की खिड़की के पास जाके बैठ गया। रूम की खिड़की को मैने पहले ही थोड़ा सा खोल के रखा था और परदा को पूरा छोड़ दिया था। जैसे मैं खिड़की के पास तो वो दोनो ऐसे ही कुछ बातो में खोये हुए थे। अचानक भैया ने दीदी को समूच किया तो मेरा हार्ट बीट बहुत तेज़ वो गोया। मेरे दिल में थोड़ा सा डर हो रहा था। भैया समूच करने के बाद दीदी को गाली दिया कि वो दूध पिये थी। भैया को दूध से नफ़रत थी। वो दूध या दूध के स्मैल से नफ़रत करता था। दीदी ने तुरंत बाथरूम में जाके ब्रुश करके आयी।

फिर ५-१० मिनट बाथ किया और फिर से भैया दीदी को समूच किया और अपने हाथ को उस के बूब्स पर रख के जोर से दबाना शुरु किया। दीदी भी भैया का लिप्स और जीभ को अपने मुंह में लेके बड़ि मजेदार से किस कर रही थी। भैया ने दीदी की नाइटी को उपर उठाया और उसे निकाल के ज़मीन पर फेंक दी। दीदी अकसर घर में ब्रा नहीं पहनती थी। और वो नंगी हो गयी। भगवान की कसम दीदी की जांघें तो कमाल की चीज़े है। साली के पैर एक दम बनाना के पेड़ के जैसा है। इतनी बड़ी बड़ी बूब्स थी इसकी कि भैया का पूरा फ़से उस में छुप जा रहा था कि वो बूब्स को चूस रहा था। भैया ने दीदी के दोनो बूब्स को ऐसे चूस रहा था कि कोई आदमी बहुत सालो तक प्यसा हो और उसे पानी मिल गया हो। थोड़ी देर बाद में भैया ने दीदी के दोनो पैरों को फैला दिया और दीदी की चूत दिखने लगी उसके पूरा प्युबिक हेयर से छुपा हुआ था। भैया ने दीदी के चूत को उंगली से फ़ैला दिया और अपने मुंह को चूत में डालकर चूसने लग गया। कुछ ५ मिनट तक वो दीदी के चूत को चूस रहा था तो दीदी ने पूरे मूड में आ चुकी थी और वो बोल ने लगी कि चूस राजा मेरे चूत को और चूस खा जा मेरे चूत को।


आज तो बहुत खुजली हो रही है मेरी चूत मैं चूसले, पूरा पानी मेरे चूत में से अह्ह अह्ह अह्ह आअ…अ…।।अ।अहह कर रही थी। ५ मिनट के बाद भैया ने दीदी कि चूत में से निकाल कर दीदी को उसके होंथों पे किस्स करके दीदी का लिप्स को चूस ने लगा। दीदी ने भैया का टी शर्ट निकाला और भैया को गर्दन के पास किस करने लगी और गर्दन से लेकर ऐसे ही उसके छाती के पास उसके छाती को किस करके उसके शोर्ट्स को निकाल दिया और भैया का ८” तगड़ा मोटा लौड़ा पूरे तरह से खड़ा हो गया था। दीदी ने भैया का लौड़ा पकड़ लिया और हाथ से शेक किया और उसके उपर का स्किन को पीछे कर के भैया का लंड को मुंह में ले के चूसना शुरु कर दिया। भैया बोले चूसले जान मेरे लौड़े को चूसले आहाह अह्हह्हह्ह अह्हह्हह्हह बड़ा मज़ा आ रहा आता है जब तु मेरे लौड़े चूसती है कर के बोलने लगा

५-१० मिनट के बाद भैया ने दीदी का सिर पकड़ के उसके माउथ में धक्का देना शुरु किया और दीदी को उपर उठके उस खाट के उपर में सुला के अपने लंड को हाथ में लेके सम्भालने लगा और दीदी के चूत के उपर रख के एक ही झटके में अपने पूरे लंड को अंदर डाल दिया। दीदी ने एक जोर सी आवाज़ की और बोली मादरचोद धीरे से कर में दीदी के मुंह से वो बात सुनके हैरान हो गया और पता चला कि भैया और दीदी दोनो गंदी तरह से गाली दे के चोदते हैं। और भैया ने दीदीके चूत में अपने लंड को अंदर और बाहर कर रहा था और दीदी धीरे धीरे सिसकार कर रही थी अह्हहह्ह अह्ह रा………ज……अह्हह्ह……अझह्हह्हह्हह्हह कर के सिसकार कर रही थी।

५-१० मिनट के बाद भैया ने अपने स्पीड ज्यादा करने लगा और बोलने लगा कि तेरी मां को चोदु तेरी बहन को चोदु तेरी चूत फ़ाड़ के रख दूंगा साली रंडी चल चोद जोर से चोद हरामज़ादी रंडी साली चोद मुझे चोद कर के गाली देने शुरु किया बहुत जोर जोर से चोदने लगा। इतना जोर से चोद रहा था कि उन दोनो का चोदने के साउंड इतनी जोर से आ रहा था और दीदी कि चूत में से कुछ व्हाइट कलर में तरल आने लगा और पूरा रूम में फ़चाक फचाक फचाक करके आवाजें आने लगा। और दीदी बोलने लगी कि मादर चोद और जोश से चोद मुझे मेरी चूत पर दे राजाआआआ मेरी चूत फाड़ दे बहुत अंदर तक चला गया है तेरा लौड़ा चोद रे साले मादर चोद मुझे और जोसे से चोद मेरी मां बहन को भी चोद ले राजा तेरी लौड़ा को सारी दुनिया की चूत कुर्बानी है राजा चोद आअहहा आआआआआअह्हह्हह्हह्हह्हह अह्हह्हह्हह्हह्हह स्सस्सस्सस्स स्सस्सस्सस्सस्सस्सहूऊऊऊऊऊऊऊओदूऊऊऊऊ अह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह कर के चिल्लाने लगी और मेरे भैया ने भी गंदी गंदी गालियो से गाली दे के चोद रहा था

मां कसम भैया ने ठीक ४५ मिनट तक लगातार दीदी के चूत को चोद के फाड़ दिया और उसने पूरा पानी दीदी के चूत में निकाल दिया और दीदी के चूत से अपने लंड को निकाल दिया और साइड में सो गया यहां दीदी ऐसी सो पड़ी थी जैसे किसी को अपना चुदा हुआ चूत दिखा रही है और दीदी के चूत को बड़ा हो गया था और उसमे से भैया का पानी नीचे गिर थे हुए दिख रहा था। १० मिनट तक दोनो शांत पड़ गये थे। १० मिनट के बाद दीदी बोली राजा फिर से करना दूसरे राउंड तो भैया बोला तेरी मां को चोदू साली तेरी प्यास भी जाती नहीं है जा के लकड़ी ले के आ के तेरी चूत में रख के सो जा साली रंडी हरामी कर के बोल के सो गया और दीदी ने बोला ठीक है तो सुबह ५ बजे को उठी हूं और सुबह मुझे खूब चोद लेना अभी सो जा कर के बोली और सो गयी।

मैने उसके बाद बाथरूम में गया और लगभग ४५ मिनट तक जो देखा था वो पूरा जोश को सिर्फ़ २ मिनट के हाथ मारने पे पूरे के पूरा पानी निकाल दिया।

ठीक महीने बाद मेरे भैया की शादी हो गयी और हमारे घर के उपर और २ रूम बना दिया ताकि भैया को शादी के बाद परायिवेसी दिया जाये और कोई मेहमान आये तो भी दूसरे रूम का इस्तेमाल होगा कर के सोच के २ रूम बना दिया।

भैया की शादी होने के महीने दो महीने के बाद एक रात ऐसा हुआ कि मेरे ज़िन्दगी का आसमान खुल गया।

हर समय के तरह दीदी जब जीजा नहीं वो तो हमारे घर में ही रहती थी।

वो हमारे घर में सोती थी।

उस रात वो रूम में सोने को आई। जैसे भैया उपर रूम में चला गया। में खाट के उपर सो रहा था और दीदी ज़मीन पर बेड लगा के सो गयी। मेरे को नींद नहीं आ रही थी क्योंकि मेरे को रोज़ हाथ मारने का प्रक्टिस है और एक बार अपना पानी गिराने के बाद ही मेरे को नींद आती थी। लेकिन उस रात दीदी थी तो मैन ऐसे ही सोने की कोशिशअ रहा था। कुछ १२ बजे के आस पास तक मेरे को नींद नहीं आयी थी और मैने दीदी को घूर घूर के देख रहा था जैसे वो अपना हाथ और पैर हिला रही थी तो उसका नाइटी उपर वो हट रहा था, तो मैं कोशिश कर रहा था कि उसका पैरों को उपर तक देखने की। ऐसे ही देख रहा था तो दीदी ने अचानक बेड शीट को अपने पैर पर लगा के अपनी चूत में उंगली करनी शुरु कर दिये और उनके प्युबिक हेयर में उनका उंगली जैसे मूव वो रहा था आवाज आने लगा। १०-१५ मिनट तक दीदी उंगली कर रही थी तो मैन खाट के उपर बैठ गया और सीधे दीदी को घूरने लगा।

जैसे दीदी उंगली करके आंख खोली तो मेरे को देख के हैरान हो गयी और पूछी ऐसे क्यों बैठा है। और मैने कहा दीदी मैने देखा कि आप उंगली करते हुये।

दीदी बोली क्या बोलता है तुझे शरम नहीं आती है ऐसे बात करने में।

मैने बोला दीदी मेरे को पता है कि तुझे भैया रोज़ चोदता था और अब उस का शादी हो गयी तो तुम उंगली करले रही हो।

दीदी बोली क्या उल्लु के जैसा बात करता है तेरे को क्या पता, कैसे पता मलूम है तू क्या कह रहा है। मैने बोला मैने सब कुछ देखा है। दीदी थोड़ा सा डरा हुई थी मैने बोला दीदी डरो मत मैं किसी को नहीं बोलने वाला हूं।

बस मेरे को एक बार तेरे को चोदना है

दीदी बोली हरामज़ादे मेरे को चोदेगा?

