Showing posts with label Hindi Sexy Stories. Show all posts
Showing posts with label Hindi Sexy Stories. Show all posts

Sunday, 4 December 2016

Vahini la zavalo - marathi Hindi sex kahani

Vahini la zavalo - marathi Hindi sex kahani

Mai jab bhiBhaiya ke ghar
jata hu to mujhe, hamesh se hi vahini ko dekhkar use chodane ki ichchya
hoti hai. Uska sunder sa chehare ko dekh kar na jane maine kitne bar
muthth mari hai. Par use nahi chod paya. Sadi ke baad se hi Bhaiya
hardam kaam karne ke liye bahar hi rahe hai, vahini ko bhi pura such
nahi de pate. Shayad vahini apni ungli se hi kaam chala leti hai. Aur
jab Bhaiya nahi hite to apni bistar par nagi hi soti hai. Kya kammal ki
figure hai usi. Chhote aur soft dudh (Boobs), mast Gand (Ass) &
shayad gulabi chud (Pussy). Aise hi ek din jab mai subah utha to dekha
ki, niche koi bhi nahi hai, pur bathroom ke pass kai hai, maine pass ja
kar dekha to vahini ki ek ungli uske chud me thi, salwar gutno ke niche
pada tha, aur dusra hath kameese ke under se doodh par tha, muh me use
tooth brush tha. Iss ajeeb awastha me wo mujhe deh kar, thithak gai, do
minute vaise hi khade rahi, phir bathroom me chali gai. Useke baad us
din usane aankhe nahi milai, baad me maine soch ki shayad Bhaiya ke
bina sex control nahi ho raha hai.
Kaam ke bajh jayada hone ke karn Bhaiya jab bhi vapas aate to thake hue
hote, shayad jyada sex nahi kar pate. Bhaiya keval do ya theen din ke
liye hi aate hai, phir chale jate hai, aise hi unki saadi ko ek saal ho
gaya, sadi ke salgirah par Bhaiya office ke tour par hi the. Done ne
phone par baat ki. Maine bhi dono ko phone par badhaeya de. Par ghar me
vahini ka maan nahi lag raaha tha. Maine vahini ko kaha ki chhaalo mai
tumhe bahar gumane le jata hu, kyoki us din mere college me ****ti
(Holyday) tha. Vo maan gai, taiyar hone vo apne kamre me chali gai, par
use aankho me mai sex saaf dekh sakta tha aur mahsuus kar sakta tha.
Hame car ke bajae motor bike par ki jana thik samajha. Barish abhi katm
hi hue thi, isliye mausam suhana tha. Gadi mai chala raha tha, isliye
uske boobs mujh se takara rahe the, vo dono side pair karke ladko ki
style me baithi thi. Usne thight T-shirt aur jeans pahani thi. Puri sex
boom lag rathi this. Phir hamne khana bahar hi khaya, vapas aate samay
kaffi raat ho gai thi. Pani girne keran mousam me thandak badh gai thi.
Ghar par aa kar vo sofe par baith gai, aur aankhe band kar li, vaise hi
padi rahi, jaise kafi thak gai ho, jab gadi par uske boos me pith par
takrate to dono ke badan me sirhan paida ho jati. Uski is harkat ko mai
mahsus kar sakta tha. Mousam thamnda hone ke karan, use bhi thand lag
rahi thi, maine TV on kiya, channel surfing karte samay, usne puchha,
ki kya tumhari koi garl friend nahi hai, maine kahi ki hai, fir dhire
dhire, kamre ka mahol (atmosphere) badalane laga, use sex life ke bare
me puncha, to maine bhi bina sarmai, use sab bata diya.
Ab meine puchha ki tumhari sex life kaise hai, kya ,maja aata hoga,
pahle bhi kabhi kiya hai ya suhagrat me pahli bar, aur batate batatey
vo udas ho gai, thodi der baad usene bataya ki usne thik se sex nahi
kiya hai, Bhaiya use satisfaction nahi de pa rahe hai, unla lund bhi
chhota hai. Aise kahte hue vo udas ho gai aur uske aankho se aansu
bahne lage, maine paas jakar baith gaya, aaur uske aanshu pochhane ke
liye uski garden aapne kandhe par rakh diya, mai uske dodh ko apni
chhati par mahsoos kar raha tha. Maine uske sir par se hanth phiraya,
aur vo mujh se chipak gai. Mai satve asmaan par tha. Uske baad maine
uske garden ke pichhe chumna suru kiya, usne jhatke se sir pichhe kiya,
maine sochha ki ye mere liye invitation hai, maine uske lips ko chhumne
ke liye apne lipse age kiye, usne kaha, I Love you sumit, (Bhaiya ka
naam sumit hai), maine use vaise hi chhod diya. Par usne bhi mujhe apni
baho me bandha hua tha, use apni galti ka ahsaas hua, vo alag hona
chahti thi, par uske mangalsutra mere tabij me fas gaya tha. Usne
madbhari nigaho se mujhe dekha, aur kaha dekho hum chah kar bhi alag
nahi ho sakte hai. Phir maine ek hanth uske kamar me daala, aur usko
kiss karma laga, vo bhi mera santh de rahi hi, maine dhire dhire apna
hanth usek Tshirt ke andar dala uski bra ka hooke khol diya, aur use
chumane laga. Ab vo bhi garam hone lagi thi, usne bhi muh se aavaje aa
rahi thi. Thigh jeans aur sofe par baithe hone ke karan mai uski pant
me haanth nahi dal pa raha tha, vo uth kar mere gode me baith gai,
utane der me mera hanth uske gaad par ja pahuch aur maine uski panty ke
upper se he use dabana suru kiya, uske pant ka hook khol kar maine use
niche kiya, ek sundar si chhut panty ke andar thi, thodi gili ho gait
hi, maine use touch kiya to yo sihar uthi, uska chehara dekhane layak
tha.
Jeans pant ghutano tak a gait thi, use baithne me taklif ho rahi thi,
par kam vasna bahut tej hone ke karan vo sari taklif sahati rahi, thodi
der ke bar usse control nahi hua aur uske **** se pani pahane lag. Uski
pant gili ho gait hi, najaro me uske saram thi kyoki vo jaldi jhad gai
thi, vahini uth kar jane lagi, maine use rokna chaha, par vo lajja ke
mare, upper kamre me chali gai. Mai bhi ab tak josh me aa chukka tha,
mera land khada ho chukka tha, mai bhi uske piche upper kamre me chala
gaya, usne kaha kit um chale jao mujhe kapde badalane hai, maine kaha
nahi, mai nahi jauga, usne kaha, mejhe saram aati hai, jaise hi mai
uthane laga, na jane kuch soch kar mai vahi baithe raha, kyoki uski
jeans ghutano par thi, aur **** se pani nikal chukka tha, uski panty
aur pant dono gile ho chuke the, vo us condition me jyada der nahi rah
sakti thi, so usne mere samne, hi jeans aur T shirt Utar di. Kya batau,
kya seen tha, vo keval Bra aur Panty me mere samne khadi thi, mere land
bekabu ho gaya, maine bhi use apne paint se nikal liya, vahini use
dekhati rah gai, mera land 8’ ka lamba aur 3’ ka mota hai, uski ankho
me saram, daar, utsah, aur ichcha sab ek saath dekh sakta tha. Vo vaise
hi khadi thi, maine puchch akya hua, vahini boli, tumhara to bahut bada
hai, mai nahi chudwaugi, mujhe daar lagta hai.
Iske baad vo bister per aa gai, maine karwat badal kar use kiss kiya,
vo shant ho gait hi, maine use chhod diya, par kamre me hi pura nanga
khade hokar mutth marne laga, mera virya ki khusabu kamre me mahak
raahi thi. Vo bhi dekh rahi thi, itne me mera virya nikal kar uske
badan par ja gira, vo chillate hue boli, ye kya kar dia, mujhe nahana
padega, aisa kahte hue vo bathroom me chali gai, 2 minite ke baad maine
bathroom ka darwaja katkataya, vo boli kya hai, maine kaha mere pant
andar hai, mujhe chahia, usne darwaja thoda sa kholte hue mere pant de,
maine uske haanth ko pakad kar use bahar khichha, aur chumane laga. Vo
exited ho chuki thi, uske bhi santh dena shuru kar diya, mai ab control
se bahar ho gaya tha, kyoki vo puni nangi thi. Par uske bur par bahut
baal the, maine usme se dhundhte hue uski choot me ungli dalni chahhi,
vo boli nahhiiiiiiiiii, itne der me maine ungli dal kar finger ****
karma shuru kiya, mujhe paata chala ki vo abhi tak Virgin hai, mai jor
jor se finger **** karne lag, aur uske boos ko chussne laga, thodi der
bad vo phir jhad gai, **** gili thi pur vo thodi thaki hue lag rahi thi.
Maine iska faida uthate hue, khade khade apne land ko uske **** ke muth
par rakh diya, vo rone lagi, naiiiiiiiiiiii, please nahi, bahut dard
hoga, mai pregnenet ho jaugi, mera rape mat karo, par mai apni dhun me
mast ek jor ka jhatka diya aur mera land uski jhilli kpo todata hua
andar jane laga, uske muh se chikh nikli, nahiiiiiiiiiiiiiiiii, mai mar
gaiiiiiiiiiiii, uske choot se khoon nikalraha tha,main eek jordar
jhatka diya aur pura ka pura land uske chood me tha, wo jor se rone
lagi, kaha, bahut dard ho raha haiiiiiiiiiiiiii, tumhare land ko nikalo
jaldi, maine nahi nikala, balki jhatke deta raha, vo dard ke mare tadap
uthi, bad me mai ruk gaya, thosdi der bad vaise hi maine use bistar par
litaya, vo aaaaaaahhhhhhha dhire, karne lagi, maine takiya uske gand ke
niche rakha ur uske boos ko jor jor se choosane laga, ek to mera land
uski Virgin chooch ke andar aur uske boos mere muh ke andar, vo ro rahi
thi, uske muh se avaje aa rahi thi, bachau koi mujhe isse bachao, isne
mujhe masal diya hai, vo ro rahi thi. Mai nahi ruka. Jor jor se dhakke
marne laga. Vo dard aur excitement ko jyada der sahan nahi kar parahi
thi, vo jhad gayi, kitna sara maal nikala tha usne, bistar pe safed
chadar hone ke karan chood ka khoon uspar gira tha, use dard ho raha
tha, vo karah rahi thi, maine phir se uski chhod me land dalne ki
koshish ki, usne mere land ko pakad liya, aur kaha bassssss ab nahi,
bahut dard hota hai, dekho meri chood bhi suj gai hai. Maine uski banto
ki taraf dhayan nahi diya, jor ke jhatke se land andar chala gaya,
thodi der baad usko bhi maja aane laga.
Maine ab tak apna land uske chood se nahi nikala tha, mera virya nahi
nikla tha, par mai thoda thak gaya tha, shayad vo bhi, usse uthana nahi
ho raha tha, vo dival ke sahare uthi, ladkhadakar nagi hi, chalet hue
vo kitchen me kuch khane ka saman la rahi thi, mai bhi vahi pahuch
gaya, aur piche se uski **** me jhatke se land dal diya, vo iske liye
taiyar nahi thi, muh se uski chikh nikli, mai danadan stroke marte
raha. Vo madhosh ho gai, aur ghutano ke bal jamin par baith gai, ghodi
ke tarah, mai thok raha tha, vo dard se chilla rahi thi, aur excitement
ki vajah se vo phir jhar gai, ab meri bari thi, mai bhi jor jor se
dhakke detahua apna sara maal uski tight **** me nikal dia. Uske baad
ham vaise hi jamin par lete rahe, vo nagi mere sine par padi thi. Vo
abhi bhi madhosh thi, uski chud se maal nikal raha tha. Phir karib 2
gante tak aram karne ke bad hamne sath me nahaya, vaha bhi mai use
chodne ki koshish me tha, par vo taiyar nahi thi. Mujhe us par taras aa
gaya, uski chhood bilkul hi phool kar dable roti ki tarah suj gai thi,
baad me maine usme malham lagaya, us din vo puri tarah se kevel nighty
me hi thi, uska badan ka eke k ang dard de raha tha. Raat ko phir maine
use chodane ka maan banaya, usse pucha par vo iske liye taiyar nahi
thi, uske badan ka dard dur nahi hua tha, isliye maine us ko pura nanga
karke tel se malish kar di, vo so gai.

Maza aya maa ko chodne main - Hindi sex story

Maza aya maa ko chodne main- Hindi sex story

Yehi mere real stori hai Mera nam rameshwar hai main up main rahta hua main kisan ghar ka hun ghar main main aur mere do bahen aur maa rahnti hai . Pitazi ka dehant ho chukka hai main ghar main sabse bada hun meri umar 21 sal meri do bhaen ranjeeta aur sangeeta 17 aur 15 sal ki hai . Dono puri trah jawan ho gaye hai meri maa ki bhe ek dam jawan lagti koi nahi kah sakta yeh dono uski beti hai balki dono bahen jaisi dikhti hai. Meri maa ki age 42 ke hai dekhne main sunder hai . Hum log ka khoob jamin jaydad hai gaon hum logo se jayad amir koi nahi .goan ke hum log jamindar hai .humra sandar bangle hai . Hum log ka sara kam humare munsi kaka karten hai main bhi thoda bahut kam kar leta hun abhi main cologe main hun meri dono bahen schhol main hain .Ab aapko us sukhed ghatna ki aur chalta hun holi ke samay tha meri baheno exam ho chukka tha mera exam baki tha .main ek din apne computer per sexy film load kar hide karma bhul gaya tha dekha aur shut dowen kar .munsi kaka ke sath kam main lag gaya . Jab ghar wapes aya to dekha ki ranjeeta computer per kuck kar rahi thi uska chera ek dam lal tha .mere ko dekha to hadbada kar rah gaye aur uth kar chai gaye jaldi main who khali sexy pitcher ko mini mize hi kar paye thi main aakar dekha uar band kiya .mere room sefret bathroom hai main andar gayaaur merea lund khada ho chukka tha waise main aap logo ko bata dun her 2 ya tin din main muth marta hun. Main bathroom ke andar gaya aur muth marne laga lakin darwaza ko lock karma bhul gaya tha baher main ek sefret bothrrom hai shayad usmen ranjeeta ya sangeet hogi . Yani ki bahar wala bussy tha .main ankh band kar muth mar raha tha mere lode ka size 9.3 inch lanmba aur 4 inch mota hai .achank meri maa gayee shayd use jor ki pesab lagi thi jab under aye to mere lode ko dekhar apne aap ko rok nahi payee aur munh se hai ram etna bada hai tere aut to kaya kar raha hai main maa ko dekha to gabra gaya,aur turent wanha se bhag nikla . Rat sab aane room main soten hai meri maa ka alag room hai mere baga wali room main aur dusre bagal main meri do no baehn ka room rat ko achank maa ke room main light gul ho gayee sayad wairing kuch falt aa gaya tha . Maa mere ko awaz de aur kaha ki beta aa to zara light tik kar de main maa ke room gaya sttol per chad kar grip ko dekhene laga .main raat ko penty nahi pahenta naga sonta hun esliye jaldi main tawel pehna aur chla aya tha wise to mere aga soye rahi to 6 inch ka raheta hai mer mere lund to khad hi tha koynki main muth mar raha to maa ne awaz de thi esliye main turant uthakar aa gaya tha .main jaise sttol per chad kar grip chek kar raha tha ki mere towel chud kar niche gir gaya maa hant main tarch thi . Jise tawel gira min niche aya maa ki ankh sarma gayee aur tirchi nazar se mere lode ko dekhne lagi main tawel pehna aur maa se bola ki mummy mere thik nahi hoga ka mistry bula laynge cho to app mere room main so sakti ho .man ne kaha thik hai ramu (nice name mera) rat 11 baj rahe the meri dono bahen bhi so gaye thi main aur maa ek bister per the waise rat ko mujhe huk kar ki sone ki adapt hai merea ek pair maai jagng per thaa achank mujhe garmi ka ahasas hua fir dhire dhire maine apna ek hath mummy ke kamar per rekh di (aap logon ko bata dun main gaon kai aurto aur ladki chod chukka hua bahut din se kisi ko choda nahi tha esliye muje joss aa reha tha)maa ne kuch nahi kaha fire mere hath ko uske boob per rakh diya fir thodi der bad sehlane laga .maa so rahi thi fir maa karwat le sidhe ho gayee aur mera hath had li aur kaha kaya kar reha hai setan muskurate uhai boli . Main bola kuch nahi maindar gaya tha. Maa ne kaha fir tere hath idhar kaise aya .shayad maa ko mbhe mere lund pasand aa gaya tha . Main kuch nahi bola, fir se sone laga fir kuch der bad mera hath fir se uske boobs per chala gaya aur abi bar der tak shala aur dabaya bhe fir maa jag gayee aur boli bete main tere maa hun yeh sab thik nahi hai .fir mene kaha maa pita ji ko mare hue 4 sal Ho gayen hainaap bhi to aurat ho plese maa ek bar do no fir kabhi nahi kahunga . Agrar mana karogi Ghar se bhang jaunga .fir maa ne kaha serf ek bar main to andar hi khus ho raha tha. Fire maine mummy ke blouge ko khola aur uske nippal ko chusne laga maa jor se siskar rahi thi aur dono hantho se mere bal ko sahla rahi dhi fir maine mummy ko upper wale bhag ko pura naga kar diya aur jor jor chusne laga uske boob dono hantho se masal raha tha maa oh ; oh’ kah kar krah rahi thi maine maa ko lips ko kis kar raha tha dono ek dusre ko lips ko chus rahe the fir mummy ne kaha ramu bahut din se pyasa hun chal jaldi mere pyas bhuja de maine kaha ruko na maa abhi to suru kiya hun maine fir jaldi se unka pitikot utra aur aur unky penty bhi main khud naga ho gaya mere louda saap ki tarh fukar raha tha main chikni bur dekh kar pagal ho gaya main turnt maa ke bur ko kutee jaise chatne laga mujhe bahut maja aa raha tah a . Fir maa jor jro se siskar rahi thi are beta bue kar . Rahem kar apni maa per jaldi se chod de , aaj mere bur koi nahi chata hai to chat reha hai mere beta .maa ko bur chatwane me maza aa raha tha. Maa nase main boli dekh manderchod janha se tu nikla hai usko acchi trah se chat .maa kamar ucka uckar kar chatwa rahi mujhe uski pudhi k eke sugahdh ne deawana bana diya karib 5 mimne t tak chata raha fir main utha aur maa ke honto ko kis kene laga maa ko bola chus Sali mere hont aur dekh tere pudhi ka sawad kitni achi hai .mera loda puri tarh tanaw main aa chukka tha . Maa ke hont ko do chr bar kiss kiya .fir maa ne ek hath main mere lode ko dekhkar napne lagi aut kaha se laya yeh gadha ki tarh lund ese to tere pita ka bhi nahi tha a. Ajj to mere pudhi fat gaygee . Main bola maa eska sawad to chko maa to pahele mana ki main jabren lode ko uske munh per rakh diya aur ek dhakka diya mere lund maa munh main puri trah se aa nahi raha tha aub maa mere lode ko bade chaw se chus rahi thi fuh fuch ki awag ahh rahi thi . Fir maa ne mere loude munh se nikala aur kaha chal chode . Fir mene der sara thuk apne lund main lagaya wause to maa ki pudhi main chikna ho gaya tha likin merea lund 9.3 lunmba aur 4 inch mota hai . Fir mere lund pudhi ke same le kar thoda sa andar kiya maa ke muh ah ah nikli are maderchod pyar se chod na slae . 4 sal bad chudwa rahi hun. Main jos main aya aur bola Sali nakhre koyon dikhati abhi ½ andar nahi gaya hai .fir main eek jor dar jhta diya maa pudhi ek dam kunwari bur jaise tite tha pura pra ka anda r dal diya maa chik padi .bola sale dhire dhire dal meri pudhi fat GAYEE mainnivhe dekha maa pudhi se khun nikal raha maa ke dard ke mare ankon min aansu aya gaye the . Fir mene unke book mo chusne laga fir ek minet bad louda ko agge piche karne laga .maa ki dard ab siskari main badal chuki thi fir aur kya jor jor se main chodne laga maa do bar jhad chuke thi .main abhi tak nahi jhada tha . Mujhe chode wqt khayl aya ki maa to bus ek bar hi chodne ke liye di hai aage liye abhi pada lun main chudai ko dhere dhere karne laga maa ko ab bahut maza ane laga maa ne kaha bete aisa maza to tere papa se nahi aya tha aaj to tune apni jidgi full se bhar di hai .maine kaha maa agli bar dogi na chodne ke liye . Maa ne kaha pagle aisa lund agar kisi aurat ko mile who kaise mana karege . Ajj se hum log maa beta nahi pathi pathni ke tareh rahenge . Fir main jos main aa gaya aur jo jor dekhe marne laga mane maa ko kaha kaha jhedu maa ne kaha apni pathni ke pudhi me .main jor se mere muh OH OH main to gaya wo wo ow maa . SARA ras maa ke pudhi dal diya. Main udtha aur maa ne mere table se pudhi saf kiya or mere vada karwaya ki aaj ke bad tu muth nahi marega . Maine kaha ab mere bibi hai ab kyon munth marunga. Maa hasne laghi aur kaha setan

सुंदर बर्थडे सेक्स

सुंदर बर्थडे सेक्स

माझी एक कॉलेज मधील कथा आहे. माझे नाव सोनिका आहे. मी २४ वर्षांची आहे. रंग गोरा, माझी फिगर ३२-२८-३४ आहे. छोटे आखूड केस, खांद्यापर्यंत आणि ५ फुट ४ इंच उंची. मी मुळात तमिळ नाडू मधील आहे. मी माझ्या वाढदिवसाची गोष्ट सांगत आहे. तो माझ्या आयुष्यातील सर्वात सुंदर बर्थडे सेक्स होता. तो पण माझ्या एका कॉलेज च्या मित्रासोबत त्याचे नाव राज. आणि आम्ही गेल्या ६ महिन्यांपासून सोबत आहे.
माझ्या कॉलेज च्या दिवसात मी त्याच्या सोबत संबंध होते आणि आम्ही दोघे बरेच वेळा आम्ही हार्ड सेक्स करत असू रात्रीपासून ते बर्थडे च्या दुसर्या दिवशी सकाळपर्यंत. मग ७ महिन्यांनी आमच्या मध्ये ब्रेक अप झाला आणि राज माझ्या सोबत नेहमी होता. आणि राजच्या चांगल्या स्वभावाने मी लगेचच त्या ब्रेकअप मधून बाहेर आले. आणि मग काहीदिवसा नंतर त्याच्या प्रेमात पडले.
आम्ही कमीतकमी आठवड्यातून एक वेळा तरी संभोग करत असू आणि एकमेकांशिवाय राहू शकता नसे. ह्या वर्षी माझा बर्थ डे रविवारी होता आणि मी खरच त्याची आतुरतेने वाट पाहत होते. मी राज ला नेहमीप्रमाणे शनिवारी संध्याकाळी भेटले आणि आम्ही शहरातील एका पब मध्ये गेलो. मी त्या दिवशी ३ वोडका पिल्या आणि मला थोडेसे हाय वाटत होते. आम्ही दोघे एकमेकांचा हात धरून नाचत होतो आणि मधून मधून त्याचा लंड मला लागेल असे बघत होते.
त्यांनी त्या दिवशी ११:३० च्या सुमारास पब बंद केला आणि राज ने मला माझ्या घरी सोडले, जाताना तो काहीच बोलला नाही. मला खूप वाईट वाटले कारण त्याने माझ्या बर्थडे विषयी काहीच बोलत न्हवता. आणि त्याने मला घरी तसेच सोडून दिले. मी घरी गेले आणि साधारण ११:५५ च्या सुमारास माझ्या रूम मध्ये जावून बेड वर पडून राहिले. मला खूप वाईट वाटत होते.
जसे घड्याळात १२ वाजले मला माझ्या बर्थडे चे फोन यावयास लागले आणि मला ते फोन उच्लावाव्याची सुधा इच्छा न्हवती. म्हणून मी फोन सायलेंट ठेवला आणि आंघोळ करावयास चालले गेले. मी परत आले आणि माझा फोन तपासला. त्या मध्ये ५० चुकलेले कॉल्स होते, पण राज कडून एकही संदेश न्हवता. मला खूप राग आला आणि माझा मोबाई ल मी जोरात फेकून दिला. मग पाउण वाजव्याच्या सुमारास दरवाज्यावरची बेल वाजली.
मग मी एका अनोळखी व्यक्तीला पहिले त्याच्या हातात केक, फुले आणि छोटी बास्केट होती. त्याने ती मला दिली आणि मला वाढदिवसाच्या शुभेच्छा दिल्या. त्या राज ने दिल्या होता आणि त्याने मला माझी बाल्कनी चे दार उघडे ठेवायास सांगितले होते, कारण त्याला बेडरूम मध्ये जावायचे होते.
मी लगेचच धावत रूम मध्ये गेले आणि पहिले तर राज माझ्या बाल्कनी च्या बाहेर उभा होता, मी दरवाजा उघडला आणि पहिले तर राज उभा होता. तो माझ्या जवळ आला आणि त्याने मला त्याच्या मिठीत घेतले आणि आणि आम्ही दोघे एकमेकांना बराच वेळ कीस करत राहिलो. तो कीस इतका रोमान्तिक होता कि जवळ जवळ २० मिनिटे तेच चालले होते. मग आम्ही कीस थांबविले आणि राज ने मला वाढदिवसाच्या शुभेचा दिल्या. मग आम्ही पुढे जावून केक कट केला. मी फाक्त बाथरोब घातला होता. आणि केस अजूनही ओलेच होते.
राज ने केक ठेवला आणि त्यावर मेनबात्या ठेवल्या. तो माझ्या मागे आला आणि मला मागून मिठी मारली. आणि सोबत सोबत माझ्या बुब्स सोबत खेळू लागला. त्याने माझ्या मानेला सुधा कीस करावयास सुरुवात केली. मग एकदा केक कापल्यावर, राज ने माझ्या बाथरोब ची गाठ सोडली आणि त्याला माझ्या अंगावरून काढून टाकला. मग त्याने तो केक पूर्णपणे माझ्या अंगावर लावले, माझ्या बुब्स वर बेंबी वर पुसी वर सगळीकडे लावले.
मग त्याने माझे कपडे काढले आणि माझ्या वर आला आणि माझ्या शरीरावरचा केक चाटू लागला. मग मी सुधा त्याच्या शरीरावर केक लावला आणि आणि आम्ही दोघे सुधा एकमेकांच्या शरीरावरचा केक चाटू लागलो. आणि हे चातावायचे सेशन जवळ जवळ आर्धा तास चालले. मी आता पूर्णपणे उत्तेजित जाहले होते. आणि मला असे वाटत होते कि त्याने मला लगेच चोद्ले पाहिजे.
माझी पुसी आता ओली झाली होती आणि मी त्याचा लंड माझ्या तोंडाने चाताव्यास सुरुवात केली, मग मी पाठीवर झोपले आणि माझे पाय पूर्णपणे उघडे झेल होते. मग मी राज ला मला चोदावयास बोलाविले. त्याने दोन उश्या माझ्या गांडीच्या खाली घातले आणि लगेचच त्याने स्वताची जागा घेतले आणि जास्त वेळ वाया न घालविता मला चोदावयास सुरुवात केली. मग राज ने माझ्या आत बाहेर करावयास सुरुवात केली, हे जवळ जवळ २० मिनिटे चालू होते. मग त्याने पूर्ण पाणी माझ्या आत सोडले.