मैं खाट से उतरा और सीधा उसके बूब्स पर हाथ रखके उसे किस करने लगा


शुरु में वो थोड़ी न की और वो भी जोश में आ गयी। मेरे मन में खुशी ही खुशी हो रहा था।

मैं दीदी का मुंह में मेरा मुंह डाल के चूस ने लगा वो भी साथ दे रही थी उसने मेरे पूरे जीभ को अपने अंदर ले लिया। मैने उसके दोनो बूब्स को दबाने शुरु किया इतने बड़े बड़े बूब्स थे कि मेरे दोनो हाथ में एक नहीं आ रहा था। मैने तो बड़े बड़े बूब्स के औरतों को देखा हूं वो सभी लूज़ लगते थे लेकिन दीदी के बूब्स तो एक दम टाइट था और क्या कलर था उसके निप्पल कम से कम १” तो था मैने जी भर के उसका बूब्स को चूसा उसके निप्पल के साथ खेला करता उंगलियों के बीच में उसे जोर से दबाया दीदी धीरे से सिसकार कर रही थी। मैने उसके नाइटी उतार दिया और उसको मेरे सीधे आंखों के सामने मेरे बाहों में नंगा देख कर मेरे को लगा कि ये तो सपना है।

ऐसे औरत को तो नंगा में मेरे साथ बिठा सकता हूं ये तो में सपनो भी नहीं देखा था। मैने उसके चूत चाटने लगा पहली बार था न तो उसके लुब्रिकेंट मेरे मुंह में आने लग गया और मेरे पूरा मुंह उसके पानी से गीला हो गया मैने उसके चूत को चोद के मेरा ट्रैक पैंट उतार के मेरा ८” के लंड को उस के मुंह में रखने को दिया। तो दीदी बोली बहन चोद साले पूरे घर वालों का लौड़ा बड़ा है तेरे भैया का भी और तेरा भी। उधर तेरा भैया मेरे को चोद के उस रंडी साली तेरी भाभी को चोद रहा है। नया चूत मिला है न उसको इसलिये मुझे टच करने को भी नहीं आता है। आज से तू ही मेरे को चोदेगा इस रंडी को तू ही चोदना। अगर वो नया चूत चोद रहा है तो में भी नया लौड़ा से चुदवाउंगी। साला अपने भैया के रंडी को चोदने चाहता है चोद तेरे में कितना दम है उतना भी लगा के चोद इस चूत को। तेरा फर्स्ट नाईट है आज चोद मुझे बोलने लगी। मैने कहा साली कितना बोलती है रंडी हरामज़ादी कितने लोग चोदा है इस चूत को साली ऐसा लगता है कि कोई बवडी है चूत नहीं है कर थे मैने दीदी कि चूत में मेरे लौड़ा घुसा के मार रहा था तो वो बोली तो जा के पूछना अपने मादरचोद भाई को उसने ही बनाया है मुझे रंडी और मेरे चूत को पर के भवडी बना दी है।

ऐसे ही हम दोनो मज़े लूट रहे थे तो २०–२५ मिनट के बाद मैने झाड़ दिया। दीदी बोली साले फर्स्ट टाइम इतना तिमे लेता है तो साले तू भी बड़ा चुदक्कढ़ बनेगा साले। कुछ १० मिनट के बाद मैने बोला दीदी में क्या अपका गांड मार सकता हूं। तो बोली हा हा क्यों नहीं मादरचोद तुम सब भाई लोग एक ही हो सिर्फ़ चूत से थोड़ी तसल्ली होगा मारो गांड मारो मेरी लेकिन इस बार तू अपने पानी मेरे मुंह में गिरना है मेरे को तेरे पानी पीना है करके बोली। उसके बाद मैने दीदी को खूब गांड मारा और उसके मुंह मैं झाड़ दिया।

Hindi Sex Story - मेरी पहली चुदाई...

दोस्तों मेरी शादी छोटी एज मैं हो गयी थी और उस समय मैं १८ साल की ही थी मेरे को मेरी मां ने कहा था कि मैं मेरे ससुर, पति और नंद की इज़्ज़त करूं और उनकी सब बातें मानू। मेरा पति उस समय २१ साल का था और वो आर्मी में था। शादी के बाद ५ दिन साथ रह के वो ड्युटी पर चला गया और मैं मेरे ससुर और ननद के साथ ससुराल में रह गयी। मेरे को मेरा भाई लेने आया तो मेरे ससुर ने भेजने से मना कर दिया कहा "अगर रोशनी चली जायेगी तो मेरी देख-भाल कौन करेगा और फ़िर सरोज भी तो जाने वाली है ये दोनो ४-५ दिन साथ रहेंगी तो सरोज रोशनी को सारे काम और घर का बता देगी"। मेरा भाई चला गया और मैं मेरी ननद और ससुर के साथ ससुराल में रह गयी।

दोस्तों मेरे भाई के जाने के बाद मेरी ननद सरोज ने मेरे को पास बुलाया और मेरे को छेड़ने लगी। मैं भी उस को छेड़ने लगी। मेरा ससुर उस समय किसी के घर गया थे। सो हमे कोई डर नहीं था, सरोज जब मेरे को छेड़ रही थी तब मेरे को मजा आ रहा था और उस का हाथ मेरे चूचियों और गांड पर चल रहा था। मेरी सिसकिआं निकल रही थी और मैं आआआआआआआआआआआ ईईईईईईईईईईईईईइ आआआआआआआआआअ ह्हह्हह्हह्हह्हाआआआआआआआआआआआ ऊऊईईईईईईईईईम्मम्मम्माआआआआआआआआआआआअ कर रही थी मेरी सिसकी के साथ सरोज का हाथ मेरे चूचियों को जोर से दबाने लगा और मैं भी सरोज की चूचियां दबाने लगी। धीरे धीरे सरोज ने मेरे कपड़े उतार दिये और मेरा कच्चा और नंगा बदन देख के उस ने मेरी चूत और गांड मैं उंगलियां डाल दी

ऊऊऊऊऊऊऊऊउईईईईईईईईईईईइ म्मम्मम्माआआआआआआआआआआआआआआआ सरोज मेरी फ़ट गयीईईईईईईईई

"कोइ बात नहीं भाभी जब बाबूजी चोदेंगे तो नहीं फ़टेगी। "मैं समझी नहीं पर सरोज ने मेरे को छेड़ना शुरु रखा और मैं भी सरोज को छेड़ती रही मेरी नयी और सील बंद चूत ने पहला पानी छोड़ दिया। सरोज ने कहा "भाभी थोड़ी देर रुको कपड़े मत पहनना मैं १ बार बाहर जाती हूं, दरवाजा बाहर से बंद कर दूंगी तुम डरना नहीं"

वो घर से बाहर चली गयी और बाबू जी को ले आयी। मैं नंगी ही थी, पर सरोज ने मेरे को कपड़े नहीं पहनने दिये और बोली " भाभी अब बाबूजी से चुदो काफ़ी मजा आयेगा। "मैने देखा कि बाबूजी ने अपने कपड़े उतार दिये और उनका ४ इंच का लंड खड़ा था। मैने पहले बार लंड देखा था और मेरी चूत मैं फ़िर से खुजली होने लगी। बाबू जी मेरे पास आये और मेरी चूचियां पीछे से पकड़ ली उनका लंड मेरी कमर पर गरम गरम लग रहा था। मेरे को मजा आया"। आअहाआआआआआआअ बाबू जीईईईईईईईईईइ मजा आ रहा है सरोज से भी ज्यादा। आआआआआआआह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हाआआआआआआअ

ऊऊऊऊईईईईईईईइम्मम्मम्मम्मम्मम्माआआआआआआ स्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्ससीईईईईईईइस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस

ऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ूऊऊऊऊऊऊऊऊऊ

ऊऊऊओस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस " बाबू जी का लंड और भी टाइट हो गया और मेरी चूत भी काफ़ी गीली हो गयी।

बाबूजी ने मेरे को सीधा किया और बेड पर गिरा दिया और मेरी दोनो टांगे उठा के मेरी चूत चूसी मेरी मस्त बहुत ज्यादा भर गयी और मैं जोर से सिसकने लगी" आआआआआआआआआअह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह ऐईईईईईईईईईईईईईईईई उफ़ुफ़ुफ़ुफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ स्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सीईईईईईईईई स्सस्सस्सस्ससीईईईईइ ब्बब्बब्बाआआआआआआआअबूऊऊऊऊऊऊऊ जीईईईईईईईईईई मजाआआआआआआ आआआआआआआआआआअ रहाआआआआ हैईईईईईईईईईईईईइ "

बाबूजी "रोशनी तू देख सरोज मेरा लंड चूस रही है और अब तेरी चूत में मेरा लंड आराम से जायेगा" मैने देखा सरोज सच मुच बाबूजी का लंड चूस रही थी।

वो अलग हो गयी और बाबूजी ने मेरी दोनो टांगे उठा के मेरी चूत पर लंड का धक्का मारा। मेरी चूत फ़ट गयी

मैं चिल्लाई" माआआआआआआर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्र गाआआआआआआआईईईईईईईईईईईईईईईईइ बाबूजी मेरी फ़ाआआआआआआआआआआआआआआआअट गाआआआआईईईईईईईईईईईईईईई छोड़ो न प्लीज" पर बाबू जी माने नहीं और जोर जोर से १५-२० धक्के मेरी सील बंद चूत में मारे। फ़िर मेरे को दर्द कम हो गया और मजा आने लगा

आआआआआआआआआह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह ऊऊऊऊऊऊऊईईईईईईईईईईईइ स्सस्सस्सस्सीईईईईईईईईस्सस्सस्ससीईईईईइसि करने लगी। ४-५ मिनट में बाबूजी का लंड हलका हो गया और मेरी चूत ने भी पानी छोड़ दिया

इस तरह से बाबूजी ने मेरी चुदाई की दिन में और उसके बाद मेरे सामने ही सरोज को भी चोदा और उसको गालियां भी दी साली सरोज चुदवा चुदवा की चूत का चरस बना लिया देख तेरी भाभी की चूत कितनी मस्त है।

सरोज बोल रही थी बाबू जी येह भी तो आप ने ही किया है मेरी चूत को फ़ाड़ दिया और अब भाभी की भी फ़ाड़ दी लंडर।

Hindi Sex Story - भाभी के साथ एक रात...

मेरे भैया की शादी २ साल पहले ही हुई है। भाभी का नाम अर्चना जैन है। भाभी बहुत ही सेक्सी ,गोरी, स्लिम है। उनका फ़ीगर वेल मेन्टेन है। भैया एक एम् एन सी में बोम्बे में सी ऐ हैं। वो कभी कभी आते है। भाभी को देख २ कर मैं तो जैसे पागल हुआ जा रहा था। किसी न किसी तरह भाभी को छूने की कोशिश करता रहता था। वो जब मेरे कमरे में झाडू लगाने आती तो जैसे ही झुकती तो मेरा ध्यान सीधे उनके ब्लाउज़ के अंदर चला जाता। क्या गजब बूब्स हैं उनके जी करता कि पकड़ कर मसल दूं। पर मैं तो सिर्फ़ उन्हे देख ही सकता था। भाभी और मुझ में बहुत ही अच्छी जमती थी। हम हंसी मजाक भी कर लेते थे। पर कभी भी घर में अकेले नहीं होते थे कोई न कोई रहता था। मैं सोचता था कि काश एक दिन मैं और भाभी अकेले रहे तो शायद कुछ बात बने।

सर्दी का मौसम था घर के सभी मेम्बर्स को एक रिश्तेदार कि शादी में चेन्नई जाना था। भैया तो रहते नहीं थे। मम्मी पापा, मैं और भाभी ही थे। पापा ने कहा कि शादी में कौन कौन जा रहा है। मैने कहा मेरे तो एक्ज़ाम्स आ रहे है। मैं तो नहीं जा पाउंगा। मुम्मी बोली के चलो ठीक है इसके मरजी नहीं है तो ये यहीं रहेगा पर इसके खाने का प्रोब्लम रहेगा। इतने में मैं बोला कि भाभी और मैं यहीं रह जायेंगे आप दोनो चले जायें।

सबको मेरा आइडिआ सही लगा। अगले दिन मम्मी पापा को मैं ट्रैन में बिठा आया। अब मैं और भाभी ही घर में थे। भाभी ने आज गुलाबी साड़ी और ब्लाज़ पहन रखा था ब्लाउज़ में से बरा जो के स्रीम कलर की थे साफ़ दिख रही थी। मैं तो कंट्रोल ही नहीं कर पा रहा था। पर भाभी को कहता भी तो क्या। भाभी बोली थन्क यू देवेर जी। मैने कहा किस बात का। भाभी बोली मेरा भी जाने का मूड नहीं था। अगर आपकि पढ़ायी डिस्टर्ब न हो तो आज मोवी चले। मैने कहा चलो। पर कोई अच्छी मोवी तो लग ही नहीं रही है सिर्फ़ मर्डर ही लगी हुई है। भाभी बोली वो ही चलते हैं। मैं चोंक गया। भाभी ड्रेस चेंज करने चली गयी। वापस आयी तो उन्होने डीप कट ब्लाउज़ पहना था उनके ब्रा और बूब्स के दर्शन हो रहे थे। मैने कहा भाभी अच्छी दिख रही हो भाभी बोली थैंक्स । हम सिनेमा हाल गये हमें इत्तेफ़ाक से सीट भी सबसे उपर कोने में मिली। फ़िल्म शुरु हुई मेरा लंड तो काबु में ही नहीं हो रहा था। अचानक मल्लिका का कपड़े उतारने वाला सीन आया। मैं देख रहा था कि भाभी के मुंह से सिसकिआं निकलने शुरु हो गैइ।