Friday, 11 November 2016

चाची के साथ सुहागरात -Hindi sexy stories|

Indian Sex Stories|Hindi sexy stories|Marathi sexyStories|Erotic stories | Kamdhund katha|sambhog katha|sex katha| Chodan|Hindi Sex Stories

चाची के साथ सुहागरात -Hindi sexy stories|

दोस्तो! मैं राज आगरा से। एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूं। १० साल पहले जब मैं १८ साल का था, मेरे दूर के रिश्ते में चाचा चाची बरेली में रहते थे। एक दिन पता चला कि वो हमेशा के लिये आगरा में आ गये हैं। मै और घर के सभी लोग उनसे मिलने गये। लगभग १० साल पहले उनकी लव मैरिज हुई थी पर कोइ बच्चा नहीं हुआ। चाची कि उमर ३० साल होगी। मैने चाची को देखा तो देखता ही रह गया। लम्बी, गोरी चिटटी चाची का भरा बदन, चौड़ी कमर, बाहर निकले उत्तेजक हिप्स और ब्लाउज से बाहर झांकते बड़े-बड़े स्तन मेरे मन में हलचल मचाने लगे। मेरे मन में उनको नंगा देखने और चोदने का ख्याल आने लगा।
मेरे चाचा अपना व्यापार करने की सोच रहे थे। मै अक्सर उनके घर आया जाया करता था। मै चाची से खूब घुल मिल गया था और वो भी मेरा काफ़ी खयाल रखती थी। एक दिन चाचा को बाहर जाना था तो चाची बोली कि उन्हें रात को अकेले में डर लगेगा। चाचा ने मेरि मां से बात की तो मां ने मुझे कहा कि तुम रात को चाची के पास सो जाया करो।
मैं रात को ९ बजे चाची के पास पहुंच गया। चाची बोली- राज! तुम्हारे लिए अलग बिस्तर लगायें या तुम मेरे साथ ही सो जाओगे? मैने कहा - जैसा आप ठीक समझें। मैं तो कहीं भी सो जाउन्गा। चाची बोली- तो तुम इसी बिस्तर पर सो जाना। फ़िर चाची अपने काम में लग गयी। रात को १० बजे चाची कमरे में आयी और साड़ी उतारते हुए बोली - राज, तुम अखबार पढ रहे हो, मैं सो रही हूं, जब तुम्हें नीन्द आये तुम सो जाना। थोड़ी देर में मैने लाईट बंद की और लेट गया। मुझे नींद नहीं आ रही थी। काफ़ी देर बाद चाची उठकर लाईट जला कर बाथरूम गयी और वापिस आकर लेट गयी। मैं जाग रहा था लेकिन आंखे बंद करके लेटा था।
कुछ देर बाद चाची बोली - राज तुम सो रहे हो? मैने अचानक जगने का बहाना किया और बोला क्या हुआ चाची?
चाची एक दम मुझ से लिपट गयी और बोली मुझे डर लग रहा है। मैने कहा- डर कैसा? पर मुझे करंट सा लगा जब उनके बूब्स मेरी छती से छुये। उनकी एक टांग मेरे उपर थी। मैने भी उनकी टांग पर एक पैर रख दिया और उनकी पीठ पर हाथ रखते हुए कहा- सो जाओ चाची। चाची धीरे धीरे मेरी बाहों मे सिमटती जा रही थी और मुझे मजा आ रहा था। धीरे से मैने उनके हिप्स पर हाथ रखा और धीरे धीरे सहलाने लगा। चाची को मजा आ रहा था। फ़िर चाची सीधी लेट गयी और मेरा हाथ अपने पेट पर रखते हुए कहा कि तुम मुझ से चिपट कर सोना, मुझे डर लग रहा है। अब मै भी उनसे चिपट गया और उनके बूब्स पर सिर रख लिया। मेरा लन्ड खड़ा हो चुका था। मै धीरे धीरे उनका पेट औए फ़िर जांघ सहलाने लगा।
तभी चाची ने अपने ब्लाउज के कुछ हुक खोल दिये यह कह कर कि बहुत गर्मी लग रही है। अब उनके निप्पल साफ़ नज़र आ रहे थे। मैने बूब्स पर हाथ रख लिया और सहलाने लगा। अब मेरी हिम्मत बढ चुकी थी। मैने उनके बूब्स को ब्लौज से निकाल कर मुंह मे ले लिया और दोनो हाथों से पकड़ कर मसलते हुए उनका पेटीकोट अपने पैर से उपर करना शुरु कर दिया। वह बोली-क्या कर रहे हो? मैने जोश में कहा- चाची आज मत रोको मुझे। उनकी गोरी गोरी जांघों को देख कर मै एक दम जोश मे आ चुका था। उनकी चूत नशीली लग रही थी। मैने उनकी चूत को चाटना शुरु कर दिया।मै पागल हो चुका था।
मैने अपने पैर चाची के सिर की तरफ़ कर लिये थे। चाची ने भी मेरि नेकर को नीचे कर लिया और मेरा लन्ड निकाल कर चूसने लगी। वह मुझे भरपूर मजा दे रही रही थी। कुछ देर बाद चाची मेरे उपर आ गयी और मै नीचे से चूत चाटने के साथ साथ उनके गोरे और बड़े बड़े हिप्स सहलाने लगा। चाची की चूत पानी छोड़ गयी। अब मै और नहीं रह सकता था, मै उठा और चाची को लिटा कर, उनकी टांगें चौड़ी करके चूत में लन्ड डाल दिया और चाची कराहने लगी। मै जोर जोर से धक्के लगाने लगा। चाची ने मुझे कस के पकड़ लिया और कहने लगी- राज एसे ही करो, बहुत मजा आ रहा है, आज मै तुम्हारी हो गयी, अब मुझे रोज़ तुम्हारा लन्ड अपनी चूत में चहिये एएऊउ स्स स्सी स्स्स आह्ह्ह ह्म्म आय हां हां च्च उई म्म मा। कुछ देर बाद मेरे लन्ड ने पानी छोड़ दिया और चाची भी कई बार डिस्चार्ज हो चुकी थी।
उस रात मैने तीन बार अलग अलग ऐन्गल से चाची को चोदा। चाची ने भी मस्त हो कर पूरा साथ दिया। तब से जब भी चाचा बाहर जाते तो हम दोनो रात को खूब मजे करते। हमारा यह रिश्ता दो साल तक चला। इसी बीच चाची ने एक लड़का और एक लड़की को जन्म दिया। चाची ये दोनो मेरे ही बच्चे बताती हैं और यह बात कोइ और नहीं जानता।
कैसी लगी मेरी सच्ची कहानी !

गीता भाभी ने चोदना सिखाया- A Hindi sEx Story

Indian Sex Stories|Hindi sexy stories|Marathi sexyStories|Erotic stories | Kamdhund katha|sambhog katha|sex katha| Chodan|Hindi Sex Stories

गीता भाभी ने चोदना सिखाया

प्रेषक : पल्लव राज़
दोस्तो।
मैं पल्लव ३२ साल का हूं और यह कहानी तब की है जब मैं २५ साल का था।
मैं दसवीं के विद्यार्थियों को ट्यूशन पढ़ाया करता था। मेरे पड़ोस में एक परिवार रहता था, पति-पत्नी, उनकी 5 लड़कियाँ, एक लड़का और बच्चों के दादा। बड़ी लड़की दसवीं में पढ़ती थी। आदमी दिल्ली में नौकरी करता था।
मुझे ट्यूशन पढ़ाते देख गीता भाभी ने मुझे अपने घर बुलाया और कहा -मेरी बेटी की दसवीं की परीक्षा है, घर की हालत ठीक नहीं है, क्या आप उसको कभी कभार दस-बीस मिनट कभी भी शाम को या रात में थोड़ा पढ़ा देंगे?
मैंने कहा- हाँ ! क्यों नहीं ! कल से ही आ जाउंगा।
दूसरे दिन फ़िर उसने मुझे कहा तो रात को मैं उनके घर चला गया, थोड़ी देर पढ़ाया और चला आया। फ़िए मैं रोज़ जाने लगा। पढ़ाई के समय गीता भाभी हमारे पास ही बैठती थी।
एक रात जब मैं पढ़ा रहा था तो गीता ने अपनी बेटी के सामने ही कहा- आप बहुत थक जाते होंगे, लाईये मैं आपके पैर दबा दूं !
पता नहीं क्यों मैं भी इन्कार ना कर सका और वो मेरे पैर दबाने लगी। मेरे शरीर में कुछ हलचल सी होने लगी। थोड़ी देर में मैं वहाँ से चला आया पर रात भर नींद नहीं आई क्योंकि पहली बार किसी औरत ने मेरे बदन को छुआ था।
अगले दिन से वो रोज़ मेरे पाँव दबाने लगी, पर उसका हाथ धीरे धीरे ऊपर की ओर बढ़ने लगा। एक दिन वो जिद करके तेल लगाने लगी। उस समय मैं उसकी बेटी को बायोलोज़ी पढ़ा रहा था। अचानक वो मेरे लण्ड पर तेल लगाने लगी। मेरा लण्ड खड़ा हो गया।जब मैंने उसकी ओर देखा तो वो मुस्कुराने लगी। जब मैंने आने लगा तो उसने कहा कि पेट दर्द की कोई दवाई हो तो देना।
करीब ९ बजे मैं दवाई देने गया तो दरवाज़ा खुला था, गीता के ससुर सोए हुए थे, मेर हाथ पकड़ कर वो मुझे अपने कमरे में ले गई। बच्चे दूसरे कमरे में सोए हुए थे। उसने भीतर से दरवाज़ बन्द किया और तेल लेकर आई और बोली- उस समय ठीक से लगा नहीं पाई थी। वो तेल लगाने लगी पर कुछ देर बाद तेल के बहाने वो मेरे लण्ड को सहलाने लगी। मेरा लण्ड तो पूरा खड़ा हो गया। मेरी सहनशक्ति समाप्त हो गई। मैंने उसे बाहों में कस कर जकड़ लिया और धीरे धीरे उसे बिछावन पर ले गया।
बिछवन पर जाते ही उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए। मैं भी कुछ नहीं बोला। वो साली मेरा लण्ड खाने को बेताब थी ही। उसने सहलाते सहलाते मेरा लण्ड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी। लण्ड चूसते हुए वो अपनी कमर भी ऊपर नीचे कर रही थी। मैं तो जैसे ज़न्नत में था। मेरे मुंह से ओह! भाभी और जोर से ! ओह गीता ओह ! मेरी रानी और तेज़ ! जैसे शब्द निकल रहे थे। उसकी कमर ऊपर नीचे होती देख मैंने पूछा- भाभी ! यह क्या कर रही हो, तो उसने झट मेरा हाथ पकड़ कर अपनी बुर पर रख दिया। उससे पानी निकल रहा था।
अब उसने मेरी उंगली अपनी बुर में जोर से ठेल दी। उंगली घुसते ही उसने ज़ोर से ओह! कहा और बोला- देवरजी एक और घुसा दो और तेजी से अन्दर बाहर करो और मेरी बुर को चोदो।
मैंने पूछा- क्या इसे ही चुदाई कहते हैं?
तब उसने कहा- देवर जी ! तुम पढ़ाई में तो काफ़ी तेज़ हो पर चुदाई में निरे बुद्धू हो। यह तो तुम उंगली से चोद रहे हो, पर जब तुम अपना यह मोटा हथियार मेरी बुर में घुसाओगे तब होगी असली चुदाई। अप्र वो सब बाद में। अभी तो तुम 69 की अवस्था में होअक्र उंगली ही अन्दर बाहर करो।
मैं वैसा ही करने लगा। वो सेक्स के जोश में गंदी गंदी बातें कहने लगी। मैं पेल रहा था और वो कहती जा रही थी- जोर से और जोर से मेरे राज़ा ! मेरे पति ने तो कभी ऐसे प्यार ही नहीं किया, साला सिर्फ़ लण्ड पर तेल मालिश करवाता है। जब लण्ड खड़ा होता तो मेरे गर्म ना होते हुए भी लण्ड मेरी बुर में घुसा देता है और अपना धात जल्दी ही गिरा कर सो जाता है। इस भौंसड़ी बुर ने भी छः कैलेण्डर निकाल दिए पर इसकी आग शान्त नहीं हुई। पर राज़ा तुम नादान हो, जैसा मैं कहती हूँ वैसा करो, तुम चुदाई सीख जाओगे। मैं तुम्हारा लण्ड चूस कर इस पर तेल लगा कर घोड़े जैसा बना दूंगी, फ़िर उस घुड़लण्ड से रोज़ चुदवाउंगी।
इतना कह कर गीता ने फ़िर मेरा लण्ड चूसना शुरू कर दिया। मैं भी अपनी उत्तेज़ना में उसकी बुर में अपनी तीन उंगली तेजी से घुसा निकाल रहा था, पर छः बच्चों के जन्म ने उस्की बुर का भौन्सड़ा बना दिया था। अतः उंगली कहाँ जाती, पता ही नहीं चलता। वो वाह रे मेरे राज़ा ! तेजी से करो, जैसे शब्द कह कर शान्त पड़ गई, वो झड़ गई।
इतने में मैंने कहा- भाभी ! मेरे भीतर से कुछ निकलने वाला है !
इतना सुन कर उसने मेरे लण्ड को मुंह से निकाला और हाथ से मेरे लण्ड को आगे पीछे करने लगी। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। कुछ ही देर में मेरे लण्ड से फ़व्वारा निकला और उसकी साड़ी पर गिरा। उसने हंसते हुए कहा कि देवरजी सारी साड़ी खराब कर दी ना ! अब नई साड़ी ला कर देना। पर कोई बात नहीं, अब तो मेरी साड़ी रोज़ खराब होनी है, क्योंकि जब तक तेरे भैया नहीं आ जाते, मैं तो तुमसे रोज़ चुदवाउंगी, तुझे चुदाई में होशियार कर दूंगी। पर उनके आने के बाद भी मुझे छोड़ना नहीं, उनका लण्ड तो पुराना हो गया है पर तेरा तो जवान है। मैं समय निकाल कर तुमसे जरूर चुदवाउंगी। इतना कह कर वो बाहर गई, पानी लाई और मेरा लण्ड साफ़ किया और फ़िर से उसे चूसने लगी। तो मैंने कहा- अभी जाने दो, कल आउंगा।
उसने कहा- ठीक है ! कल तुम्हें असली चुदाई सिखाउंगी और मज़ा दूंगी।

मेरी सुहागरात की कहानी मेरी जुबानी-Hindi sex Story

मेरी सुहागरात की कहानी मेरी जुबानी

आप लोगों ने मेरे द्वारा पोस्ट किये गए हर थ्रेड को काफी सराहा है और हमेशा मेरा उत्साहवर्धन किया है,

मेरी शादी अभी नहीं हुयी है, अगले साल फरवरी में होनी है, पर मन में कई सारी बातें हैं जो कि सुहागरात और उसके बाद होने वाले हसीं पलों से सम्बंधित होती हैं.

यह कहानी जो मैं यहाँ लिखने जा रही हूँ, वो कल्पना से लिखी गयी है, इसका मेरी निजी जिंदगी से कोई सम्बन्ध नहीं है. पर मैंने पूरी कोशिश की है कहानी के हर पल को मैं जीते हुए लिखूं जिससे की उस में जान आ जाए. जोकि मेरे कई प्रशंषकों को पसंद है.