और भाभी मेरा हाथ पकड़ कर मसलने लगी। मेरा भी हौसला बढ़ा मैने भी भाभी के कंधे पर हाथ रका दिया और धीरे २ मसलने लगा। हाल में बिल्कुल अंधेरा था। मेरा हाथ धीरे २ भाभी के बूब्स पर आ गया भाभी ने भी कुछ नहीं कहा वो तो फ़िल्म का मज़ा ले रहे थी। अब मैं भाभी के बूबी को मसल रहा था और अब मैने उनके ब्लाउज़ में हाथ डाल दिया भाभी सिर्फ़ सिसकरियां भरती रही और मुझे को ओपरेट करती रही। अब फ़िल्म एंड हो चुकी थी हम दोनो घर आये। मैने पूछा क्यों भाभी कैसि लगी फ़िल्म। भाभी बोली मस्त। मैने कहा भाभी भूख लगी है। हम दो नो ने साथ खना खया। मैं अपने कमरे में चला गया। इतने में भाभी की अवाज़ आई क्या कर रहे हो देवेर जी जरा इधर आओ न।

मैं भाभी के बेडरूम में गया तो भाभी बोली ये मेरी ब्रा का हुक बालों में अटक गया है प्लीज़ निकाल दो न। भाभी सिर्फ़ ब्रा और पेटीकोट में ही थी। उसने क्रीम रंग की बरा पहन रखी थी। मैने ब्रा खोलने के बहाने उसके निप्पलों को भी मसल दिया और पूरी पीठ पर हाथ फ़िरा दिया मैने कहा भाभी लो खुल गयी ब्रा मैने बरा को झटके से नीचे गिरा दिया अब भाभी पूरी टोपलेस हो चुकी थी। हम दोनो फ़ुल फ़ोर्म में आ चुके थे भाभी बोली देवेर जी भूख लगी है तो दूध पीलो मैने भाभी को उठाया और बिस्तर पर ले गया उनका पेटीकोट भी खोल दिया अब वो पूरी नंगी हो चुकी थी और मैं भी। मैने शुरुआत उपर से ही करना मुनासिब समझा

और भाभी के लाल लिपस्टिक लगे रसीले होंथों को जम कर चूसा। उसके बाद बारी आई उनके छाती की जिस पर कि दो मोटे २ दूध की टंकिया लगी थी। उनके निप्पल का सबसे आग्गे का हिस्सा बिल्कुल भूरा था मैने भाभी के बूब्स को इतना मसला और चूसा कि सच में ही दूध निकल आया। मैने दोनो का जम कर आनंद लिया। भाभी के मुंह से तो बस सिसकरियं निकल रहे थी आह आआआअह आआआआआह्हह अब मैं बूब्स से नीचे भाभी की चूत पर आया क्या क्लीन चूत थी एक भी बाल नहीं। मैने पहले तो भाभी की चूत को खूब चाटा फिर एक्स एक्स एक्स फ़िल्मो की तरह जोर २ से उंगली करने लगा। भाभी आअह आआआह देवेर जी कर रहे थी। फिर मैने भाभी को घोड़ी बनने के लिये कहा भाभी घोड़ी बन गयी मैने अपना लंड चूत में डाल दिया और जोर जोर से चोदने लगा। इस तरह मैने ३० मिनट तक भाभी को अलग २ पोजिशन में चोदा (सोफ़े पर भी)। अब मैं थक गया था। भाभी बोली तुमने तो मेरे बहुत मज़े ले लिया मेरे शानदार फ़ीगर वाले बूब्स को चूस २ और मसल २ कर लटका और खाली कर दिया अब मेरी बारी है। मैं लेट गया

भाभी मेरे उपर चढ़ गयी और मेरे सीने पर मसलने और चूसने लगी और मेरे भी छोटे २ बोब निकाल दिये मैं भी भाभी के बूब्स को मसल रहा था फिर भाभी मेरे लंड को पकड़ कर चूसने लगी करीब १५ मिनट तक उसने मेरे लंड को चूसा।अब हम दोनो को नींद आ रही थी हम उसी हालत में सो गये। सुबह उठ कर हम दोनो साथ ही टब में नहाये और मैने भाभी के एक एक अंग को रगड़ २ कर धोया। इसके बाद भी हम २ -३ दिन तक सेक्स का आनंद लेते रहे। अब भी कभी मौका मिलता है तो हम शुरु हो जाते हैं। साथ में घर पर ही नेट पर साइट्स देखते हैं।

मुझे तो साड़ी सेक्स बहुत पसंद है। एक एक कपड़ा ब्लाउज साडी ,ब्रा ,पेटीकोट खोलने का मज़ा कुछ और ही है। मैं अपनी ड्रीम गर्ल को भी साड़ी में ही देखना चाहता हूं।

Hindi Adult Story - मामी के साथ अनोखी दास्तान...

दोस्तो ! मै राज आगरा, उत्तरप्रदेश से, आज आपको एक असली सेक्स स्टोरी बताने जा रहा हूं।

आज से लगभग 6 साल पहले जब मेरी उम्र 20 साल कि थी तब एक दिन मेरे घर मेरे मामा और मामी आये। वे मधयप्रदेश में रहते थे लेकिन कुछ कारणों से उन्होंने अपना शहर छोर दिया औए वो हमारे घर आ गये। मेरी मामी गोरी चिटटी, चौड़ी कमर और भरे बदन की थी। जब मैने उन्हें पहली बार देखा तो देखता ही रह गया और उन्हें कैसे चोदूं यह सोचने लगा। मेरे मामा को काम की तलाश थी तो मेरी मां ने कहा कि तुम मामा के लिये कोई नोकरी तलाश करो। मैने मामा के लिये एक अच्छी नोकरी तलाश ली। मामा नौकरी पे जाने लगे। इधर मामी अकेली रहती थी और मै भी घर मे अकेला रहता था। इस बीच हम दोनो खूब घुल मिल गये थे। मै मामी से मजाक भी कर लेता था।

एक दिन वह कपड़े धो रही थी। मामी के स्तन दिख रहे थे। गोरे गोरे बूब्स देख कर मै उत्तेजित हो गया। तभी मामी की नज़र मुझ पर गयी लेकिन मुझे पता नहीं चला। उन्होंने कुछ नहीं कहा और वो अपना काम करती रही। शायद उन्होंने मेरा इरादा भांप लिया था। मै मन ही मन उन्हें चाहने लगा था। ख्वाबों मे उन्हें चोदने लगा था।

एक दिन मामी ने कहा कि तुम मेरी भी कहीं नौकरी लगवा दो। मैने उन्हें एक स्कूल मे टीचर की नौकरी दिला दी। अब मामी स्कूल जाती थी और मै घर मे अकेला रहता था। मुझे मामी की कमी महसूस होती थी। मामी शायद समझ रही थी।

एक दिन बिजली नहीं आ रही थी। हम सब लोग उपर छत पर आ गये, तभी मामी भी आ गयी। मै उन्हें देख कर दूसरी छत पर चला गया जहां कोइ नही था। मामी भी वहीं आ गयी और मेरे हाथ पे हाथ रख कर कहा कि मै तुम से दोस्ती करना चहती हूं। यह सुन कर मै एक दम चौंक गया। मैने पूछा कि सिर्फ़ दोस्ती या और कुछ तो वो शरमा गयी, बोली सच तो यह है कि मै तुम से प्यार करती हूं। मैने पूछ कि इस प्यार की सीमा क्या होगी, तो वह बोली तुम सब जानते हो और वह शरमा के चली गयी।

अब हम दोनो एक दूसरे को किस कर लेते थे और छिप कर एक दूसरे के अंगों को छू भी देते थे। उनके बूब्स और जांघ भी मै हाथ से सहला देता था। लेकिन चोदने की हिम्मत नही कर पा रहा था। कैइ बार मैने उन्हे नहाते हुए नंगा भी देखा है। उन्हें भी पता था कि मै देख रहा हूं फ़िर भी वो मुस्करा के शरमा जाती थी। एक दिन घर के सब लोगों को कहीं बाहर जाना था लेकिन मै नहीं गया। मम्मी ने भी ज्यादा जोर नहीं दिया क्योंकि मामी के कारण खने पीने की कोइ परेशानी नहीं होनी थी। दो दिन गुजर गये, कोइ मौका नहीं मिला। अगले दिन से मामा की चार दिन रात की डयूटी थी तो मै मन ही मन खुश हुआ कि आज तो मामी को चोद के रहुंगा। उस रात मामा 9 बजे चले गये और मामी से कहा कि तुम रात को जिम्मेदारी से ताले आदि लगा कर सोना। मै अपने कमरे मे जाकर सोने का नाटक करने लगा। घर के सारे काम खत्म कर से मामी 11 बजे मेरे कमरे मे आयीऔर बोली- सो गये क्या? मैने कहा- नहीं। वो मेरे पास बैठ गयी और प्यार से मेरे सिर में हाथ फ़ेरने लगी।

उन्होंने प्यार से मुझे देखा तो मुझ से रहा नहीं गया और मैने उन्हें पकड़ के बिस्तर पर लिटा कर अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिये। बहुत देर हम एक दूसरे को प्यार करते रहे तो मामी उत्तेजित हो गयी। मैने उनकी सारी जान्घों तक कर दी। उनकी जांघे गोरी थी। मैने उनकी जांघों को चुमते चूमते अपने होंठ उनकी चूत पर रख दिये और जीभ से उनकी चूत सहलाने लगा तो उन्हें एकदम झटका लगा और बोली राज ये तुम क्या कर रहे हो? हाथ से मै उनके बूब्स सहलाने लगा। मामी कराहने लगी। मामी को इतना मज़ा शायद कभी नही आया होगा। उन्होंने टांगें चौड़ी कर दी और मेरे बालो को सहला कर बोली- राज मै पागल हो जाउंगी, बहुत मजा आ रहा है।

मै भी उनके चूत के दाने को अपनी जीभ से सहला रहा था। कुछ देर बाद वो बोली - खुद ही सब कुछ करोगे या मुझे भी करने दोगे? यह कह कर उन्होंने मेरी पैन्ट उतार दी, फ़िर एकदम मेर कच्छा उतार कर मेरा लन्ड मुंह मे ले कर चूसने लगी और बोली-तुम्हारा तो काफ़ी बड़ा है। मुझे मजा आ रहा था। मै उनकी चूत में उन्गली डाल कर आगे पीछे कर रहा था। कुछ देर बाद मामी बोली-राज जल्दी करो ! अब रहा नहीं जा रहा! चोदो मुझे!

मैने मामी की चूत में लन्ड लगाया और जोर से धक्का लगाया तो मामी कि चीख निकल गयी और बोली धीरे करो। मै मामी के गोरे गोरे बूब्स चूसने लगा। मामी मेरी बांहों मे सिमटी जा रही थी और प्यार से मेरे शरीर पे हाथ फ़ेर रही थी, कह रही थी- ओह राज ! मजा आ रहा है। ऐसे ही करो! करते रहो ! पूरा अन्दर डालो- फ़ाड़ दो मेरी चूत आह ! करो- जोर से करो- करते रहो। कुछ देर बाद मैने मामी से कहा कि मै झड़ने वाला हूं तो उन्होंने कहा कि लन्ड चूत से निकाल कर मेरे मुंह मे दे दो। मैने लन्ड उनके मुंह मे डाल दिया। वो मेरा लन्ड चूसने लगीऔर मेर पानी भी मुंह मे ले लिया। उस रात मैने मामी को तीन बार चोदा और पूरी रात हम नंगे ही लेटे रहे। कभी वो मेरे लन्द से खेलती तो कभी मै उनकी चूत और बूब्स से। उसके बाद करीब दो साल तक मै मामी को रोजाना चोदता रहा।

अब वो मेरे घर नहीं रहती हैं। लेकिन मै उनके साथ बिताये खूबसूरत पलों को याद करके उन्हें आज भी याद कर लेता हूं..

Hindi Sex Story - नशीली चूत का रस....

बात उन दिनो की है जब मैं १२वीं की बोर्ड की परीक्षा देकर फ़्री हुआ था और रिजल्ट आने में तीन महीने का समय था। ये वो समय होता है जब हर लड़का अपने बढ़े हुए लंड के प्रति आकार्षित रहता है साथ-साथ बढ़ती हुई काली-काली घुंघराली झांटे उसका मन जल्दी से किसी नशीली चूत का रस पान करने को प्रेरित करती हैं। मैने फ़्री टाइम को सही इस्तेमाल करने के लिये एक इंगलिश स्पीकिंग कोर्स ज्वाइन कर लिया। हमारे घर से थोड़ी दूर पर एक नये इंगलिश कोचिंग सेंटर खुला था जहां मैं अपना एडमीशन लेने पहुंच गया। मेरे लौड़े की किस्मत अच्छी थी वहां जाते ही मेरा सामना एक कमसिन, अल्हड़, मदमस्त, जवान, औरत से हुआ जो पता चला वहां की टीचर है। उसके गोरे-गोरे तन बदन को देखते ही मेरा तो लौड़ा चड्ढी में ही उचकने लगा। उसकी खुशबूदार सांसो ने मन मे तूफ़ान पैदा कर डाला था। मन तो उसके तुरंत चोदने को कर रहा था पर क्या करता वहां तो पढ़ने गया था।

एडमीशन देते हुए वो भी मुझे आंखों ही आंखों में तौल रही थी। वो २७ साल की भरे बदन वाली मैडम थी। शादी-शुदा, उसकी दोनो बूब्स (चूचियां) आधा किलो की थी और उसके गद्देदार मोटे चूतड़ (गांड) उभार लिये संगमरमर की मूरत से तराशे हुए हिलते ऐसे लगते थे जैसे कह रहे हो- “आजा राजा इस गांड को बजा जा”

मैने एडमीशन लेकर पूछा “कितने बजे आना है मैडम?” वोह मुस्करा कर बोली “सुबह ७ बजे आना।” “साथ क्या लाना है?” “वो बोली एक कोपी बस”। मैं घर वापस आ गया पर सारी रात सुबह होने के इंतज़ार में सो न सका। रात भर मैडम की हसीन मुस्कान और चेहरा सामने था। मैं बार-बार उनके ब्लाउज़ में कैद उन दो कबूतरों का ध्यान कर रहा था जो बाहर आने को बेताब थे। उनकी चूत कैसी होगी? गुलाबी चूत पे काला सिंघाड़ा होगा, उनकी चूत का लहसुन मोटा होगा या पतला, मुलायम मीठा या नमकीन, कितना नशा होगा उनके चूत के रस में? उनकी बुर की फांके गुलाब की पत्तियों सी फैला दूं तो क्या हो? ये कल्पना और मदहोश कर रही थी जिससे मेरे लंड फूल कर लम्बा और मोटा हो गया था और मेरी चड्ढी में उसने गीला पानी छोड़ दिया।

अगले दिन सुबह, जल्दी से नहा कर मैं इंगलिश की कोचिंग में टाइम से पहुंच गया। उस क्लास में और भी कुछ हसीन लड़कियां थीं। कुछ खूबसूरत शादी-शुदा औरतें भी थी जो हाई क्लास सोसाइटी में अपनी धाक जमाने के लिये इंगलिश सीखना चाह रही थीं ताकि हाई क्लास की रंगीनियों का मज़ा उठाया जा सके। मैं पीछे की सीट पर बैठ गया। थोड़ी देर में मैडम वहां आयी और गूड मोर्निंग के साथ मुझ पर नज़र पड़ते ही बोली –“तुम आगे आकर बैठो”। उनके कहने पर मैं आगे की सीट पर बैठ गया। वो सबको अपना परिचय हुए बोली – हाय मै निशा हूँ। अब आप लोग अपना परिचय दीजिये। हम सबने अपना-अपना परिचय दिया। फिर वो ब्लैक बोर्ड की तरफ़ मुड़कर लिखने लगी। जैसे ही वो मुड़ी उनकी गांड मेरे सामने थी और मन फिर उनकी गांड मारने के ख्याल में खो गया। क्या करुं जवानी १८ साल की कहां शांत रहती।

वो बहुत सुंदर लाइट कलर की साड़ी पहने थी। लाइट पिंक ब्लाउज़ के नीचे उनका काला ब्रा साफ़ दिख रहा था। साड़ी के पल्लु से उनकी चूची का बोर्डर ज़बान पे पानी ला रहा था। लालच मन में जगा रहा था। दोनो चुचियों के बीच की गहरी लाइन ब्रा के ऊपर से लंड को मस्ती दिला रही थी। वो मुड़ कर वापस क्लास को बोलने लगी ग्रामर के बारे में और मेरे एकदम पास चली आयी। मैं बैठा था और वो मेरे इतने करीब खड़ी थी कि उनका खुला पेट वाला हिस्सा मेरे मुंह के पास आ चुका था जिसमे से उनकी गोल-गोल गहरी टोंडी (नाभि) की महक मेरे नथुनो मे मीठा ज़हर घोल रही थी। फिर उनका पेन हाथ से गिरकर मेरे सामने टपक गया जिसे लेने वो नीचे झुकी तो दोनो चुचियां मेरे मुंह के सामने परस गये। उस दिन क्लास ऐसे ही चलता रहा। फिर जब क्लास खत्म हुआ तो जब सब चलने लगे तो मैडम ने मुझे रुकने को कहा। मैं अपनी कुरसी पर बैठा रहा। सबके चले जाने के बाद मैडम मेरे पास आयी और बोली-“ हेंडसम लग रहे हो” मैने कहा “थैंक यू”। तुम अभी क्या करते हो? मैं बोला- अभी १२वीं का एक्साम दिया है अब मैं फ़्री हूं। मैडम बोली –मतलब अब तुम बालिग (एडल्ट) हो गये हो।” “यस मैडम”, मैं बोला।

“हूऊऊऊउम……। वो कुछ सोच कर बोली, तुम्हारा केला तो काफ़ी काफ़ी बड़ा है। ‘केला???’ मैं समझ तो गया था कि मैडम मेरे लंड की तरफ़ इशारा कर रही हैं पर मैं अंजान बना रहा। मैने पूछा किस केले की बात कर रही हैं आप? “अरे अब इतने अंजान मत बनो मेरे राजा, तुम्हारा लौड़ा जो काफ़ी बड़ा है और जो इस पैंट के नीचे से फूल कर बाहर हवा खाने को बेताब है। शायद इसने अभी तक गुझिया (चूत) का स्वाद नहीं चखा। असल में मैं क्लास जल्दी पहुंचने के चक्कर में नहा कर पैंट के नीचे अंडरवेअर पहनना भूल गया था जिससे मोटा लौड़ा तन कर पैंट में अपनी छाप दिखा रहा था।

मैडम को फ़्री और फ़्रेंक होता देख कर मैने भी कह दिया “हां मैडम अभी तक किसी की चूत का स्वाद नहीं चखा है।” वो बोली शनिवार की सुबह ६ बजे मेरे घर आ सकते हो, मैं अकेली रहती हूं। दर असल मेरे पति नेवी में हैं और हमारे कोई औलाद नहीं हैं। तुम आजाओगे तो मुझे कम्पनी हो जायेगी। मैने फ़ौरन हामी भर दी। मैं जानता तो था कि मैडम को मेरी कम्पनी क्यों चाहिये थी। उनको अपनी बुर की खुजली मिटानी थी और फिर जब पति नेवी में गांड मराये तो पत्नी दिन भर जब टीचिंग से लौट कर आये तो चूत चोदने को कोई लौड़ा तो चाहिये ही। इसमे कुछ गलत नहीं हैं। हर औरत की, हर लौंडिया की चूत में गरमी चढ़ती है और उसकी चूत की आग सिर्फ़ और सिर्फ़ लंड ही शांत कर सकता है।

सारी रात मैडम का ध्यान कर मैं सो न सका। सुबह घड़ी में अलार्म लगा दिया ५ बजे का। मम्मी भी सुबह अलार्म की आवाज़ से उठ गयी और बोली इतने सुबह कहां जा रहे हो?? मैने कहा सुबह रोज़ अब मैं जल्दी उठ कर जोगिंग करने जाउंगा और फिर वहीं से क्लास अटेंड कर वापस आउंगा। अब उनसे क्या कहता कि मैडम की चूत की खुजली शांत करने जा रहा हूं। सुबह चाय पीकर मैं तुरंत टैक्सी कर मैडम के पते पर कोपी लिये पहुंच गया। डोरबेल की घंटी बजायी तो थोड़ी देर बाद मैडम ब्लैक नाइटी पहने मुस्करा कर दरवाजा खोलती नज़र आयी। उनके नाइटी के दो बटन ऊपर के खुले थे और ब्रा नहीं पहने होने के कारण दोनो चूचियां मुझे साफ़ दिख रहीं थीं। नीचे पेटीकोट भी नहीं था क्योंकि उन्होने मेरा हाथ कमर पे रख मुझे अंदर बुलाया जिससे उनका बदन मेरे हाथ में आ गया था।

सामने खुला हुआ सीना मेरे दिल की धड़कन बढ़ा रहा था। वो मुसकरा कर बोली अब ऐसे ही खड़े-खड़े मेरी सूरत देखते रहोगे या मुझे अपनी बाहों में उठा कर बिस्तर पे भी ले चलोगे। मेरी जवानी कबसे मोटे लंड की आग में जल रही है, मेरी जवानी के मज़े नहीं लूटोगे??? मैने तुरंत कोपी पास पड़ी टेबल पर फेंक दी और मैडम को झट से अपनी बाहों में उठा लिया। उनके खुले बाल मेरे हाथ पर थे और उन्होने मेरे होंठों को अपने लिप्स में कैद कर लिया। उनका बेडरूम सामने ही था। मौसम थोड़ा गरम था इसलिये मैं उनको पहले बाथरूम में ले आया जहां उनको थोड़ा नहला कर मालिश कर गरम कर सकुं।

मैने मैडम को बाथरूम में खड़ा कर दिया और फिर उनकी काली नाइटी के ऊपर से पूरा मांसल बदन दबाया फिर सहलाया। उनके हाथ ऊपर कर उनकी काली नाइटी धीरे से उतार दी। अब वो पूरी नंगी मेरे सामने खड़ी थी। दूधिया बदन गोरी-गोरी-मोटी चूचियां और हल्के काले घुंघराले बालों के बीच गुलाबी मुलायम चूत। मैने शोवर चालु कर दिया पानी ऊपर से नीचे हर अंग को भिगो रहा था। मैने उनको चूमना चाटना शुरु कर दिया। होंठों से होंठ फिर गाल सब पर ज़बान फेर कर मज़ा देता गया। दोनो चूचियां बार बार दबा कर निप्पलों को मुंह में भर लिया। उनके पिंक निप्पल मोटे और बहुत सोफ़्ट थे। ज़बान निकाल कर गोल-गोल निप्पल पर घुमा कर चाट कर पिया। वो आअह्हह्हह…।।उह्हह्हह…ईईस्सस्सस…मज़ा आ गया बोली। और पियो ये निप्पल कब से तरस रहे थे कि कोई इनको पिये।