चलिए अब ज्यादा इन्तजार नहीं करते हैं , कहानी पड़ते हैं....अगर अच्छी लगे तो आपको पता ही है की क्या करना होता है...!!??
वो मेरी सुहागरात थी और लडकियां और भाभियाँ मेरे को फूलो से सजे हुए कमरे में छोड़ कर चली गयी. शादी के बाद की थकान में महसूस कर पा रही थी, इसलिए मैंने नहाने का सोचा. इसलिए मेने जल्दी से नहा ली और एक साड़ी पहन कर फिर से तैयार हो गयी. जैसे की आप सभी जानते ही होंगे की सुहाग रात की एहमियत बहुत होती है एक पति और पत्नी के लिए. मैं यह भी जानती थी की वो भी मेरी तरह कुंवारे (virgin) थे.

जैसे ही मैं पलंग पर बैठी मेरे पति रोहित कमरे में आ गए. उनके शारीर में से चन्दन, गुलाब और पर्फियुम की महक आ रही थी. मैं थोडी सी घबरा रही थी जैसे ही वो मेरे पास आये, मैं उठकर खड़ी हो गयी. वो भी पलंग पर मेरे साथ बैठ गए और हमने शादी से सम्बंधित बातें की, और जो गिफ्ट्स हमें मिले थे उनके बारे में. और फिर बड़े प्यार से उन्होंने मेरे से पूछा, "क्या मैं तुम्हे किस कर सकता हूँ?"

और वो खड़े हुए और मेरे चेहरे को अपने हाथों में लेकर मेरे गाल पर किस किया और फिर मेरे बहुत नजदीक आकर बैठ गए. और बैठने के बाद उन्होंने मेरी आँखों को भी किस किया और मेरे को बताया कि इस दिन का वो जब से इन्तजार कर रहे थे जबसे कि वो मुझसे पहली बार मिले थे.

उन्होंने मेरे हाथों को अपने हाथों में लेकर मेरे से पुछा कि क्या मैं थकी हुयी महसूस कर रही हूँ? अगर ऐसा है तो मैं सो सकती हूँ. जिसे सुनकर मेने एक मुस्कराहट के साथ यह कहकर जवाब दिया कि अगर वो भी थके हो तो हम सो जाते हैं..!!

यह सुनकर उन्होंने मुझे आँख मारी और मुस्कुराते हुए मेरे नजदीक आकर मुझे फिर से किस करने लगे. मैं व्याकुलता महसूस कर रही थी और वैसे भी यह उनका पहला किस नहीं था. ऐसा वो पहले भी कर चुके थे. हमारी सगाई के बाद, जब भी हम अकेले होते थे, चाहे घर पर या कहीं भी जहाँ हम साथ घूमने जाते थे. पर शादी के बाद किया जाने वाला किस पता नहीं क्या जादू करता है...जिसे कि मैं शब्दों में व्याख्यान नहीं कर सकती. मैं अपनी सुहागरात को लेकर बड़ी उत्सुक थी और न जाने मेरे मन में क्या क्या चल रहा था...!!

हम लोग एक दुसरे को किस करने लगे थे. उन्होंने मेरी पींठ, कमर पर अपनी उंगलियाँ फेरनी शुरू कर दी थीं. मेरे हाथ उनके कन्धों पर थे और मैं उनको अपनी और धकेल रही थी.
मैंने महसूस किया की उन्ही जीभ मेरे होंठों में से मेरे मुह में अन्दर जाना चाह रही थी. मेरे होंठों को खोलती हुयी जीभ मेरे मुह में चली गयी और उसी बीच उनके हाथ मेरे पल्लू में से होते हुए मेरी पीन्थ, कमर पर होते हुए मेरे स्तनों पर पहुँच गया.

उनका हाथ मेरे ब्लाऊज के ऊपर से मेरे स्तनों को दबा रहा था. मेरी आँखें पूरी तरह से बंद थी. और मैं उनके हर प्रयास को अनुभव कर रही थी और उसका पूरा मजा ले रही थी. जब उन्होंने मेरे कपडे उतारने शुरू किये तो मैं बहुत उत्तेजित थी, कि आज मैं पहली बार किसी लड़के के सामने बिना कपडों के होने वाली थी. आज तक मम्मी ने भी मेरे को बिना कपडों के नहीं देखा था. जब मैं चौदह पन्द्रह साल की थी तब भी नहाते समय मम्मी की अगर मदद सर धोने में लेती थी तो भी या तो मैं टोवल लपेटी होती थी या ब्रा और पैंटी पहनी होती थी. और तो और आज एक पुरुष को पूर्ण नग्न देखने का मौका मिलने वाला था.

उन्होंने मेरे पल्लू को मेरे कन्धों से हटाया और वो एक तरफ गिर गया, साथ ही साड़ी का दूसरा हिस्सा जो पेटीकोट में घुसा हुआ होता है, उसे भी बाहर की तरफ खींच कर निकाल दिया और साड़ी पूरी तरह से निकाल दी. मैं उनके सामने पेटीकोट और ब्लाउज में खड़ी थी. उन्होंने एक बार फिर से मुझे अपनी बाहों में भर लिया और हम दोनों एक दुसरे की आँखों में देखने लगे और साथ ही उन्होंने मेरे ब्लाउज के हुक खोलने शुरू कर दिए.
और फिर उन्होंने उसे मेरे कन्धों पर से होते हुए उतार दिया. अब मैं नरम और सेटिन की ब्रा में थी जिसमे मेरे स्तन पूरी तरह फिट थे और बाहर आने को आतुर थे. उन्होंने मुझे पलंग की तरफ चलने को कहा और हम दोनों पलंग पर साथ साथ लेट गए. फिर उन्होंने मेरी ब्रा के भी हूक खोल दिए और मेरे स्तनों पर से उसे हटा दिया. मेरे चुचुक (निप्पल) उत्तेजना से खड़े हो चुके थे. उनके हाथों ने मेरे स्तनों को अपनी हथेलियों में भरा और उन्हें किस करने लगे. उन्होंने मेरे स्तनों को सहलाना शुरू कर दिया. हम दोनों की साँसे तेज तेज चलने लगी.

वो मेरी निप्पल के साथ खेल रहे थे. वो मेरे स्तनों को देखे जा रहे थे और मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था. उन्होंने एक निप्पल अपने मुह में रखा और उसे चूसने लगे. हे भगवान्....नहीं बता सकती की उस पल क्या अनुभूति हुयी. फिर उन्होंने दुसरे निप्पल को किस किया और उसे भी चूसना शुरू कर दिया. मेने अपना सर उत्तेजना और आनंद के मारे पीछे की और कर लिया थी.

वो बार बार मेरे बाएँ और दायें निप्पल को चूसना जारी करे रहे जब तक की मेरे पूरे शरीर में एक आग सी न लग गयी.पहली बार कोई ऐसा मेरे साथ कर रहा था. तभी पता नहीं क्या हुआ, मेरे शरीर में एक उफान सा आया और मैं निढाल सी हो गयी और मुझे मेरी योनी में गीलापन सा महसूस हुआ. वो मेरा पहला ओर्गास्म था उस सुहागरात में और मुझे लगा कि मेने अपनी पैंटी में पेशाब कर लिया है. मैं बहुत शर्मिंदगी महसूस करने लगी.
वो समझ गए और उन्होंने पुछा, "क्या हुआ, क्या तुम्हे ओर्गास्म हुआ ?"

"यह क्या था? मुझे लगा कि मेने पेशाब कर दिया.", मैंने पूछा.

"नहीं..तुम्हे जरूर ही ओर्गास्म हुआ होगा..", उन्होंने जवाब दिया.

फिर उन्होंने मेरे स्तनों पर से अपने हाथ नीचे की और बदाये और मेरे पेटीकोट पर पहुँच गए. उन्होंने पेटीकोट का नाडा खोल दिया और उनकी उँगलियों का मेरी पैंटी पर स्पर्श हुआ और मेरे बदन में सिरहन दौड़ गयी. वो मेरी कमर पर किस कर रहे थे और फिर मेरी नाम हो रखी पैंटी पर भी किस किया. उन्होंने पीछे से मेरे हिप्स को पकडा और अपने चेहरे को मेरी पैंटी से सटा डाला और उसे चूमने लगे. उन्होंने धीरे से अपनी उंगलियाँ मेरी पैंटी के की इलास्टिक में डाली और धीरे धीरे उसे नीचे करना शुरू कर दिया. मेरी योनी प्रदेश के बाल नजर आने लगे थे. और मेने अपनी टाँगे फैला दी जिससे की उन्हें आसानी हो सके. फिर मेने अपने एक पैर को ऊपर किया और फिर दूसरा जिससे की उन्होंने मेरी पैंटी भी उतार दी.

तब रोहित को लगा कि उन्होंने अपने कपडे तो उतारे ही नहीं..सो उन्होंने अपने कुरते और पायजामे को उतार दिया और अंडरवियर पहन कर मेरे ऊपर लेट गए. मेरे स्तन उनके सीने के नीचे दबे हुए थे. उनके हाथ मेरे बदन को महसूस कर रहे थे और में अपनी टांगों के बीच गीलापन महसूस कर रही थी.

उनके कहने पर मेने अपना हाथ उनके अंडरवियर पर रखा और...और..मेने उनका कठोर लिंग पकडा. मैंने उसे अपनी उँगलियों में लपेट लिया. वो बहुत बड़ा था. मुझे नहीं पता था कि यह मेरे अन्दर जा भी पायेगा कि नहीं. उनके हिप्स भी हरकत करने लगे थे. वो खड़े हुए और अपना अंडरवियर उतार दिया. उसके बाद उन्होंने मुझे इस तरह लिटा दिया कि मेरी पीन्थ उनकी छाती से लग गयी. उन्होंने अपने दोनों हाथों में मेरे स्तन दबा लिए. हम दोनों पूरी तरह से नंगे थे और एक दुसरे के शरीर कि महसूस कर रहे थे.
फिर उन्होंने मेरे स्तनों को मसलना शुरू कर दिया. कभी वो मेरी निप्पल को उमेठते तो कभी स्तनों को दबा देते. उसके बाद में सीधी लेट गयी और उन्होंने मेरी चूत को सहलाना शुरू कर दिया. उन्होंने अपनी एक ऊँगली भी मेरी चूत के लिप्स में डाली और अन्दर दाल कर बाहर निकाल ली. फिर उन्होंने मेरी क्लिटोरिस को भी रगड़ दिया. मेरा बुरा हाल था. मेरे मुह से आहे निकल रही थी. में उनकी उँगलियों द्वारा मेरी चूत पर किये जा रहे घर्षण को मजे से महसूस कर रही थी. उन्होंने मेरे से पुछा कि ऊँगली डालने पर दर्द तो नहीं हो रहा?

मैं मन कर दिया, तो उन्होंने दो उंगलियाँ अन्दर डाल दी, और मैंने महसूस किया कि उनकी उँगलियों को अन्दर जाने में कुछ रुकावट आ रही है. उन्होंने ही कहा, "शायद तुम्हारी हायमन है..जो रोक रही है... कोई बात नहीं. फिर वो मुझे चूमने लगे और मेने उनका लिंग फिर से पकड़ लिया. उन्होंने फिर से मेरे गुलाबी निप्पल चूसने शुरू कर दिए.

हम दोनों ही आउट ऑफ़ कण्ट्रोल हो चुके थे. वो मेरी चूत के गीले लिप्स को महसूस कर पा रहे थे. उन्होंने अपनी उंगलियाँ मेरी चूत के लिप्स पर लगा दी और दबाने लगे जिससे कि उनकी उँगलियों ने मेरी चूत के लिप्स खोलते हुए ऊँगली को अन्दर जाने दिया. वो कुछ देर तक ऐसे ही करते रहे. मुझे अच्छा महसूस हो रहा था और जब भी उनकी ऊँगली मेरी चूत के लिप्स के नजदीक आती थी तो मैं अपनी हिप्स ऊपर उठाकर उसे अन्दर डालने की कोशिश करती.

और आखिर मैं मेरे से रहा नहीं गया और मैं बोल पड़ी, "रोहित. प्लीज मुझे प्यार करो."
"क्या तुम इसके लिए तैयार हो?", उन्होंने पूछा.

"हाँ, मैं पूरी तरह से अब आपकी ही हूँ. मुझे सुहागरात का पूर्ण सुख चाहिए ..", मैंने जवाब दिया.

"देखो, हो सकता है कि तुम्हे थोडा दर्द हो...पर बाद में अच्छा लगेगा.", उन्होंने कहा.

"मैं जानती हूँ. बस आप मुझे प्यार करो.", मैंने बोला.

वो मुस्कुराये और मेरी टांगों के बीच में आ गए. उसके बाद उन्होंने एक हाथ पर अपने शरीर को सँभालते हुए दुसरे हाथ से मेरी चूत के नम लिप्स सहलाने लगे. और फिर कुछ देर ऐसा करने के बाद, उन्होंने अपने हाथों से अपने लिंग को पकडा लिया. मैंने देखा कि वो अपने लिंग को मेरी तरफ ला रहे थे,और मैं लिंग के मुंड को अपनी चूत पर महसूस कर पा रही थी. उन्होंने बहुत ही धीरे से उसे ऊपर से नीचे तक रगडा, जैसे कि सही जगह ढूंढ रहे हो अन्दर डालने के लिए. सही जगह का अनुमान होने पर वो रुक गए. धीरे से वो नीचे की ओर झुके और उनके लिंग ने मेरी चूत में प्रवेश किया.

वो मेरी आँखों में देख रहे थे, की मैं उन्हें संकेत दे सकूँ अगर मुझे दर्द महसूस हो तो. मैंने उनकी छाती पर अपना हाथ फिराना शुरू कर दिया. उन्होंने धीरे धीरे और अन्दर डालना शुरू किया. फिर वो धीरे से थोडा पीछे आये और फिर अन्दर की ओर बढे.

मैं अपने अन्दर उस गहरायी में हो रहे उस अनुभव को लेकर बहुत आश्चर्यकित थी.
यहाँ तक की मैं उनके लिंग को मेरी योनी के दीवारों पर महसूस कर रही थी. एक बार फिर वो पीछे हटे और फिर अन्दर की ओर दवाब दिया. मेरे अन्दर अवरोध महसूस होने लगा था. वो उठे और फिरसे धक्का दिया, ज्यादा गहरायी तक नहीं पर थोडा जोर से.