मैने कस कर चूची मर्दन किया दबा दबा कर निप्पलों उकेर कर दोनो निप्पलों पर जबान से खूब खुजली की। मैडम भी अपनी ज़बान निकाल कर मेरे ज़बान के साथ अपने निप्पलों चाट रहीं थी। उनकी चूचियां फूल कर बड़ी हो गयी थी और मैं नीचे उनके नाभि पर आ गया था। गोल नाभि की गहरायी नापने में २ मिनट लगा इससे पहले चूचियों का मसाज और निप्पलों को चूस कर १० मिनट तक उनको प्यार के नशे में डुबाता चला गया। इस क्रिया से मेरा लौड़ा भी नागराज की तरह फुंकारता हुआ खड़ा हो कर ७इंच का हो चुका था जिस पर मैडम का हाथ पहुंच गया था। मैने धीरे से मैडम को बाथरूम के फ़र्श पर लिटाया ताकि उनकी चूत खुल कर मेरे सामने आ सके और मैं उनकी गुलाबी गुझिया में उंगली डाल सकूँ।

मैं धीरे से उनकी चूत का रस पीने के इरादे से नीचे गया। उनकी झांटों पर पड़ी पानी की बूंदों ने मुझे उनके झांटों पर चांदी की तरह चमकती बूंदों को पीने की चाह जगा दी। मैं उनकी काली, मुलायम घुंघराली झांटों को अपने होंठों में कैद कर अपने लिप्स से पीने लगा। उनकी जब झांटें खिंचती तो वो अह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्ह……।।ऊऊऊऊऊह्हह्हह …।।ह्हहाईईइ………।ज्जज्जजाआअन्नन्नन्नन्नन्न…।।स्सस्सस्सस्सस्सस्सस्सस… करती जिससे मेरा लंड और कड़क हो जाता। उनकी झांटों से पानी साफ़ करने के बाद मैने दोनो उंगलियों से उनकी चूत की गहरायी को नापा मतलब दोनो उंगलियां अंदर गुलाबी छेद में डाल दी गहरायी तक। फिर ज़बान पास लाकर उनके चूत का सिंघाड़ा अपने मुंह में कैद कर लिया। करीब १० मिनट तक उनकी नशीली चूत का रस अपनी ज़बान से पीता रहा और उनकी गरम चूत में अपनी ज़बान चलाता रहा। ऊपर से नीचे फिर नीचे से ऊपर और फिर ज़बान को कड़ा कर अंदर बाहर भी। ज़बान से चूत रस चाटते वक्त मैने एक उंगली नीचे खूबसुरत से दिख रहे गांड के छेद पे लगा दी। उनको तैयार कर मैने अपना अंडरवेअर उतारा जिससे मैडम बाथरूम के फ़र्श पर उठ कर मेरे ऊपर मेरी तरफ़ गांड कर ६९ की पोजीशन में लेट गयी और मेरा लंड अपने मुंह में डाल लिया।

मैं मैडम की चूत मैं नीचे से पीछे से ज़बान डाल कर उनका रस चाटे जा रहा था और मैडम को मेरा गुलाबी सुपाड़ा बहुत मज़ा दे रहा था। वो बच्चो की तरह उसे चूसे जा रहीं थी। क्योंकि उनको लंड बहुत दिनो बाद नसीब हुआ था। मेरा तना लंड उनको बहुत मज़ा दे रहा था वो ५ मिनट तक मेरा लौड़ा अपने होंठों में कैद कर चूसती रहीं ज़बान से लंड के सुपाड़े को चाट-चाट कर लाल कर दिया था और लंड तन कर रोड की तरह पूरा कड़ा हो गया था पर मैडम छोड़ ही नहीं रहीं थी। मैने बोला मैडम मैं झड़ने वाला हूं तो उन्होने मुझे खड़ा कर दिया और खुद भी मेरे ऊपर से हट गयी। बोली-आओ राजा मेरी ज़बान पर गिरा दो। वो मेरे लंड के पास मुंह खोल कर ज़बान निकाल कर बैठ गयीं। मैने अपने हाथ से हिला कर जल्दी से अपना सारा गरम गरम शहद उनकी ज़बान पे गिराया जिसे उन्होने अपनी आंखे बंद कर जन्नत का मज़ा लिया। वो मेरे गरम वीर्य की आखिरी बूंद तक चाट गयी। फिर उन्होने अपना मुंह धोया और मुझे बोली अब मुझको बेडरूम में ले चलो राजा। मैं भी उनकी चूत चोदने को बेताब था।

मैने उनको उठा लिया और बेड पर चित लिटा दिया। उनकी दोनो गोरी टांगो को खूब फैला दिया ताकि उनकी गुलाबी चूत मेरे सामने खुल जाये और मुझे उनकी चूत को चाटने में ज़रा भी कठिनाई न हो। वो फिर से मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर आगे पीछे हिलाने लगी। उनके ये करने से मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा। मैने उनकी नशीली चूत को चाट कर अपने थूक से चिकना किया। वैसे उनकी चूत बहुत मक्खन सी मुलायम और मलमल सी चिकनी थी। वो गरम-गरम मलाई से भरपूर चूत मुझे अब जन्नत सी लग रही थी जिसको अब चोदना बहुत ज़रूरी हो गया था। मेरे लप-लप कर उनकी चूत को चाटने से वो अपने मुंह से सी…सी…ऊऊऊओ…।अह्हह्हह्हह्हह्ह कर रही थी। बोली मेरे राजा जल्दी से अपना ७ इंच का शेर मेरी प्यार की गुफ़ा में घुसा दो। जल्दी से इस चूत की खुजली शांत करो। बहुत तड़प रहीं हूं।

मैने जल्दी से उनकी गोरी मांसल जांघो को दूर दूर किया और लौड़ा पकड़ कर अपना सुपाड़ा चूत के मुंह पे टिका कर सहलाया। फिर एक धीरे से ज़ोर लगाया जिससे लंड खच की आवाज़ से अंदर गरम गरम चूत में अंदर तक समा गया। वो आंखें बंद कर मस्त होने लगी। मैं बोला निशा तुम बहुत मस्त हो। वो मुस्कुरा दी। मैने अपने लंड का वेग बढ़ा दिया। लंड जल्दी जल्दी अंदर बाहर चलने लगा। लंड पूरे ज़ोर से अंदर बाहर आ जा रहा था जिससे निशा की चूचियां भी हिल रही थीं। दोनो बूब्स को मैने हाथ में भर कर मसलना शुरु कर दिया था और उनके निप्पल भी अपने होंठों में चूसने लगा। निशा की जवानी लूट कर १० मिनट तक गरम लंड रोड सा उसकी बुर को फाड़ता रहा। फिर मैने उसकी चूत से लंड बाहर निकाला और अपना गरम वीर्य उसकी चूत के ऊपर और टोंढी के छेद में डाल दिया।

अब वो शांत हो चुकी थीं और मेरा पहला प्यार का क्लास १ घंटे में खतम हुआ था। सेक्स की इस क्लास में मुझको मज़ा मिला था। अनोखा मज़ा।

माँ और ताउजी की खेत में चुदाई - (पाठको के कलम से)

मैं इस साईट की लगभग सारी कहानियाँ पढ़ता हूँ। मुझे सारी कहानियाँ बेहद ही अच्छी लगी। उनको पढने के बाद मैं आपकॊh0��िये एक ऐसी कहानी लाया हूँ जिसे मैंने अपनी आँखों के सामने होते हुये देखा था। इससे पहले कि मैं अपनी कहानी को शुरु करूँ, सबसे पहले मैं उन दोनों लोगों का परिचय आपसे करा दूँ।

इस कहानी में दो लोग- कोई और नहीं एक मेरी माँ और दूसरा एक इन्सान मेरे ताऊ जी जिसकी उमर साठ साल की है। यह कहानी वैसे तो कुछ पुरानी है लेकिन मेरे सामने जब भी वो दिन याद आता है तो मुझे ऐसा लगता है कि यह कल की ही बात है। मेरा नाम राज है हमांरे परिवार में मैं, माँ और पापा हैं। मेरे पापा सेल्समैन हैं, वो कई कई दिनो तक बाहर रहते हैं…।

वैसे भी हमांरे सारे सम्बन्धी गांव में रहते हैं, हम साल में दो या तीन बार जाते हैं। वहाँ हमांरे ताऊ जी रहते हैं, उनकि पत्नी की मौत के बाद वो अकेले ही रहते हैं। हम नवरात्रि में गाँव जाने वाले थे। पापा भी आने वाले थे लेकिन उनको कुछ काम आ गया तब उन्होंने हम दोनों को गांव जाने के लिये कहा।

माँ ने कहा- ठीक है।

तब मैंने देखा कि माँ खुश थी और पैकिंग करने लगी। हम लोग सुबह की ट्रेन से गाँव पहुँच गये। वहाँ ताऊ जी हमें लेने के लिये आये हुये थे। माँ उनको देख कर खुश हो गई और ताऊ जी भी खुश हुए, उन्होने पूछा- परिमल नहीं आया?

माँ ने कहा- उनको कुछ काम आ पड़ा है, वो दो तीन दिन बाद आयेंगे।

और ताऊ जी माँ को देखते रहे और माँ भी उनको देखते रही। मुझे कुछ दाल में काला नजर आया …

हम लोग बैलगाड़ी में बैठे और ताऊ जी ने मुझे कहा- तुम चलाओ।

मैंने कहा- ठीक है।

माँ और ताऊ जी पीछे बैठ गये। थोड़ी दूर चलने के बाद मैंने माँ की आवाज़ सुनी, पीछे देखा तो ताऊ जी का पैर माँ के साये में था और माँ ने मुझ से कहा कि सामने देख कर चलो।

हमें लोग घर पहुंचे तब माँ बाथरूम में चली गई और थोड़ी देर बाद बाहर आई……।।

ताऊ जी ने कहा- चलो, तुमको खेत में ले चलता हूँ।

माँ मुस्कुराते हुए बोली- हाँ चलिये।

मैं भी साथ था। हम लोग खेत में पहुँचे तो मैंने ताऊ को जी माँ की गाण्ड पर हाथ फिराते हुए देखा।

तब माँ ने कहा- लड़का इधर है, वो देख लेगा।

उनको पता नहीं था कि मैंने देख लिया था।

तब ताऊ जी ने मुझसे कहा- बेटा, तुम दूर जा कर खेलो। मुझे तुम्हारी माँ से बातें करनी हैं।

तो मैंने माँ को देखा तो माँ ताऊ जी के सामने देख कर मुस्कुरा रही थी और मुझे कहा कि तुम यहाँ से जाओ……।

मैं वहाँ से चलने लगा और माँ-ताऊ जी भी खेत के अन्दर दूर जाने लगे। मुझे दाल में काला नज़र आया। मैं भी उनके पीछे पीछे गया तो देखा कि ताऊ जी माँ की दोनों एक पेड़ की आड़ में चले गये और माँ पेड़ से लग कर खड़ी हो गई। अब ताऊ जी अपना हाथ माँ के साये में डालने लगे और माँ भी अपना साया उठा कर उनका साथ देने लगी। लेकिन मुझे उनकी कोई भी बातें सुनाई नहीं दे रही थी, इसलिये मैं और नज़दीक गया और सुनने लगा। तब वो दोनो पापा की बातें कर रहे थे।

माँ कह रही थी- कितने दिन बाद मुझे यह तगड़ा लौड़ा मिल रहा है, वरना परिमल का लौड़ा तो बेकार है।

अब माँ के बुर को दोनों हाथ से फैलाया। माँ थोड़ा सा विरोध कर रही थी लेकिन उनके विरोध में उनकी हामी साफ दिख रहा थी। इसके बाद ताऊ जी माँ के बुर पर लण्ड सटा कर हलका सा कमर को धक्का लगाया। माँ के मुह से अह्हह्हह्हह्हह की आवाज निकल गई।

मैं समझ गया कि माँ के बुर में ताऊ जी का लण्ड चला गया है। ताऊ जी ने कमर को झटका देना शुरू किया। ताऊ जी जब जब जोर से झटका लगाते थे माँ के मुँह से आआआआआआअहह्हह्हह्हह्ह की आवाज सुनाई पड़ती थी। कुछ देर के बाद जब ताऊ जी ने माँ की चूचियों को मसलना शुरु किया तो उनका जोश और भी बढ़ गया। एक तरफ़ ताऊ जी बुर में जोर से झटके लगाने लगे तो दूसरी तरफ़ माँ के चूचियों को जोर जोर से मसलने लगे।

अब माँ की बुर में लण्ड जब आधे से ज्यादा चला गया तो माँ के मुंह से आआआआआआहह्हह नहीं आआआआआ आह्हह्ह की आवाज आने लगी। ताऊ जी ने माँ के होठों को चूसना शुरु कर दिया। लगभग आधे घण्टे चोदने के बाद ताऊ जी का बीज माँ की चूत में गिरा। माँ भी बहुत ही खुश थी। कुछ देर के बाद ताऊ जी ने लण्ड निकल लिया। माँ पांच मिनट तक लेटी रही।

माँ तब उठ कर जाना चाहती थी। ताऊ जी ने उनको रोक लिया। उन्होने माँ से कहा- कहा जा रही हो?