मुझे पता था कि उनके लिंग को मेरी योनी रस ने भिगो दिया था, जिसकी वजह से उनका लिंग आसानी से अन्दर और बाहर हो पा रहा था. और अगली बार के धक्के में उन्होंने थोडा दवाब बड़ा दिया. मेरी साँसे जल्दी जल्दी आ रही थीं. मैंने अपनी बाहें उनके कंधे पर लपेट दी थीं और मेरे नितम्बो को ऊपर कि ओर उठा दिया. मैंने एक तीव्र चुभन सी महसूस की. रोहित का लिंग मेरी हायमन से टकरा रहा था और जब उसने उसे भेदकर आगे बढ़ना चाहा तो मुझे लगा कि दर्द के मारे मैं मर जाउंगी.

"ओह माँ..." मेरे मुह से निकला. मेरे स्तन ऊपर की ओर उठ गए और शरीर एंठन में आ गया जैसे ही मेरे पति का गर्म, आकर में बड़ा लिंग पूरी तरह से मेरी गीली हो चुकी योनी में घुस गया. अन्दर, और अन्दर वो चलता गया, मेरी चूत के लिप्स को खुला रखते हुए मेरी क्लिटोरिस को छूता हुआ वो अन्दर तक चला गया था. मेरी योनी मेरे पति के लिंग के सम्पूर्ण स्पर्श को पाकर व्याकुलता से पगला गयी थी. उधर उनके हिप्स भी कड़े होकर दवाब दे रहे थे और लिंग अन्दर जा रहा था.

मेरी आँखों से आंसू भी निकल आये थे. मैं अपना कौमार्य खो चुकी थी और लिंग मेरे अन्दर था. रोहित रुका और मेरे आंसुओं पर एक निगाह डाली पर मैं नहीं रुकी, मैं अपने हिप्स ऊपर की ओर उठाकर उनके लिंग को और अन्दर तक ले गयी.
हम दोनों के शरीर एक दुसरे से चिपटे हुए थे. हम दोनों एक दुसरे को किस किये जा रहे थे और मेने महसूस किया कि उनके हिप्स आगे पीछे हो रहे हैं धीरे धीरे, और फिर अचानक उन्होंने अपने हिप्स और ऊपर किये जिससे लिंग थोडा बाहर आया और फिर वो अन्दर डालने लगे. इसी तरह उन्होंने एक लय में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. जब जब उनका लिंग मेरी योनी की दीवारों से टकराता हुआ मेरी गहराईयों में जाता तो उसके स्पर्श मात्र से मेरे पूरे शरीर में सनसनाहट दौड़ जाती.

"मैं ज्यादा देर नहीं रुक सकता...मेरा यह पहला समय है..!", उन्होंने कहा.

"मेरे अन्दर ही निकाल दो...मैं भी यही चाहती हूँ". मेने जवाब दिया.

उन्होंने अपनी गति बड़ा दी और बड़ी जल्दी ही उनका वीर्य निकल गया. मैं महसूस कर पा रही थी की मेरे पति के लिंग में से निकल रहा वीर्य मेरी योनी को तर कर रहा था. मैं रोहित से मिलने वाले सुख का पूरा आनंद ले रही थी, मेरा पति, पहली बार....मेरी योनी में अपने वीर्य को उडेल रहा था.

कुछ देर बाद रोहित ने अपने लिंग को मेरी योनी में से बाहर निकाल दिया. वो खून से लाल हो रखा था. चादर पर भी एक लाल धब्बा सा था और मेरी योनी की दीवारें भी खून से सनी थी. कुछ मिनटों तक हम दोनों साथ साथ लेटे रहे. मेरा सर उनके सीने पर था. उन्होंने मेरे से पुछा, "कैसा लगा?". मैंने उन्हें किस किया और कहा, "It was so exciting."

फिर हम लोग बाथरूम में चले गए. अपने आप को साफ़ किया और हमारे इस पहले प्यार की सारी निशानी कमरे में से साफ़ की. फिर लगभग एक घंटे तक हम दोनों नंगे ही रहे और सो गए. अगली सुबह हम उठकर तैयार हुए और बीच बीच में एक दुसरे को चूमते भी रहे.

अगली सुबह रोहित की बहिन हम लोगो को उठाने आयी , मैं शर्मा रही थी और उनसे आँख नहीं मिला पा रही थी. वो समझ गयी और गर्दन हिला कर मुझे चिढाने के अंदाज़ में बोली, "क्यूँ भाभी? भैया ने ज्यादा परेशान तो नहीं किया न?"

मैं कुछ नहीं बोली और शर्मा कर वहां से निकल गयी.


समाप्त

Nanad aur Devar Ke Saath

Indian Sex Stories|Hindi sexy stories|Marathi sexyStories|Erotic stories | Kamdhund katha|sambhog katha|sex katha| Chodan|Hindi Sex Stories


Nanad aur Devar Ke Saath 

Mera nam hai Kailash. Mein dehati ladaki hun, high school tak padhi hui. Meri shadi do saal pahale hui hai. Mere pati Gangadhar kissan hai. Vo 22 saal ke hein ar mein 18 saal ki. Ghar men ham dono hi hein, un ke mata pita kai saalon se gujar gayen hein. Aaj mein aap ko meri niji kahani sunaane jaa rahi hun.

Chhoti umar se hi muze sex ka bhan tha. Ham dehati bachchhe bachpan se hi gaay, bhens, kutte vagerah pranion ki chudai dekh paate hein. Mere pitaji ke ghar kai gaayen thi. Vo jab chudavane ke liye heat men aati thi tab hamara naukar saand le aata tha. Bachpan se hi meine saand ka patala lamba lund gaay ki chut men aaa jaata dekha tha. Das saal ki umra tak aise sex dekhane se muze khuchh nahin hota tha. Badhati umra ke saat gaay ki chudai dekh mein uttejit hoti chali thi.

Baarah saal men meri mahvari shuru hui tab meri badi bahan ne muze vo kaha jo mein janati thi. Us ne kaha ki pati jo kare vo karane dena, paanv lambe rakh kar sote rahana. Mere sine par bade bade stan ubhar aaye the aur nitamb bhari chaude ho gaye the. Bhos par kale ghungharale baal nikal aaye the. Usi saal meri mangani Gangadhar se ho gayi. Pahali baar vo hamare ghar aaye aur ham mile tab Ganga ne meri kachchi chuchiyan sahalayi thi, mera hath thm kar apana lund pakada diya tha. Muze gudgudl ho gai thi. Itane men jiji na aa jati to us din mein avashya chud jati.

Kheir, 16 saal ki umr men shadi kar ke mein sasural aayi. Pahali raat hi mere pati ne muze jis tarah choda ye mein kabhi bhul na paaungi. Aadha ghante tak chuma chati aur stan se khilvad kiya, bhos sahalayi, mere hath se lund sahalavaya baad men chut men dala. Yoni patal tuta tab dard to hua lekin chudavane ke aavesh men malum na pada. Ek ghante tak chali chudai ke dauran mein do baar zadi. Aaj bhi vo muze aise chodate hein ki jaise hamari suhaag raat ho. Ham dono ek duje se khub pyaar karate hein. Hamare bich samazauta hua hai ki vo man chahe vo ladaki ko chod sake aur mein koi bhi mard se chudava sakun. Lekin aisa ab tak hua nahin tha.

Shadi ke do saal baad mere pati ke ek dur ke chacha kai saal Afrika rah kar vapas laute. Un ke parivar men ek ladaka tha, Paresh, meri umar ka aur ek ladaki thi, Madhavi jo do saal chhoti thi. Afrika men vo bhai bahan residential school men padhe the. Chacha naya ghar banava rahe the, us dauran vo sab hamare makan men thahare.

Paresh aur Madhavi bade pyaare the. Un ke saath meri achchhi ban gayi thi. Naye ghar men jaane ke baad bhi ve roj mere ghar aate the aur duniya bhar ki baaten karate the. Meine dekha ki un dono kafi hushiyar the lekin sex ke bare men bilkul agyaat the. Paresh manata tha ki ladaki ke munh se ladake ka munh lagane se bachcha paida hota hai. Madhavi kuchh jyada janati thi lekin use pata nahin tha ki chudai kaise ki jati hai.

Ek din Gangadhar ko dusare gaanv jana hua. Itane bade makan men rat ko akele rahane se muze dar lagata tha. Meine Paresh aur Madhavi ko sone ke liye bula liye, chacha chachi ki manjuri saath.

Raat ka khana kha kar ham taash khelane lage. Paresh ne rani dali us par meine raja dala. Madhavi sharamati hui hasi aur boli, "Rani par raja chad gaya, ab bachcha hoga." Paresh : Kya bakvas karati ho ? Madhavi : Tu nahin samajega. Hai na bhabhi ? Mein : Ye to taash hai. Is men bachcha kachcha kuchh nahin hota.

Bazi aage chali. Madhavi ki rani par meine ghulam dala. Madhavi fir boli : Bhabhi, rani par ghulam chadega to raja use maar dalega. Paresh ab gsse ho gaya, panne faink diye aur bola : Ye kya chadane utarane ki chala rakkhi hai ? Meine use shant kiya. Munh chhupaye Madhavi has rahi thi. Vo boli : Bhaiya, bhabhi se kaho to bachcha kaise paida ho ta hai. Paresh chup raha. Meine dhire se puchha : Kaho to sahi, mein jaanun to. Paresh ne Madhavi se kaha : Chibavali, tu hi bata de na, hushiyar kahin ki Madhavi ke sharm aur hasi samate na the, Paresh ka gussa samata na tha. Meine kaha : Madhavi tu hi bata. Sar zuka kar, daanton men ungali dal kar vo boli : Bhiya kahate hein ki ladaka ladaki ka hath pakad kar munh se munh lagata hai tab bachcha paida hota hai. Mein : Aur tum kys kahatiho ? Madhavi ne munh fer liya aur boli : Nahin batati, muze sharm aati hai. Ab Paresh bola : Mein kahun. Vo kahati hai ki jab ladaki par ladaka chadata hai tab bachcha hota hai. Kya ye sach hai bhabhi ? Mein : Sach to hai lekin pura nahin. Madhavi, janati ho ki upar chad kar ladaka kya karata hai ? Sar hila kar Madhavi ne ha kahi aur boli : Chodata hai. Ye sun kar Paresh avaak ho gaya. Fir bola : Madhavi ganda boli. Mein samaj gayi ki dono men se kisi ko pata nahin tha ki chodana kya hai. Mein ; Janati ho chodana kya hota hai ? Madhavi : Ek duje ke muh se munh milate hein. Paresh : Vo to mein kab ka kah raha hun. Mein : Ruko.Munh se munh lagata hai chudai men, lekin is se jyada or kuchh bhi hota hai. Madhavi : Bhabhi tum batao na.. Bade bhaiya tume roj?roj..chodate honge na ? Paresh : Madho, tum bahut ganda bolati ho. Madhavi : Tume kya ? Tum bhi bolo. Mein : Zagado mat. Ab kaun batayega ki ladaka aur ladaki men fark kya hai ? Paresh : Ladake ko daadi muchh hote hein aur ladaki ke sine par chuchiyan. Mein : Sahi. Lekin mukhya fark kaun sa hai ? Madhavi : Jaanghen bich ladaki ki piki hoti hai aur ladake ki nunni. Mein : Barabar. Jab vo bade hotehein tab use bhos aur lauda kahate hein.

Itani baat hote hote ham tino uttejit hote chale the. Madhavi bar bar apani nikar thik karane ke bahane apani bhos khujal leti thi. Paresh ke tatar lund ne pajama ka tambu bana diya tha.

Meine aage kaha : Jab chodane ka dil hota hai tab aadami ka lauda tan kar lamba, mota aur kada ho jata hai. Ladaki ki bhos gili ho jati hai. Aadami apana kada lauda jise lund bhi kahate hein use ladaki ki chut men daal kar andar bahar karata hai. Ise chodana kahate hein. Madhavi : Aisa kyun karate hein ? Mein : Aisa karane men bahut maja aata hai aur aadami ka viry ladki ki chut men girata hai.Viry men purush bij hota hai jo ladaki ke stri-bij saath mil jata hai aur naya bachcha ban jata hai. Madhavi : Bhabhi dekho, bhaiya ka ?.vo khada ho gaya hai. Paresh : Tuze kya ? Bhabhi, ek bat bataun ? Mera to ro raat ko khada ho jata hai. Us men kuchh bura to nahin na ? Mein : Kuchh bura nahin. Khada bhi hota hoga aur swapn dekh kar viry bhi nikalata hoga. Paresh : Bhabhi, Madhu ke aage kyun?.? Mein : Ab un ki bari hai. Madhu, tuze mahavrishuru ho gayi hogi. Niche bhos par baal uge hein ? Madhavi ne sar hila kar ha kahi. Mein : Tu ungali se khelati ho na ? Fir sar hila kar ha. Mein :Tune lund dekha hai kabhi ? Sharama kar nicha dekh kar us ne na kahi Meina : Paresh, tune kabbhi chuchiyan dekhi hain ? Us ne na kahi. Mein : Aisa karate hein, Madhavi tu tere stan dikha aur Paresh tu lund dikha. Paresh : Tu kya dikhayegi, bhabhi ? Mein : Men bhos dikhaungi. Paresh, pahale tum. Paresh ne pajama kho niche sarakaya. Lund ke paani se us ki nicker gili ho gai thi. Vo jara khichakaya to Madhavi ne haath lambaya. Paresh turant hat gaya aur nicker utar di.

Kya lund tha us ka ? Saat inch lamba aur do inch mota hoga. Dandi ek dam sidhi thi. Mattha bada tha aur topi se dhaka hua tha. Chikana paani se lund gila tha. Madhavi aashchary se dekhati rahi. Paresh ko meine dhakel kar leta diya aur us ke haath hata kar lund pakad liya. Mere chute hi lund ne thumaka lagaya. Velvet men lipata lohe ka danda jaisa us ka lund tha, bada pyaara ha.

Mein : Maadhu, ye lund ki topi chad sakati hai aur mattha khula kiya ja sakata hai. Dekh. Meine topi chadai to lund se smegma ki badboo aayi. Meine kaha : Paresh, nahate samay us ko saaf karate nahin ho ? Aisa ganda lund se kaun chudavayegi ? Ja, saaf kar aa. Paresh bathroom men gaya.

Mein : Madhavi, pasand aya Paresh ka lund ? Achchha hai na ? Madhavi : Mein use chhu sakati hun ? Mein : Kyun nahin ? Lekin chudava nahi sakogi.. Madhavi : Kyun nahin ? Mere paas bhos jo hai ? Mein : Sahi,lekin bhai bahan aapas men chudai nahin karate.