तब माँ ने कहा- आज के लिये इतना बस !

तब ताऊ जी ने कहा- अभी तो और चुदाई बाकी है, रुक जाओ तुम।

तब ताऊ जी ने माँ के पीछे जा कर माँ की गाण्ड पर लण्ड रखा और कमर को पकड़ कर एक जोरदार झटका मारा। माँ के मुँह से आआआआआ आअह्हह्हहह्हह्हह्हह्ह की आवाज निकलते ही मैं समझ गया कि माँ की गाण्ड में लण्ड चला गया। अब ताऊ जी ने अपनी कमर को हिलाना शुरू किया और कुछ ही देर में पूरा लण्ड को माँ के गाण्ड में घुसा दिया। ताऊ जी माँ के गाण्ड को लगभद दस मिनट तक मारने के बाद जब धीरे धीरे शान्त पड़ गये तो मैं समझ गया कि माँ की गाण्ड में बीज गिर गया है।

ताऊ जी ने लण्ड को निकाल लिया तब माँ के पैर को थोड़ा सा फैला दिया क्योंकि माँ ने दोनों पैरों को पूरा सटा रखा था। ताऊ जी ने माँ की बुर को देखा, माँ से पूछा- पेशाब नहीं करोगी?

माँ ने गरदन हिला कर कहा- नहीं।

अब ताऊ जी ने जैसे ही लण्ड को माँ की बुर के ऊपर सटाया माँ ने अपने दोनो हाथों से अपनी बुर को फैला दिया। ताऊ जी ने लण्ड के अगले भाग को माँ की बुर में डाल दिया और माँ की चूचियों को पकड़ कर एक जोरदार झटके के साथ अपने लण्ड को अन्दर घुसा दिया।

माँ मुँह से आआआह्हफ़्फ़फ़्फ़फ़ईईरीईईई धीईईईईईई आआआआआह्हह्स इस्सस्सस्स स्सस्हह्हह कर रही थी। ताऊ जी पर उनके इस बात का कोई असर नहीं हो रहा था। वो हर चार पांच छोटे झटके के बाद एक जोर का झटका दे रहे थे। उनका लण्ड जब आधे से ज्यादा अन्दर चला गया तो माँ ने ताऊ जी से कहा- अब और अन्दर नहीं डालियेगा वरना मेरी बुर फट जायेगी।

ताऊ जी ने कहा- अभी तो आधा बाहर ही है।

माँ ने यह समझ लिया कि आज उनकी गोरी चूत फटने वाली है। माँ की हर कोशिश को नाकाम करते हुए ताऊ जी माँ के चूत में अपने लण्ड को अन्दर ले जा रहे थे। माँ ने जब देखा कि अब बरदाश्त से बाहर हो रहा है तो उन्होंने ताऊ जी से कहा- मैं आपसे बहुत छोटी हूँ आआआआह्हह्हह्हह््लल्लल्लीईईईईज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़। आआआह्हह। नहीईईई उईआआआअह्ह्हह्हह।

ताऊ जी ने लगातार कई जोरदार झटके मार कर पूरे लण्ड को माँ के बुर में घुसा दिया तथा माँ की चूचियों को मसला। अब माँ को भी मजा आने लगा था। शायद माँ को इसी का इन्तजार था। ताऊ जी ने अपने झांट को माँ की झाँट में पूरी तरह से सटा दिया और इस तरह से उन्होंने पूरे पैंतीस मिनट तक माँ की चुदाई की। इसके बाद माँ और ताऊ जी शान्त पड़ गये तब मैं समझ गया कि माँ की बुर में ताऊ जी का बीज गिर गया है। वो दोनो पूरी तरह से थक चुके थे। अब ताऊ जी ने लण्ड को निकाल दिया और माँ की बगल में लेट गये। फ़िर दोनो ने कपड़े पहने और वहाँ से चलने लगे। तब मैं भी वहाँ से हट गया ताकि उनको पता ना चले कि मैंने सब कुछ देख लिया है। हम तीनों घर वापस आ गये।

ताऊ जी माँ को देख कर मुस्कुराने लगे कि तुम्हारे बेटे को कुछ नहीं पता चला। लेकिन मैंने भी उनको ऐसा ही दिखाया कि मुझे कुछ नहीं पता है।

मेरी दूसरी कहानी आने वाली है कि ताऊ जी ने माँ को हमारे यानि के शहर वाले घर में कैसे चोदा। तो इन्तजार करो दोस्तो।

फिर तेरी कहानी याद आई - (पाठको के कलम से)

सभी दोस्तों को मेरा प्यार भरा नमस्कार। अपनी कहानी या आप बीती बताने से पहले मैं स्वय का परिचय देना उचित समझता हूँ। मेरा नाम अरिन्दम है, मैं कोलकाता से हूँ। मैं विज्ञान में ग्रेजुएट हूँ।

कोई हादसा बताने से पहले उसका वातावरण और परिस्थितियां बताना आव्श्यक होता है, नहीं तो कहानी समझने में परेशानी होती है।

ये उस समय की बात है जब मैंने अपनी सीनीयर सेकेन्ड्री की परीक्षा दे कर कॉलेज में दाखिल हो चुका था।

मैं एक किराये के मकान में रहता था जो मेरे मौसा का ही था। हमारा खुद का मकान तब तक बन कर तैयार नहीं हुआ था। इस मकान में हम तीन लोग रहते थे। मैं पापा और मां दूसरी मंजिल पर रहते थे और मौसाजी चौथे फ़्लोर पर रहते थे। मौसा का रिश्ता हमारे से करीब का रिश्ता था। मौसा की बेटी मुझसे दो साल छोटी थी। उसके साथ मेरा ताल मेल अच्छा था। वो मेरी बहन भी थी और एक अच्छी दोस्त भी थी।

मैं उसे अपनी दिल की कर एक बात बताता था। वो मेरी हर बात को ध्यान से सुनती थी। पिन्की रूपा की करीब की सहेली थी मतलब बेस्ट फ़्रेन्ड थी, जो रूपा के साथ एक ही क्लास में पढती थी। पिन्की बहुत खूबसूरत थी ये तो मैं नहीं कहूंगा। लेकिन उसमे कोई बात थी, कोई कशिश थी जो मेरे दिल को छू जाती थी। स्कूल से छूटने के बाद वो रोज ही मिलने के लिये हमारे अपार्टमेन्ट में आती थी, क्यूंकि रूपा के साथ रिश्ता बहुत अच्छा था। हम तीनो ही कभी कभी मूड होने पर खूब गप्पे मारते थे। कभी मौका मिलने पर मैं उन दोनो के साथ सिनेमा देखने भी जाता था।

इतना सब कुछ होने के बाद भी मैं पिन्की के साथ खुल कर बात नहीं कर पाता था। धीरे धीरे मुझे महसूस होने लगा था कि मैं उसे प्यार करने लगा हूँ। मैं अपने दिल की बात पिन्की को बताऊ, उससे पहले मैंने रूपा से पूछ लेना उचित समझा। इसलिये एक दिन मैंने साहस करके अपने दिल की बात रूपा को बता दी। पहले तो वो सुन कर हंस पड़ी, फिर सम्भलते हुये बोली - ये बहुत ही अच्छी बात है। फिर उसी से मुझे पता चला कि पिन्की भी मेरे बारे में रूपा से पूछताछ करती है। रूपा ने मुझे खुद ही आगे बढ कर प्यार का इजहार करने की सलाह दी।

उसने बताया कि ये काम तो वो भी कर सकती है लेकिन मेरे स्वयं को पिन्की को जाकर बताने से इसका असर बहुत अच्छा होगा। रूपा की सलाह के मुताबिक मैंने एक दिन अपनी हिम्मत जुटाई और हमारे अपार्टमेन्ट के नीचे जाकर खड़ा हो गया और फिर पिन्की के आने का इन्तज़ार करने लगा। पर हाय रे दिल ! मैंने जैसे ही पिन्की को देखा मेरी जबान सूखने लगी, तालू से चिपक कर रह गई। पसीना निकल पड़ा। अब तो वो मेरे बिलकुल नजदीक आ चुकी थी। मेरा दिल जोर जोर से धड़कने लगा। मेरी हालत देख कर पिन्की हंस पड़ी और नीचे खड़े होने की वजह पूछने लगी।

मुझे पता था कि ये प्यार के इजहार करने का सुनहरा मौका था। लेकिन मैं अन्दर से इतना बौखलाया हुआ था कि मैंने अपना यह सुनहरा मौका गवां दिया। मेरे मुख से निकल पड़ा - वो ,मेरा एक दोस्त आने वाला है इसलिये मैं उसके इन्तज़ार में नीचे खड़ा हूँ।

मेरे हकला कर बोलने से पिन्की फिर से एक बार और हंस पड़ी। मेरी हालत ये थी कि मैं तो अपनी तक भी उससे नहीं मिला पा रहा था।

मैंने बाद में रूपा को जो जो हुआ था सब बता दिया। उसे भी एक बार तो हंसी आ गई। फिर बोली उसे ये बात पता है, पिन्की ने उसे ये सब खुद बताया था। मुझे बेहाल देख कर रूपा ने फिर से कोशिश करने की सलाह दी।

देखते देखते तीन महिना गुज़र गया लकिन मैं हिम्मत नहीं जुटा पाया। इसी दौरान हमारा खुद का मकान पूरा बन चुका था। हम लोग नये घर में जाने की तैयारी कर रहे थे। एक रविवार के दिन मैं, मां, रूपा मौसा और मौसी मिलकर घर का कुछ सामान और गृह प्रवेश काकुछ सामान भी लेकर नये वाले घर में गये। पापा हर रविवार को दादा, दादी, चाचा और चाची से मिलने के लिये अपने गांव जाया करते थे, इसलिये वो हमारे साथ नहीं थे।

उस रविवार को मेरे घर पर मेरा एक दोस्त आने वाला था, इसलिये मैं सामान रख कर जल्दी ही वहां से निकल गया था। तभी यकायक मेरे मन में एक ख्याल आया कि रूपा और मौसी का तो नये घर में आने का कार्यक्रम तो सवेरे हू बना था। पिन्की को तो ये पता नहीं था। वो तो हर दिन की तरह आज भी रूपा से मिलने जरूर आयेगी। इस मौके को हाथ से नहीं जाने देना है। मैंने अपने दोस्त को फोन कर दिया कि मुझे आज नये घर मेजाना है इसलिये सोम वार को आना।

घर पहुंचते ही मुझे लगा कि यh मौका सुनहरा है। मैं ये मौका मिलने से बहुत रोमांचित होने लगा था। मौका को हाथ में लेने के लिये और प्यार का इजहार करने लिये मैं अपने आपको अलग ढंग से तैयार भी करने लगा। लेकिन जैसे ही पिन्की के आने का समय नजदीक आने लगा मेरा कोंफ़ीडेन्स बढने के बजाय डगमगाने लगा। इसी समय किसी के ऊपर आने की आवाज सुनकर मैंने दरवाजे के होल पर आंख लगा दी। देखा तो पिन्की रूपा से मिलने के लिये ऊपर ही आ रही थी। जैसे ही वो ऊपर चली गई तो मैं अपना दरवाजा खोल कर उसके लौटने का इन्तज़ार करने लगा।

कुछ समय बाद वो नीचे उतर कर आई तो मुझे देख कर उसने मुझे रूपा के बारे में पूछा। तो मैंने उसे कि वो मेरे पापा और मम्मी के साथ नये घर में गई हुई है। पिन्की जैसे ही पीछे मुड़ कर लौट जाने के लिये मुड़ी तो मैंने उसे कहा कि वो मेरे घर पर रूपा का इन्तज़ार कर ले। पहले तो ना करने लगी, पर मैंने उसे थोरा सा जोर दिया तो वो मान गई।

घर में घुसने के बाद मैंने उसे सोफ़ा पर बैठा दिया और खुद भी उसके सामने बैठ गया। पहले तो हम चुपचाप ही बैठे रहे, वो भी खामोश थी और मैं भी । फिर पिन्की ने ही पूछा कि मैं खामोश क्यू बैठा हूँ। जवाब में मैं हिचकिचा गया और मुझसे कोई जवाब नहीं देते बना।

कुछ देर बाद उसने मुझे एक गिलास पानी के लिये कहा। मैं उठ कर पानी लेने चला गया और मन ही मन में सोचा कि जब वो पानी पीने के बाद गिलास वापस देगी तो मैं उसका हाथ पकड़ लूंगा और प्यार का इजहार कर दूंगा। फिर मैंने वैसा ही किया और गिलास लौटाते समय मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और मैंने उसे प्यार का इजहार कर दिया। इसके बाद हामरी बीच की बातचीत कुछ इस तरह से हुई।

मैं : पिन्की, मैं तुम से प्यार करता हूँ। क्या तुम भी मुझ से प्यार करती हो?

पिन्की : पता नहीं

मैं : देखो तुम कुछ तो बोलो ,तुम तो मुझे जानती हो, इस लिये प्लीज जो भी कहना हो मुझे बता दो।

यह बात सुनकर वो कुछ देर तक खमोश रही ओर उसके बाद उसने मेरे मन की बात ली और फिर वो मान गई। उसने बताया कि वो भी मुझसे प्यार करती है।

उसके बाद मैंने उसे अपनी बांहो में भर लिया और उसके होंठो को चूमने लगा। पांच मिनट तक हम एक दूसरे को जोश के साथ चूमते रहे। फिर मुझे ख्याल आया कि हमारे रूम की खिड़की खुली है। इसलिये मैं पिन्की को लेकर बेड रूम में चला गया।

पिन्की शर्माती और सकुचाती सी मेरे साथ चल पड़ी। मैंने उसे बेड पर लेटा दिया। वो झिझकती हुई बेड पर लेट गई। मैं भी धीरे से उसकी बगल में लेट गया। वो शर्मा कर मेरे से लिपट गई और मेरी छाती पर उसने अपना मुँह छुपा लिया। मैंने उसका चेहरा ऊपर करके उसे चूमना शुरू कर दिया था। उसकी सांसे उत्तेजना के मारे जोर जोर से चलने लगी थी। मैं समझ गया था कि वो भी मेरी तरह गरम हो चली है। मेरा लण्ड भी उसे चोदने के बेताब हो चला था। उसे खुली किताब की देख कर मेरा मन उसे चोदने को हो उठा । पर तभी मेरी नजर घड़ी पर पड़ी। मैं चौंक गया और झटपत उठ गया। पापा के लौटने का समय हो गया था। वो असंजस निगाहों से मुझे देखने लगी कि ये क्या हो गया । मैंने पिन्की को समझा दिया। हमारे प्यार का सफ़र बीच में ही रुक गया।

उस दिन के बाद मैं और पिन्की छुप छुप कर घूमने जाया करते थे। कभी कभी रूपा भी हमारे साथ हो लेती थी।

चुद गयी नौकरनी मुझसे - (पाठको के कलम से)

दोस्तों, लड़की को सीड्यूस करके चोदने में बड़ा मज़ा आता है। बस सीड्यूस करने का तरीका ठीक होना चाहिये। मैंने अपनी घर की नौकरानी को ऐसे ही सीड्यूस करके खूब चोदा। अब सुनाता हूं उसकी दास्तान। मेरा नाम है वही आपका अपना जाना पहचाना "होम अलोन" अमित। मेरे घर में उल ज़लूल नौकरानियों के काफ़ी अरसे बाद एक बहुत ही सुन्दर और सेक्सी नौकरानी काम पर लगी। उसका नाम आरती था। 22-23 साल की उमर होगी। सांवला सा रंग था। मध्यम ऊंचायी की और सुडौल बदन, और फ़िगर उसका रहा होगा 33-26-34। शादी शुदा थी। उसका पति कितना किस्मत वाला था, साला उसे खूब चोदता होगा।

बूबस यानि चूंचियां ऐसी कि हाय, बस दबा ही डालो। ब्लाऊज में चूंचियां समाती ही नही थी। कितनी भी साड़ी से वो ढकती, इधर उधर से ब्लाऊज से उभरते हुए उसकी चूंचियां दिख ही जाती थी। झाड़ू लगाते हुए, जब वह झुकती, तब ब्लाऊज के ऊपर से चूचियों के बीच की दरार को छुपा ना पाती थी। एक दिन जब मैंने उसकी इस दरार को तिरछी नज़र से देखा तो पता लगा की उसने ब्रा तो पहना ही नही था। कहां से पहनती, ब्रा पर बेकार पैसे क्यों खर्च किये जायें। जब वो ठुमकती हुयी चलती, तो उसके चूतड़ बड़े ही मोहक तरीके से हिलते और जैसे कह रहे हों कि मुझे पकड़ो और दबाओ। अपनी पतली सी साटन की साड़ी को जब वो सम्भालती हुयी सामने अपने बुर पर हाथ रखती तो मन करता की काश उसकी चूत को मैं छू सकता, दबा सकता। करारी, गरम, फ़ूली हुयी और गीली गीली चूत में कितना मज़ा भरा हुआ था। काश मैं इसे चूम सकता, इसके मम्मे दबा सकता, और चूचियों को चूस सकता। और इसकी चूत को चूसते हुए जन्नत का मज़ा ले सकता। और फिर मेरा तना हुए लौड़ा इसकी बुर में डाल कर चोद सकता। हाय मेरा लण्ड ! मानता ही नहीं था। बुर में लण्ड घुसने के लिये बेकरार था। लेकीन कैसे। वो तो मुझे देखती ही नही थी। ब�h� अपने काम से मतलब रखती और ठुमकती हुयी चली जाती।
मैंने भी उसे कभी एहसास नही होने दिया कि मेरी नज़र उसे चोदने के लीये बेताब है। अब चोदना तो था ही। मैंने अब सोच लिया की इसे सीड्यूस करना ही होगा। धीरे धीरे सीड्यूस करना पड़ेगा वरना कहीं मचल जाये या नाराज हो जायें तो भाण्डा फ़ूट जायेगा। मैंने आरती से थोड़ी थोड़ी बातें करना शुरु किया। एक दिन सुबह उसे चाय बनने को कहा। चाय उसके नरम नरम हाथों से जब लिया तो लण्ड उछला। चाय पीते हुए कहा, “आरती, चाय तुम बहुत अच्छी बना लेती हो”। उसने जवाब दिया, “बहुत अच्छा बाबूजी।”
अब करीब करीब रोज़ मैं चाय बनवाता और उसकी बड़ाई करता। फिर मैंने एक दिन कॉलेज जाने के पहले अपनी कमीज इस्त्री करवायी।
“आरती तुम इस्त्री भी अच्छी ही कर लेती हो।”
“ठीक है बाबूजी,” उसने प्यारी सी अवज़ में कहा। जब घर में कोई नही होता, तब मैं उसे इधर उधर की बातें करता। जैसे,
“आरती, तुम्हारा आदमी क्या करता है ?”
“साहब, वो एक मिल मैं नौकरी करता है।”
“कितने घण्टे की ड्यूटी होती है ?” मैंने पूछा।
“साहब, 10-12 घण्टे तो लग ही जाते है न। कभी कभी रात को भी ड्यूटी लग जाती है।”
“तुम्हारे बच्चे कितने है ?” मैंने फिर पूछा।
'अभी कितने बच्चे है'
शरमाते हुए उसने जवाब दिया, “अभी तो एक लड़की है, 2 साल की।”
“उसे क्या घर में अकेला छोड़ कर आती हो ?” मैं पूछता रहा।
“नही, मेरी बूढी सास है ना। वो सम्भाल लेती है।”
“तुम कितने घरों में काम करती हो ?” मैंने पूछा।
“साहब, बस आपके और एक नीचे घर में।”
मैंने फिर पूछा, “तो तुम दोनो का काम तो चल ही जाता होगा।”
“साहब, चलता तो है, लेकीन बड़ी मुश्किल से। मेरा आदमी शराब में बहुत पैसे बरबाद कर देता है।”
अब मैंने एक इशारा देना उचित समझा। मैंने सम्भलते हुए कहा, “ठीक है, कोई बात नही। मैं तुम्हारी मदद करूंगा।”
उसने मुझे अजीब सी नज़र से देखा, जैसे पूछ रही हो – क्या मतलब है आपका।
मैंने तुरन्त कहा, “मेरा मतलब है, तुम अपने आदमी को मेरे पास लाओ, मैं उसे समझाऊंगा।”
“ठीक है साहब,” कहाते हुए उसने ठण्डी सांस भरी।

इस तरह, दोस्तों मैंने बातों का सिलसिला काफ़ी दिनो तक जारी रखा और अपने दोनो के बीच की झिझक को मिटाया। एक दिन मैंने शरारत से कहा,
“तुम्हारा आदमी पागल ही होगा। अरे उसे समझना चाहिये। इतनी सुन्दर पत्नी के होते हुए, उसे शराब की क्या ज़रूरत है।”
औरत बहुत तेज़ होती है दोस्तों। उसने कुछ कुछ समझ तो लिया था लेकिन अभी तक अहसास नही होने दिया अपनी ज़रा सी भी नाराजगी का। मुझे भी ज़रा सा हिन्ट मिला कि अब तो ये तस्वीर पर उतर जायेगी। मौका मिले और मैं इसे दबोचूं। चुदवा तो लेगी और आखिर एक दिन ऐसा एक मौका लगा। कहते है ऊपर वाले के यहां देर है लेकीन अन्धेर नहीं।
रविवार का दिन था। पूरी फ़ेमिली एक शादी में गयी थी। मैंने पढायी का नुक्सान की वजह बताकर नही गया। कह कर गयी थी “आरती आयेगी, घर का काम ठीक से करवा लेना।”
मैंने कहा, “ठीक है,”
मेरे दिल में लड्डू फ़ूटने लगे और लौड़ा खड़ा होने लगा। वो आयी, उसने दरवाज़ा बन्द किया और काम पर लग गयी। इतने दिन की बातचीत से हम खुल गये थे और उसे मेरे ऊपर विश्वास सा हो गया था इसी लिये उसने दरवाज़ा बन्द कर दिया था। मैंने हमेशा की तरह चाय बनवायी और पीते हुए चाय की बड़ाई की। मन ही मन मैंने निश्चय किया की आज तो पहल करनी ही पड़ेगी वरना गाड़ी छूट जायेगी। कैसे पहल करे ? आखिर में ख्याल आया कि भैया सबसे बड़ा रुपैया। मैंने उसे बुलया और कहा,
“आरती, तुम्हे पैसे की ज़रूरत हो तो मुझे ज़रूर बताना। झिझकना मत।”
“साहब, आप मेरी तनखा काट लोगे और मेरा आदमी मुझे डांटेगा।”
“अरे पगली, मैं तनखा की बात नही कर रहा। बस कुछ और पैसे अलग से चाहिये तो मैं दूंगा मदद के लिये। और किसी को नही बताऊंगा। बशर्ते तुम भी ना बताओ तो।”
और मैं उसके जवाब का इनतज़ार करने लगा।
“मैं क्यों बताने चली। आप सच में मुझे कुछ पैसे देंगे ?” उसने पूछा।