Itane men Paresh aa gaya. Thanda paani se dhone se lund jara narm pada tha. Meine Paresh ko fir leta diya. Lund pakad kar topi chada di. Bada mashroom jaisa chikana mattha khul gaya. Meine halakae haath se muth maari to lund fir se tan gaya. Meine puchha : Maja aata hai na ? Paresh : Khub majaa aata hai bhabhi, rukana mat. Meine hole hole muth marati rahi aur boli : Madhavi, kurti khol aur stan dikha. Madhavi khub sharamayi, palat kar khadi ho gayi. Us ne kurti ke hook khol diye lekin khule padakhon se stan dhake rakh samane hui. Lund chhod meine Madhavi ke haath hataye aur kurti utar di. Us ne bra pahani nahin thi, javann stan khule hue.

Umar ke hisaab se Madhavi ke stan kafi bade the, sampurn gol aur kade. Patali najuk chamadi ke niche khun ki nili nasen dikhai de rahi thi. Ek inch ki areola jara si upasi aayi thi. Bich men kismis ke daane jaisi choti si nipple thi. Excitement se us vakt nipple kadi ho gai thi ji se stan nokdar lagata tha. Stan dekh kar Paresh ka lund ne thmaka liya aur kuchh jyada tan gaya. Vo bola : Mein chhu sakata hun ? Mein : Na, bahan ke stan bhai nahin chhuta. Paresh : Bhabhi, tu to meri bahan nahin ho. Tere stan dikha aur chhu ne de.

Mein bhi chahati thi ki koi meri chuchiyan dabaye aur masale. Meine choli utar di. Vo dono dekhate hi rah gaye. Mere stan bhi sundar hein, lekin shadi ke baad jara zuk gaye hein. Meri areola badi hai par nipples abhi chhoti hai. Meri nipples bahut sensitive hai. Gangadhar use chute hai ki meri bhos pani bahana shuru kar deti hai. Chodate hue vo jab munh men liye chusate hein tab muze zadane men der nahin lagati.

Bina kuchh kahe Paresh ne stan par haath firaya. Turane meri nipple kadi ho gayi. Us ne hatheli se nipple ko ragada. Stan ke niche hath rakh kar uthaya jaise vajan napata ho. Mere badan men zurzuti fail gayi. Us ke haath par hath rakh kar meine mere stan dabaye. Aage sikhana na pada, Paresh ne bedardi se stan masal dale. Meri bhos paani bahane lagi.

Mere dimag men chudavane ka khayal aaya ki kisi ne darvaja khitkhitaya. Fata fat kapade pahana kar un dono ko sula diye aur meine ja kar darvaja khola. Samane khade the Gangadhar. Mein : Aap ? Abhi kaise aa sake ? Ganga : Ek gadi aa rahi thi, jagah mil gayi. Mein : Achchha hua, Chaliye, khana kha lijiye.

Muze aagosh men lete hue vo bole : Khana baad men khayenge pahale jara pyar kar len. Mein kuchh bolun is se phale unhon ne mere hoton se hot chipaka diye. Kapade utare bina muze palang par patak di. Kiss karate karate ghaghari upar uthai aur nicker khinch utari. Mein un ko kabhi chudai ki na nahin kahati hun. Meine jaanghen pasari aur vo upar aa gaye. Un ka lund khada hi tha. Ghachch se chut men ghused diya. Muze bolane ka mauka hi na diya, ghacha ghachch, ghacha ghachch jor jor se chodane lage. Pandrah bis dhakke bad vo dhire pade aur lambe aur gahare dhkke se chodane lage. S..r..r..r..rrrr lund andar, s?r?r?r.. Bahar. Thodi der chudai ka maja le kar mein boli : Ghar men mehman hein. Chudai ruk gai. Vo bole : Mehman ? Kaun mehman ?

Meine Paresh aur Madhavi ke bare men bataya aur kaha : Vo shayad jagate honge.

Ghabada kar Ganaga utar ne lage. Meine rok diya : Un dono ko chudai dikhani jaruri hai. Mein un ko bula leti hun. Ganga : Are, vo to abhi bachchen hein, chacha, chachi kya kahenge ? Mein : Tum fikar na karo. Do din pahale chachi ne muz se kaha tha ki un dono ko chudai ke bare men shikhsa dun. Ganga : Kyun ? Mein : Baat aisi hui ki chachi ke mayake men ek nayi dulhan ko us ke pati ne pahli raat aise choda ki us ki chut fat gayi. Ladaki ko ispital le gaye lekin bacha na sake. Khun bah jane se ladaki mar gayi. Ye sun kar chachi ghabada gayi hai ki kahin Madhavi ko aisa na ho. Is liye vo chahati hai ki ham unhen chudai ki sahi shiksha de. Jarurat lage to us ki zilli bhi tod de. Vaise bhi vo dono kuchh nahin janate. Ganga : Bula lun un ko ?

Paresh aur Mdhavi ko bulane ki jarurat na thi. Vo darvaje men khade the. Ganga ko meine utar ne na diya. Un ka lund jara narm pada tha, meine chut sikod kar dabaya to fir kada ho gaya. Vo chodane lage. Chudai ke dhakke khate khate meine kaha : Ma..maa?madhavi?t?tum?.ooohhh, siiii, tum aur Pa?Pa?paresh yahan..aa?aa?kar, Ganga jara dhi..dhire?uuuii ?tum dekho. Vo palang ke paas aa gaye. Ganga hathon ke bal upar uthe jis se hamare pet bich se dekha ja sake ki lund kaise chut men ata jaata hai. Madhavi khade khade ek hath se apana stan masal rahi thi, dusara bhos par laga hua tha. Paresh hole hole muth maar raha tha. Ganga mere kan men bole : Dekha paresh ka lund ? Aisa kar, tu un se chudava le. Mein Madhavi saath khelata hun. Mein ; Madhavi ko chodana nahin. Ganga : Na, na. Chut men lund dale bina svaad chakhaunga.

Ganga utare. Un ka aath inch lamba gila lund dekh Madhavi sharamayi. Us ne muskurate hue munh fer liya. Paresh ka lund pakad kar meine puchha : Parresh, chodana hai na ?

Bin bole vo meri jnghen bich aa gaya. Lund pakad kar dhakke mar ne laga. Vo itana jaldi men tha ki lund bhos par idhar udhar takarya lekin use chut ka munh na mila. Bahar hi bhos par zad jaay us se pahale meine lund pakad kar chut par dhar diya. Ek hi dhakke se pura lund chut men utar gaya. Aage sikhane ki jarurat na rahi/ Dhana dhan, ghacha ghachch dhakke se vo muze chodane laga.

Udhar Ganga Madhavi lo god men liye baithe the. Madhavi ne apana munh us ke sine men chhupa dia tha. Ganga ka ek haath stan sahala raha tha aur dusara nicker men ghusa hua tha. Bar bar Madhavi chatpata jaati thi ar Ganga ka nicker vala hath pakad letithi. Mere khayal se Ganga us ki clitoris chhed rahe the. Itanae men Ganga ne Madhavi ka hath pakad kar lund par rakh diya. Pahale to zatake se Madhavi ne hath hata liya lekin jab Ganga ne fir pakdaya tab maatr ungaliyon se chhua, pakada nahin. Ganga bole : Maadho, mutthi men pakad, mitha lagega. Kuchh anaakaani ke baad Madhavi ki mutthi ne lund pakad liya. Ganga ke dikhane mutabik vo hole hole muth mar ne lagi.

Madhavi ka chahera utha kar Ganga ne munh par chumban kiya. Mein dekh sakati th ki Ganga ne apani jibh se Madhavi ke hoth chaate aut khole. Meine Paresh ko ye najara dikhaya. Apani bahan ke stan par Ganga ka hath aur bahan ke hath men Ganga ka lund dekh Parersh ki uttejana badh gayi. Ghach ghachch, ghachc ghachch tej dahakke se chodane laga. Achanak mein zad gayi.

Gangadhar ka kam mshkil tha lekin vo saburi se kam lete the. Madhavi ab sharamaye bina lund pakade muth maar rahi thti. Us ke munh se siskariyan nikal padati thi aue nitamb dolane lage the.

Idhar tej raftar se dhakke de kar Paresh zada. Thodi der tak vo muz par pada raha aur baad men utara. Us ka lund abhi bhi tatar tha. Mein Madhavi ke paas gayi. Ganga ko hata kar meine Madhavi ko god men liya. Mein palang ki dhar par baithi aur meine Madhavi ki jaanghen chaudi pakad rakkhi. Us ki gili gili bhos khuli hui.

Madhavi solah saal ki thi lekin us ki bhos meri bhos jaisi badi thi. Unchi mons par aur bade hoth ke bahari hisse par kale ghungharale zant the. Bade hoth mote the, bade santare ki faad jaise aur ek duje se sate hue. Bich ki darar chaar inch lambi hogi. Clitoris ek inch lambi aur moti thi. Us vakt vo kadi hui thi aur bade hoth ke agale kone men se bahar nikal aayi thi. Ganga farsh par baith gaye. Dono hath ke anguthe se us ne bhos ke bade hoth chaude kiye aur bhos kholi. Andar ka komal gulabi hissa najar andaj hua. Chhote hoth patale the lekin suje hue the. Chut ka munh sikuda hua tha aur kam ras se gila tha. Ganga ki ungali jab clitoris par lagi tab Madhavi kud padi. Meine pichhe se us ke stan tham liye aur nipples masal dali. Ganga ab bhos chatane lage. Bhos ke hoth chaude pakade hue usne clitoris ko jibh se ragda. Saath saath jaa sake itani ek ungali chut men dal kar andar bahar karane lage. Madhavi ko orgasm hone men der na lagi. Us ka sara bdan akad gaya, roen khade ho gaye, aankhen mich gagyi aur munhse aur chut se paani nikal pada. Halaki si kampan badan men fail gayi. Orgasm bis second chala. Madhavi behosh si ho gayi.

Meine use palang par sulaya. Thodi der baad vo hosh men aayi. Vo boli : Bhabhi, kya ho gaya muze ? Gangadhar : Bitiya, jo hua ise angreji men orgasm kahate hein. Maja aaya ki nahin ? Madhavi : Bahut maja aaya, abhi bhi aa raha hai. Niche piki men fat fat ho raha hai. Kya tumane muze choda ? Gangadhar : Na, choda nahin hai, tu abhi kanvari hi ho. Ab mein kuchh nahin sunanae chahata. Tum dono chup chap so jaao aur aaram karo. Paresh : Aap kya karenge ? Mein : Hamari baki rahi chudai puri karenge. Paresh : Mein dekhunga.Ye muze sone nahin dega. Paresh ne apana lund dikhaya jo vakai pura tan gaya tha. Madhavi letirahi aur karvat badal kar hamen dekh ne lagi.

Mein farsh par chit let gayi. Ganga ne meri janghen itani uthai ki mere ghutane mere kanon se lag gaye. Ghachch sa ek dhakke se us ne pura lund chut men ghused diya. Ham dono kafi uttejit ho gaye the. Ghacha ghachch, ghacha ghachch dhakke se vo chodane lage. Chut sikod kar mein lund ko bhinsati rahi. Bis pachis talle baad Ganga utare aur zat pat muze char paanv kar di, ghodi ki tarah. Vo pichhe se chade. Jaisa us ne lund chut men dala ki muze orgasm ho gaya. Vo lekin ruke nahin, dhakke marate rahe. Das baarah dhakke ke bad meri kamar pakad kar us ne lund ko chut ki gaharai men ghused diya aur puchch, puchch pichakariyan laga kar zade. Muze dusara orgasm hua. Meri yoni un ke viry se chalak gayi. Mein farsh par chapat ho gayi. Thodi der tak ham pade rahe, baad men jaa kar safai kar aaye.

Madhavi baith gai thi Vo boli : Bhabhi, Paresh ne meri piki dekh li par apana lund dekhane nahin deta. Gangadhar : Koi baat nahin,Beta, mera dekh le. Kailaash, tu hi dikha. Ganga let gaye. Ek or mein baithi dusasri or Madhavi. Paresh bagal men khada dekhanae laga.

Ek hath men lauda pakad kar meine kaha :Ye hai dandi, ye hai mattha. Yun to mattha topi se dhaka rahata hai. Chut men paisate vakt topi upar chad jaati hai aur nanga mattha chut ki divaron sath ghis pata hai. Ye jagah jahan topi matthe se chipki hui hai us ko frenum bolate hein. Ladaki ki clitoris ki tarah frenum bhi bahut sensitive hai. Ye hai laure ka munh jahan se pisab aur viry nikal pata hai.