बस फिर क्या था। कुड़ी पट गयी। बस अब आगे बढना था और मलाई खानी थी।
“ज़रूर दूंगा आरती। इससे तुम्हे खुशी मिलेगी ना,” मैंने कहा।
“हां साहब, बहुत आराम हो जायेगा।” उसने इठलाते हुए कहा।
अब मैंने हलके से कहा, “और मुझे भी खुशी मिलेगी। अगर तुम भी कुछ ना कहो तो और जैसा मैं कहूं वैसा करो तो ? बोलो मंज़ूर है ?”
ये कहते हुए मैंने उसे 500 रुपये थमा दिये। उसने रुपये टेबल पर रखा और मुसकुराते हुए पूछा,
“क्या करना होगा साहब ?”
“अपनी आंखे बन्द करो पहले।” मैं कहते हुए उसकी तरफ़ थोड़ा सा बढा, “बस थोड़ी देर के लिये आंखे बन्द करो और खड़ी रहो।”
उसने अपनी आंखे बंद कर ली। मैंने फिर कहा, “जब तक मैं ना कहूं, तुम आंखे बंद ही रखना, आरती। वरना तुम शर्त हार जाओगी।”
“ठीक है, साहब,” शरमाते हुए आंखे बंद कर वो खड़ी थी। मैंने देखा की उसके गाल लाल हो रहे थे और होंठ कांप रहे थे। दोनो हाथों को उसने सामने अपनी जवान चूत के पास समेट रखा था।

मैंने हलके से पहले उसके माथे पर एक छोटा सा चुम्बन लिया। अभी मैंने उसे छुआ नहीं था। उसकी आंखे बंद थी। फिर मैंने उसकी दोनो पलकों पर बारी बारी से चुम्बन लिया। उसकी आंखे अभी भी बन्द थी। फिर मैंने उसके गालों पर आहिस्ता से बारी बारी से चूमा। उसकी आंखे बन्द थी। इधर मेरा लण्ड तन कर लोहे की तरह कड़ा और सख्त हो गया था। फिर मैंने उसकी ठोड़ी (चिन) पर चुम्बन लिया। अब उसने आंखे खोली और सिर्फ़ पूछते हुए कहा, “साहब ?”
मैंने कहा, “आरती, शर्त हार जाओगी। आंखे बन्द।”
उसने झट से आंखे बन्द कर ली। मैं समझ गया, लड़की तैयार है, बस अब मज़ा लेना है और चुदायी करनी है।

मैंने अब की बार उसके थिरकते हुए होठों पर हलका सा चुम्बन किया। अभी तक मैंने छुआ नही था उसे। उसने फिर आंखे खोली और मैंने हाथ के इशारे से उसकी पलको को फिर ढक दिया। अब मैं आगे बढा, उसके दोनो हाथों को सामने से हटा कर अपनी कमर के चारो तरफ़ लपेट लिया और उसे अपनी बाहों में समेटा और उसके कांपते होठों पर अपने होठ रख दिये और चूमता रहा। कस कर चूमा अबकी बार। क्या नरम होठ थे मानो शराब के प्याले। होठों को चूसना शुरु किया और उसने भी जवाब देना शुरु किया। उसके दोनो हाथ मेरी पीठ पर घूम रहे थे और मैं उसके गुलाबी होठों को खूब चूस चूस कर मज़ा ले रहा था। तभी मुझे महसूस हुआ कि उसकी चूंचियां जो कि तन गयी थी, मेरे सीने पर दब रही थी। बायें हाथ से मैं उसकी पीठ को अपनी तरफ़ दबा रहा था, जीभ से उसकी जीभ और होठों को चूस रहा था, और दायें हाथ से मैंने उसकी साड़ी के पल्लू को नीचे गिरा दिया।

दांया हाथ फिर अपने आप उसकी दायीं चूंची पर चला गया। और उसे मैंने दबाया। हाय हाय क्या चूंची थी। मलायी थी बस मलायी। अब लण्ड फुंकारे मार रहा था। बांये हाथ से मैंने उसके चूतड़ को अपनी तरफ़ दबाया और उसे अपने लण्ड को महसूस करवाया। शादी शुदा लड़की को चोदना आसान होता है। क्योंकि उन्हे सब कुछ आता है। घबराती नही है। ब्रा तो उसने पहनी ही नहीं थी, ब्लाऊज के बटन पीछे थे, मैंने अपने दांये हाथ से उन्हें खोल दिया और ब्लाऊज को उतार फेका। चूंचियां जैसे कैद थी, उछल कर हाथों में आ गयी। एकदम सख्त लेकिन मलायी की तरह प्यारी भी। साड़ी को खोला और उतारा। बस अब साया बचा था। वो खड़ी नही हो पा रही थी। उसकी आंखे अभी भी बन्द थी। मैं उसे हल्के हल्के से खींचते हुए अपने बेडरूम मैं ले आया और लेटा दिया। अब मैंने कहा, “आरती रानी अब तुम आंखे खोल सकती हो।”
“आप बहुत पाजी है साहब”, शरमाते हुए उसने आंखे खोली और फिर बन्द कर ली। मैंने झट से अपने कपड़े उतारे और नंगा हो गया। लण्ड तन कर उछल रहा था। मैंने उसका साया जल्दी से खोला और खींच कर उतारा। जैसे वो चुदवाने को तैयार ही थी। कोई अन्डरवियर नही पहना हुआ था। मैंने बात करने के लिये कहा,
“ये क्या, तुम्हारी चूत तो नंगी है। चड्डी नही पहनती क्या।”
“नहीं साहब, सिर्फ़ महीना में पहनती हू।” और शरमाते हुए कहा, “साहब, परदे खींच कर बन्द करो ना। बहुत रोशनी है।” मैंने झट से परदों को बन्द किया जिससे थोड़ा अन्धेरा हो गया और मैं उसके ऊपर लेट गया। होठों को कस कर चूमा, हाथों से चूंचियां दबायी और एक हाथ को उसके बुर पर फिराया। घुंघराले बाल बहुत अच्छे लग रहे थे चूत पर। फिर थोड़ा सा नीचे आते हुए उसकी चूंची को मुंह मैं ले लिया। अहा, क्या रस था। बस मज़ा बहुत आ रहा था। अपनी एक अंगुली को उसकी चूत के दरार पर फिराया और फिर उसके बुर में घुसाया। अंगुली ऐसे घुसी जैसे मक्खन मैं छुरी। चूत गरम और गीली थी। उसकी सिसकारियां मुझे और भी मस्त कर रही थी। मैंने उसकी चूत चीरते हुए कहा, “आरती रानी, अब बोलो क्या करूं ?”
“साहब, मत तड़पाईये, बस अब कर दीजिये।” उसने सिसकारियां लेते हुए कहा।
मैंने कहा, “ऐसे नहीं, बोलना होगा, मेरी जान।”
मुझे अपने करीब खींचते हुए कहा, “साहब, डाल दीजिये ना।”
“क्या डालूं और कहां ?” मैंने शरारत की। दोस्तो चुदायी का मज़ा सुनने में भी बहुत आता है।
“डाल दीजिये ना अपना ये लौड़ा मेरी चूत के अन्दर।” उसने कहा और मेरे होठों से अपने होठ चिपका लिये। इधर मेरे हाथ उसकी चूचियों को मसलते ही जा रहे थे। कभी खूब दबाते, कभी मसलते, कभी मैं चूचियों को चूसता कभी उसके होठों को चूसता। अब मैंने कह ही दिया,
“हां रानी, अब मेरा ये लण्ड तेरी बुर में घुसेगा। बोलो चोद दूं।”
“हां हां, चोदिये साहब, बस चोद दीजिये।” और वो एकदम गरम हो गयी थी।
फिर क्या था, मैंने लण्ड उसके बुर पर रखा और घुसा दिया अन्दर। एकदम ऐसे घुसा जैसे बुर मेरे लण्ड के लिये ही बनी था। दोस्तों, फिर मैंने हाथों से उसकी चूचियों को दबाते हुए, होठों से उसके गाल और होठों को चूसते हुए, चोदना शुरु किया। बस चोदता ही रहा। ऐसा मन कर रहा था की चोदता ही रहूं। खूब कस कस कर चोदा। बस चोदते चोदते मन ही नही भर रहा था। क्या चीज़ थी यारों, बड़ी मस्त थी। वो तो खूब उछल उछल कर चुदवा रही थी।

“साहब, आप बहुत अच्छा चोद रहे हैं, चोदिये खूब चोदिये, चोदना बन्द मत कीजिये”, और उसके हाथ मेरी पीठ पर कस रहे थे, टांगे उसने मेरी चूतड़ पर घुमा कर लपेट रखी थी और चूतड़ से उचल रही थी। खूब चुदवा रही थी। और मैं चोद रहा था। मैं भी कहने से रुक ना सका,
“आरती रानी, तेरी चूत तो चोदने के लिये ही बनी है। रानी, क्या चूत है। बहुत मज़ा आ रहा है। बोल ना कैसी लग रही है ये चुदायी।”
“बस साहब, बहुत मजा आ रहा है, रुकिये मत, बस चोदते रहिये, चोदिये चोदिये चोदिये।” इस तरह हम ना जाने कितनी देर तक मज़ा लेते हुए खूब कस कस कर चोदते हुए झड़ गये।

क्या चीज़ थी, वो तो एकदम चोदने के लिये ही बनी थी । अभी मन नही भरा था। 20 मिनिट के बाद मैंने फिर अपना लण्ड उसके मुंह में डाला और खूब चुसवाया। हमने 69 की पोजिशन ली और जब वो लण्ड चूस रही थी मैंने उसकी चूत को अपनी जीभ से चोदना शुरु किया। खास कर दूसरी बार तो इतना मज़ा आया की मैं बता नही सकता। क्योंकि अब की बार लण्ड बहुत देर तक चोदता रहा। लण्ड को झड़ने में काफ़ी समय लगा और मुझे और उसे भरपूर मज़ा देता रहा।
कपड़े पहनने के बाद मैंने कहा, “आरती रानी, बस अब चुदवाती ही रहना। वरना ये लण्ड तुम्हे तुम्हारे घर पर आकर चोदेगा।”
“साहब, आप ने इतनी अच्छी चुदायी की है, मैं भी अब हर मौके में आपसे चुदवाऊंगी। चाहे आप पैसे ना भी दो।” कपड़े पहनने के बाद भी मेरे हाथ उसकी चूचियों को हलके हलके मसलते रहे। और मैं उसके गालों और होठों को चूमता रहा। एक हाथ उसके बुर पर चला जाता था और हलके से उसकी चूत को दबा देता था।

“साहब अब मुझे जाना होगा।” कहा कर वो उठी। मैंने उसका हाथ अपने लण्ड पर रखा ,
“रानी एक बार और चोदने का मन कर रहा है। कपड़े नही उतारूंगा।' दोस्तों, सच में लण्ड कड़ा हो गया था और चोदने की लिये मैं फिर से तैयार था। मैंने उसे झट से लेटाया, साड़ी उठायी, और अपना लौड़ा उसके बुर में पेल दिया। अबकी बार उसे भचाभच करके खूब चोदा और कस कर चोदा और खूब चोदा और चोदता ही रहा। चोदते चोदते पता नही कब लण्ड झड़ गया और मैंने कस कर उसे अपनी बाहों में जकड़ लिया। चूमते हुए चूचियों को दबाते हुए, मैंने अपना लण्ड निकाला और अन्त में उसे विदा किया।