Laure ki opi uapar niche kar ke mein aage boli : Muth maarate vakt topi se kam lete hein. Lund munh men bhi liya jata hai. Dekh, aise?.. Meine laure ka mattha munh men liya aur chusa. Turant vo akad ne laga. Madhavi : Mein pakadun ? Gangadhar : Jaroor pakado. Dil chahe to munh men bhi le sakati ho. Aadha tana hua laura Madhavi ne hath men liya ki vo pura tan gaya. Us ki akadai dekh Madhavi ko hasi a gayi. Vo boli : Mere hath men gudgudi hoti hai. Meine lund munh se nikala aur kaha : Munh men le, maja aayega. Sar zuka kar darate darate Madhavi ne lund munh men liya. Meine kaha : Kuchh karaana nahin, jibh aur tallu ke bich mattha dabaye rakkh. Jab vo thumak lagaye tab chusana shuru kar dena. Madhavi sthir ho gayi. Paresh ye sab dekh raha tha aur muth maar raha tha. Vo bola : Bhabhi, mein Maadho ki chuchiyan pakadun ? Muze bahut achchhi lagati hai. Gangadhar : Halake hath se pakad aur dhire se sahala, dabna mat. Stan abhi kachche hein, dabaane se dard hoga. Madhavi Ganga ka lund mnh men liye aage zuki thi. Paresh us ke pichhe khada ho gaya. Hathelion men dono stan bhar ke sahalane laga. Vo bola : Bhabhi, Maadho ke stan kade hein aur nipples bhi chhoti chhoti hai. Tere stan in se bade hein aur nipples bhi badi hein. Mein bagal men khadi thi. Mera ek hath Paresh ka lund pakade muth maar raha tha. Dusara hath Madhavi ki clitoris se khel raha tha. Clitoris ke spandan se muze pata chal ki Madhavi bahut uttejit ho gayi thi aur dusare orgasm ke liye taiyar thi Achanak munh se lnd nikal kar vo khadi ho gayi. Apane hath se bhos ragadati hui boli : Bade bhaiya, chod dalo muze, varana mein mar jaaungi. Ganga : Pagali, tu abhi kam umar ki ho. Madhavi : Dekhiye, mein solah saal ki hun lekin meri chut puri vikasit hai aur lund lene kabil hai. Bhabhi, tm ne pahali baar chudavaya tab tum bhi solah saal ki hi thi na ? Ganga : Fir bhi, tu meri chhoti bahan ho Madhavi : Sahi, lekin aap chahate hein ki mein kisi or ke paas jaaun aur chudavaun ? Ganga : Bete, chahe kuchh kaho, tere mai baap kya kahenge hamen ? Madhavi ne gusse men paanv patake aur boli : Achchha, to mein chalati hun ghar ko. Paresh, chal. Ghar jaa ke tu muze chod lena. Ganga : Ari pagali, jara soch vichar kar aage chal. Munh latakaye vo boli : Bhabhi ne Paresh ko chodane diya kyun ki vo ladka hai. Mera kya kasur ? Muz se ab raha nahin jata. Paresh na bolega to kisi naukar se chudava lungi. Madhavi rone lagi. Meine use shant kiya aur kaha : Ghar jane ki jaroorat nahin hai itani raat ko. Tere bhaiya tume jaroor chodenge

Itane men fir se daravaja khitkhitane ki aavaj aayi. Fata fat taash khelate ho aisa mahol bana diya. Meine ja kar darvaja khola. Samane chachi khadi thi. Andar aa kar us ne darvaja band kiya aur bol : Sab thik to hai na ? Mein : Vo aa gaye hein. Un dono ne kafi kuchh dekh liya hai. Ek musibat hai lekin. Chachi : Kya musibat hai ? Mein : Paresh se to vo?vo?karava liya, samaj gayi na ? Ab Madhavi bhi maang rahi hai. Chachi : To pareshani kis baat ki hai ? Tuze to malun hoga ki Gangadhar zilli todane men kaisa hai. Mein : Un ki hushiyari ki baat hi na karen. Kaun jaane kahan se sikh aaye hai taknik. Chachi : Bas to mein chalati hun. Gangadhar se kahana ki saburi se kam le.

Chachi chali gayi. Mein andar aayi to dekha ki Madhavi Ganga se lipati hui leti thi. Us ki ek jaangh sidhi thi, dusari Ganga ke pet par padi thi. Us ki bhos Ganga ke lund saath sati hui thi. Un ke munh French kiss en jud gaye the. Ganga ka hath Madhavi ki pith aur nitamb shala raha tha. Kursi men baitha Paresh dekh raha tha aur muth maar raha tha. Ab nishchit tha ki kya honevala tha. Meine ishare se Ganga ko aage badhane ka sanket de diya. Mein Paresh ke paas gayi. Us ko utha kar mein kursi men baith gayi aur us ko god men aise bithaya ki ham Ganga aur Madhavi ko dekh sake. Paresh ka lund meine janghen chaudi kar chut men le liya.

Udhar chit lete hue Ganga par Madhavi savar ho gayi thi, jaise ghode par. Ganga ka lund sidha pet par pada tha. Chaudi ki hui jaanghon ke bich madhavi ki bhos lund ke saath sat gayi thi. Chut men paithe bina lund bhos ki darar men fit baith gaya tha. Apane nitamb aage pichhe kar ke Madhavi apani bhos lund se ghis rahi thi. Madhavi ke har dhakke par us ki clitoris lund se ragadi ja rah thi aur lund ki topi chad utar hoti rahati thi. Bhos aur lund kam ras se tar-b-tar ho gaye the. Vo Ganga ke sine par baahen tika kar aage zuki hui thi aur aankhen band kiye siskariyan kar rahi thi. Ganga us ke stan sahala rahe the aur kadi nipples ko masal rahe the.

Thodi der men vo thak gayi. Ganga ke sine par dhal padi. Apani bahon men use jakad kar Ganga palate aur upar aa gaye. Madhavi ne jaanghen chaudi kar apane paanv Ganga ki kamar se lipataye, baahen gale se lipatayi. Bhos ki darar men sidha lund rakh kar Ganga dhakke dene lage, chut men lund dale bina. Madhavi ki clitoris achchhi tarah ragadi gayi tab vo chatpatane lagi. Ganga bole : Madhavi bitiya, ye aakhari ghadi hai. Abhi bhi samay hai. Na kahe to utar jaaun.

Madhavi boli nahin. Ganga ko joron se jakad liya. Vo samaj gaye. Ganga ab baith gaye. Topi utar kar lund ka mattha dhak diya. Ek hath se bhos ke hoth chaude kiye aur dusare hath se lund pakad kar chut ke munh par rakh diya. Ek halaka dabav diya to mattha sarakata hua chut men ghusa aur yoni patal tak ja kar ruk gaya. Gnnga ruke. Lund pakad kar gol gol ghumaya, ho sake itana andar bahar kiya. Chut ka munh jara khula aur lund ka mattha asaani se andar aane jaane laga. Ab lund ko chut ke munh men fasa kar Ganga ne lund chhod diya aur vo Madhavi upar let gaye. Us ne Mahavi ka munh French kiss se seal kar diya, dono hath se nitamb pakade aur kamar ka ek zataka aisa maara ki zilli tod aadha lund chut men ghus gaya. Dard se Madhavi chhatpatayi aur us ke munh se chikh nikal padi jo Ganga ne apane munh me zel li. Ganga ruk gaye.

Ganga ko dekh Paresh bhi dhakka laga ne laga. Ham kursi men the isi liye adha lund hi chut men ja sakata tha. Paresh ko hata kar mein farsh par aa gayi aur jaanghen faila kar use fir mere upar le liya. Tej raftar se Paresh muze chodane laga.

Udhar Madhavi shant hui tab Ganga ne puchha : Kaisa hai ab dard? Madhavi ne Ganga ke kan men kuchh kaha jo mein sun nahin payi. Ganga ne lekin apani kamar se us ke paanv chhudaye aur itane upar utha lie ki ghutanen kan tak ja pahunchi. Madhavi ke nitamb addhar hue. Ganga ki chaudi jaanghen bich se Madhavi ki bhos aur us men fasa hua Ganga ka lund saaf dikhane lage. Aadha lund ab tak bahar tha jo Ganga dhire dhire chut men pel ne lage. Thoda andar thodda bahar aise karate karate do chaar inch jyada andar ghus paya lekin pura nahin. Ab Ganga ne vo taknik aajamaayi jo mere saath suhaag raat ko aajamaayi thi.

Us ne hole se lund bahar khincha s..r..r..r..r kar ke. Akela mattha jab andar rah gaya tab vo ruke. Lund ne thumaka lagaya to matthe ne or mota ho kar chut ka munh jayda chauda kar rakkha. Madhavi ko jara dard hua aur us ke munh se siskari nikal padi. Is baar Ganga ruke nahin. S..r.r..r..r..r.r kar ke us ne lund fir se chut men dala. Aakhari do inch sarukha to baki hi rah gaya, ja na saka. Baad men Ganga ne bataya ki Madhavi ki chut pura lund le sake itani gahari nahin thi. Us ko ija na lag jaay aise savadhani se chodana jaruri tha. Ye to achchha hua ki Madhavi ki pahali chudai Ganga ne ki, varna chachi ki dehshat hakikat men badal jaati.

Yahan Paresh aur mein zad chuke the, Paresh ka lund narm hota chala tha. Ganga halake, dhirre aur gahare dhakke se Madhavi ko chodane lage. Madhavi ke nitamb dol ne lage the. Lund chut ki puchch puchch avaj ke saath Madhavi ki siskariyan aur Ganga ki aahen gunj rahi thi. Paresh : Bhabhi, dekh, bhos ke hoth kaise lund se chipak gaye hein ? Bade bhaiya ka lund mota hai na ? Mein : Devarji, tumara bhi kuchh kam nahin hai.

Ganga ke dhakke ab aniyamit hote chale the. S..r..r..r.r ke bajay kabhi kabhi ghachch se lund ghused dete the. Lagata tha ki Ganga zad ne se najadik aa gaye the. Madhavi lekin itani taiyaar nahin thi. Us ne khud raasta nikal liya. Apane hi hath se clitoris ragad dali aur chhatpatati hui zadi. Ganga sthir the lekin Madhavi ke chutad aise hilate the ki lund chut men aaya jaaya karata tha. Madhavi ka orgasm shant hua is ke baad tej raftar se dhakke mar kar Ganga zade aur utare. Karvat badal kar Madhavi so gai. Safai ke baad ham sab so gaye.

Dusare din jaage tab Paresh ne ek or chudai maagi muz se. Ganga ne bhi anurodh kiya. Mein kya karati ? Das minit ki mast chudai ho gai. Paresh ki khushi samati na hati. Sharm ki maari Madhavi kisi se najar mila nahin pati thi. Fir bhi Gaanag ne use bulaya to us ke paas chali gayi. Gale men baahen daal god men baith gayi. Ganga ne chum kar puchha : Kaisa hai dard ? Nind aayi barabar ? Sharama kar us ne apana munh chhupa diya Ganga ke sine men. Kan men kuchh boli. Ganga : Na, abhi nahin. Do din tak kuchh nahin. Chut ka ghaav ruz jaay is ke baad. Lekin Madhavi jaisi hathili ladaki kahan kisi ka sunati hai ? Vo Ganga ka munh chumati rahi aur lund tatolati rahi. Ganga bhi rahe javan aadami, kya kare bechara ? Utha kar vo Madhavi ko andar le gaye aur aadhe ghante tak choda.

Us raat ke bad vo bhai bahan aksar hamare ghar aate rahe aur chudai ka maja lete rahe. Jab school khuli tab unhen shahar men jana pada. Mein ur Gangadhar intezar kar rahe hein ki kab vacation pade aur vo dono ghar aaye. Aakhir naye naye lund se chudavane men aur nayi nayi chut ko chodane men koi anokha aanand aata hai. Hai na ?



The End   

धोबन और उसका बेटा-PART2 OF THE STORY

Indian Sex Stories|Hindi sexy stories|Marathi sexyStories|Erotic stories | Kamdhund katha|sambhog katha|sex katha| Chodan|Hindi Sex Stories

धोबन और उसका बेटा-PART2 OF THE STORY

"ओह मा, लंड में दर्द हो रहा है". मा उठ कर बैठ गई और मेरी तरफ देखते हुई बोली "देखु तो कहा दर्द है" मैने लंड दिखाते हुए कहा "देखो ना जैसे ही चूत में घुशाया था वैसे ही दर्द करने लगा" मा खुच्छ देर तक देखती रही फिर हस्ने लगी और बोली "साले अनारी चुड़दकर, चला है मा को छोड़ने, आबे अभी तक तो तेरे सुपरे की चमरी ढंग से उलटी ही ऩही है तो दर्द ऩही होगा तो और क्या होगा, चला है मा को छोड़ने, चल कोई बात ऩही मुझे इस बात का ध्यान रखना चाहिए था, मेरी ग़लती है, मैने सोच तूने खूब मूठ मारी होगी तो चमरी अपने आप उलटने लगी होगी मगर तेरे इस गुलाबी सुपरे की शकल देख के ही मुझे समझ जाना चाहिए था की तूने तो अभी तक ढंग से मूठ भी ऩही मारी, चल नीचे लेट अब मुझे ही कुच्छ करना परेगा लगता है". मैने तो अब तक यही सुना था की लरका लर्की के उपर चाड के छोड़ता है मगर जब मा ने मुझे नीचे लेटने के लिए कहा तो मैं सोच में पर गया और मा से पुच्छ "नीचे क्यों लेटना है मा, क्या अब चुदाई ऩही होगी". मुझे लग रहा था की मा फिर से मेरा मूठ मार देगी. मा ने हस्ते हुए कहा "ऩही बे ****इए चुदाई तो होगी ही, जितनी तुझे छोड़ने की आग लगी है मुझे भी चुड़वाने की उतनी ही आग लगी है, चुदाई तो होगी ही, तुझे तो अभी रात भर मेरी बुर का बजा बजाना है मेरे राजा, तू नीचे लेट अब उल्टी तरफ से चुदाई होगी.
"उल्टी तरफ से चुदाई होगी, इसका क्या मतलब है मा"
"इसका मतलब है मैं तेरे उपर चाड के खुद से चड़वौनगी, कैसे चड़वौनगी? ये तो तू खुद ही थोरी देर के बाद देख लियो मगर, फिलहाल तू नीचे लेट और अपना लंड खरा कर के रख फिर देख मैं कैसे तुझे मज़ा देती हू"
मैं नीचे लेट तो गया पर अब भी मैं सोच रहा था की मा कैसे करेगी. मा ने जब मेरे चेहरे पर हिचकिचाहट के भाव देखे तो वो मेरे गाल पर एक प्यार भरा तमाचा लगते हुए बोली "सोच क्या रहा है मधर्चोड़ अभी चुप चाप तमाशा देख फिर बताना की कैसा मज़ा आता है" कह कर मा ने मेरे कमर के दोनो तरफ अपनी दोनो टाँगे कर दी और अपनी बुर को ठीक मेरे लौरे के सामने ला कर मेरे लंड को एक हाथ से पकरा और सुपरे को सीधा अपनी चूत के गुलाबी मुँह पर लगा दिया. सुपरे को बुर के गुलाबी मुँह पर लगा कर वो मेरे लंड को अपने हाथो से आगे पिच्चे कर के अपनी बुर के दरार पर रगर्ने लगी. उसकी चूत से निकला हुआ पानी मेरे सुपरे पर लग रहा था और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मेरी साँसे उस अगले पल के इंतेज़ार में रुकी हुई थी जब मेरा लंड उसके चूत में घुसता. मैं डम साढ़े इंतेज़ार कर रहा था तभी मा ने अपने चूत के फाँक को एक हाथ से फैलाया और मेरे लंड के सुपरे को सीधा बुर के गुलाबी मुँह पर लगा कर उपर से हल्का सा ज़ोर लगाया. मेरे लंड का सुपरा उसके चूत के फांको बीच समा गया. फिर मा ने मेरे च्चती पर अपने हाथो को जमाया और उपर से एक हल्का सा धक्का दिया मेरे लंड का थोरा सा और भाग उसकी चूत में समा गया. उसके बाद मा स्थिर हो गई और इतने से ही लंड को अपनी बुर में घुसा कर आगे पिच्चे करने लगी. थोरी देर तक ऐसा करने के बाद उसने फिर से एक धक्का मारा, इस बार धक्का थोरा ज़यादा ही जोरदार था और मेरे लंड का लग भाग आधा से अधिक भाग उसकी चूत में समा गया. मेरे मुँह से एक ज़ोर डर चीख निकल गई. क्यों की मेरे लंड के सुपरे की चमरी एक डम से पिच्चे उलट गई थी. पर मा ने इस र कोई ध्यान ऩही दिया और उतने ही लंड पर आगे पिच्चे करते हुए धक्का मरते हुए बोली "बेटा चुदाई कोई आसान काम ऩही है, लर्की भी जब पहली बार चुड्ती है तो उसको भी दर्द होता है, और उसका दर्द तो तेरे दर्द के सामने कुच्छ भी ऩही है, जैसे उसके बुर की सील टूटती है वैसे ही तेरे लंड की भी आज सील टूटी है, थोरी देर तक आराम से लेता रह फिर देख तुझे कैसा मज़ा आता है". मा अब उतने लंड को ही बुर में ले कर धीरे धीरे धक्के लगा रही थी. वो अपने गांद को उच्छल उच्छल के धक्के पर धक्का मारे जा रही थी. थोरी देर में ही मेरा दर्द कम हो गया और मुझे गीले पं का अहसास होने लगा. मा की चूत ने पानी छ्होरना शुरू कर दिया था और उसकी बुर से निकलते पानी के कारण मेरे लंड का घुसना और निकलना भी आसान हो गया था. मा अब और ज़ोर ज़ोर से अपनी गांद उच्छल उच्छल के धक्के लगा रही थी और मेरे लौरे का ज़यादा से ज़यादा भाग उसके चूत के अंदर घुसता जा रहा था. मा ने इस बार एक ज़ोर दार धक्का मारा और मेरे लंड का जायदातर भाग अपनी चूत में च्छूपा लिया और सिसकरते हुए बोली "सस्स्स्स्स्सिईईईईई है दैयया, कितना टगरा लॉरा है जैसे की गरम लोहे का रोड हो, एक डम सीधा बुर के दीवारो को रगर मार रहा है, मेरे जैसी चूड़ी हुई औरत के बुर में जब ये इतना कसा हुआ है तो जवान लौंदीयों की चूत फर के रख देगा, मज़ा आ गया, ले साले और घुसा लॉरा और घुसा" कह कर तेज़ी से तीन चार धक्के मार दिए. मा के द्वारा तेज़ी से लगाए गये इन धक्को से मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया. मा ने सिसकरते हुए धक्के लगाना जारी रखा और अपने एक हाथ को लौरे के जर के पास ले जाकर देखने लगी की पूरा लंड अंदर गया है की ऩही. जब उसने देखा की पूरा का पूरा लॉरा उसकी बुर में घुस चुका है तब उसने अपनी ****अरो को उच्छलते हुए एक तेज धक्का मारा और मेरे होंठो का चुम्मा ले कर बोली "कैसा लग रहा है बेटा, अब तो दर्द ऩही हो रहा है ना"
"ऩही मा अब दर्द ऩही हो रहा है, देखो ना मेरा पूरा लॉरा तुम्हारे बुर के अंदर चला गया है"
"हा बेटा अब दर्द ऩही होगा अब तो बस मज़ा ही मज़ा है, मेरे बुर के पानी के गीले पं से तेरी चमरी उलटने में आब आसानी हो रही है इसलिए तुझे अब दर्द ऩही हो रहा होगा, बल्कि मज़ा आ रहा होगा, क्यों बेटा बोल ना मज़ा आ रहा है या ऩही अपनी मा के बुर में लॉरा पेल के, अब तो तुझे पाता चल रहा होगा की चुदाई क्या होती है बएटााआआआ, ले मज़े चुदाई का और बता की तुझे कैसा लग रहा है मा की चूत में लॉरा धसने में"
"है मा, सच में गजब का मज़ा आ रहा है, ओह मा तुम्हारी चूत कितनी कसी हुई है मेरा लॉरा तो इसमे बरी मुस्किल से घुसा है जबकि मैने सुना था की शादी शुदा औरतो की चूत ढीली हो जाती है"
"बेटा ये तेरी मा की चूत है, ये ढीली होने वाली चूत ऩही है" कह कर मा ने लंड को पूरे सुपरे तक खींच कर बाहर निकाला और फिर उपर से गांद का ज़ोर लगा के एक ज़ोर दार शॉट मार का पूरा लंड एक ही बार में गपक से अपनी बुर के अंदर लील लिया.
मा अब तेज तेज शॉट लगा के पूरा का पूरा लंड अपनी बुर में एक ही बार में गपक से लील लेती थी. उसने मेरा उत्साह बढ़ते हुए कहा " आबे साले नीचे क्या औरतो की तरह से परे रह कर चुड़वा रहा है अपना गांद उच्छल उच्छल के तू भी धक्का मार साले मदारचोड, चोद अपनी मा को, ऐसे परे रहने से थोरे ही मज़ा आएगा, देख मेरी चूत कैसे तेरे सारे लौरे को एक ही बार में निगल रही है, तेरा लंड मेरी बुर के दीवारो को कुचालता हुआ कैसे मेरी बुर के जर तक ठोकर मार रहा है, बहिँचोड़ तू भी नीचे से धक्का मार मेरे राजा और बता की कैसा लग रहा है मा की चुदाई करने में, मज़ा आ रहा है या ऩही मा की बुर छोड़ने में"
मैने भी नीचे से गांद उच्छल कर धक्का मारना शुरू कर दिया. और मा के ****अरो को अपने हथेलियों के बीच दबोच कर बोला "है मा, बहुत मज़ा आ रहा है, सच में इतना मज़ा तो जिंदगी में कभी ऩही आया, ओह तुम्हारी बुर में मेरा लॉरा एक डम कसा कसा जा रहा है और ऐसा लगता है जैसे की मैने किसी गरम भट्टी में अपने लौरे को डाल दिया है, ओह सस्स्स्स्स्स्स्सीईईई इओउुुऊउगगगगगगगगग ह कितना गरम है तेरी बुर मा,,,,,,,और ज़ोर से मारो धक्का और ले लो अपने बेटे का लंड अपनी बुर में ऊऊओह साली मज़ा आ गया" कह कर मैने अपनी एक उंगली को मा के गांद के दरार पर लगा कर उसको हल्का सा उसके गांद में डाल दिया.
मा कॅया जोश मेरी इस हरकत पर दुगुना हो गया और वो अपनी ****अरो को और तेज़ी के साथ उच्छलने लगी और बर्बाराने लगी "है मधर्चोड़, गांद में उंगली डालता है, बेटीचोड़ तेरी मा को चोदु, साले गन्दू ले, और ले मेरी बुर का धक्का अपने लौरे पर, टॉर दूँगी साले तेरा लॉरा गन्दू, बहँचोड़, ले सलीईईई, मुँह क्या देख रहा है, चुचि दबा साले मुँह में लेकर चूस और चुदाई का मज़ा ले, है कितने वर्षो के बाद ऐसी चुदाई का आनंद मिल रहा हाईईईईईईईईई ओह ऊऊऊऊऊओह ह,"
मैने मा के आदेश पर उसकी चुचियों को अपने हाथो में थाम लिया और उसकी एक चुचि को खींच कर उसके निपल से अपने मुँह को सता कर चूस्ते हुए दूसरी चुचि को खूब ज़ोर ज़ोर से मसल्ने लगा. मा अब अपने गांद को पूरा उच्छल उच्छल कर मेरे लंड को अपनी गरम बुर में पेल्वा रही थी. उसकी चूत एक डम अंगीठी की तरह से गरम हो चुकी थी और खूब पानी चूर रही थी मेरा लंड उसकी चूत के पानी से भीग कर सता सात उसकी बुर के अंदर बाहर हो रहा था. मा के मुँह से गलियों की बौच्हर हो रही थी वो बोल रही थी "इसस्स्स्स्स्स्स्सीईए मधर्चोड़ चोद मेरी बुर को डम लगा के, है कितना मज़ा आ रहा है, तेरे बाप से अब कुच्छ ऩही होता रीई, अब तो तू ही मेरी चूत की आग को ठंडी करना,,,,,,, मैं तुझे चुदाई का शानशाह बना दूँगी,,,,,,, ,,तेरे उस भारुए मधचोड़ बाप को छुने भी ऩही दूँगी अपनी बुर, तू छोड़ियो मेरी बुर को और मेरी आग ठंडी करियो, कहा था रीईईई बहँचोड़ अब तक तू अब तक तो मैं तेरे लूआरे का कितना पानी पी चुकी होती चोद रे लौंदे चोद, अपनी गांद तक का ज़ोर लगा दे छोड़ने में आज, आज अगर तूने मुझे कुश कर दिया तो फिर मैं तेरी गुलाम हो जौंगी"
मैं मा की चुचियों को मसलते हुए अपनी गांद को नीचे से उच्छलता जा रहा था मेरा लंड उसकी कसी बुर में गॅप गप...फच फ़च की आवाज़ करता हुआ अंदर बाहर हो रहा था. हम दोनो की साँसे तेज हो गई थी और कमरे में चुदाई की मादक आवाज़ गूँज रही थी. दोनो के बदन से पसीना छू रहा था और सांसो की गर्मी एक दूसरे के बदन को महका रही थी. मा अब सयद थक चुकी थी. उसके धक्के मरने की रफ़्तार अब थोरी धीमी हो गई थी और अब वो हफने भी लगी थी. थोरी देर तक हफ्ते हुए वो धक्का लगाती रही फिर अचानक से पस्त हो कर मेरे बदन के ुआप्र गिर गई और बोली "ओह मैं तो थक गई रीईई, इतने में आम तौर पर मेरा पानी तो निकल जाता है पर आज नये लंड के जोश में मेरा पानी भी ऩही निकल रहा, ओह मज़ा आ गया, आज से पहले ऐसी चुदाई कभी ऩही की, पर थक गई रीईई मैं तो, अब तो तुझे मेरे उपर चाड कर धक्का मारना होगा तभी चुदाई हो पाएगी साले" कह कर वो अपने पूरे शरीर का भर मेरे बदन पर दे कर लेट गई.
मेरी साँसे भी तेज चल रही थी मगर लंड अब भी खरा था. दिल में चुदाई की ललक बरकरार थी और अब तो मैने चुदाई भी सीख ली थी. मैने धीरे से मा के छुअतोर को पकर का नीचे से ही धक्का लगाने का प्रयास किया और दो तीन छ्होटे छ्होटे धक्के मारे मगर क्यों की मा थोरा थक गई थी इसलिए वो उसी तरह से लेती रही. मा के भारी शरीर के कारण मैं उतने ज़ोर के धक्के ऩही लगा पाया जितना लगा सकता था. मैने मा को बाँहो में भर लिया और उसके कान के पास अपने मुँह को ले जा कर फुसफुसते हुए बोला "ओह मा जल्दी कर नाआ, और धक्का मार ना, अब ऩही रहा जा रहा है,,,,,जल्दी से मारो ना मा". मा ने मेरे चेहरे को गौर से देखते हुए मेरे होंठो को चूम लिया और बोली "थोरा डम तो लेने दे साले, कितनी देर से तो चुदाई हो रही है, थकान तो होगी ही"
"पर मा मेरा तो लंड लगता है फट जाएगा, मेरा जी कर रहा है की खूब ज़ोर ज़ोर से धक्के लगौ"
"तो मार ना, मैने कब माना किया है, आजा मेरे उपर चाड के खूब ज़ोर ज़ोर से चुदाई कर दे अपनी मा की, बजा दे बजा उसकी बुर का" कह कर मा धीरे से मेरे उपर से उतार गई. उसके उतरने पर मेरा लंड भी फिसल के उसकी चूत से बाहर निकल गया था मगा मा ने कुच्छ ऩही कहा और बगल में लेट कर अपनी दोनो जाँघो को फैला दिया. मेरा लंड एक डम रस से भीगा हुआ था और उसका सुपरा लाल रंग का किसी पाहरी आलू के जैसे लग रहा था. मैने अपने लंड को पकरा और सीधा अपनी मा के जाँघो के बीच चला गया. उसकी जाँघो के बीच बैठ कर मैं उसकी चूत को गौर से देखने लगा. उसकी चूत फूल पिचाक रही थी और चूत का मुँह अभी थोरा सा खुला हुआ लग रहा था, बुर का गुलाबी छेद अंदर से झाँक रहा था और पानी से भीगा हुआ महसूस हो रहा था. मैं कुच्छ देर तक अपलक उसके चूत की सुंदरता को निहारता रहा.
मा ने मुझे जब कुच्छ करने की बजाए केवल घूरते हुए देखा तो वो सिसकते हुए बोली "क्या कर रहा है, जल्दी से डाल ना चूत में लौरे को ऐसे खरे खरे खाली घूरता रहेगा क्या, कितना देखेगा बुर को, आबे उल्लूए देखने से ज़यादा मज़ा छोड़ने में है, जल्दी से अपना मूसल डाल दे मेरे चोदु भरतार, अब नाटक मत चोद" मा ने इतना कह कर मेरे लंड को अपने हाथो में पकर लिया और बोली "ठहर मैं लगाती हू साले" और मेरे लंड के सुपरे को बुर के खुले छेद पर घिसने लगी और बोली "बुर का पानी लग जाएगा और चिकना हो जाएगा स्मझा, फिर आराम से चला जाएगा" मैं मा के उपर झुक गया और अपने आप को पूरी तरह से तैय्यर कर लिया अपने जीवन की पहली चुदाई के लिए. मा ने मेरे लंड को चूत को छेद पर लगा कर स्थिर कर दिया और बोली "हा अब मारो धक्का और पेल दो चूत में" मैने अपनी ताक़त को समेटा और कस के एक ज़ोर डर धक्का लगा दिये मेरे लंड का सुपरा तो पहले से भीगा हुआ था इसलिए वो सतक से अंदर चला गया उसके साथ साथ मेरे लंड का आधा से अधिक भाग चूत की दीवारो को रगारता हुआ अंदर घुस गया. ये सब अचानक तो ऩही था मगर फिर भी मा ने सोचा ऩही था की मैं इतनी ज़ोर से धक्का लगा दूँगा इसलिए वो चौंक गई और उसके मुँह से एक घुटि घुटि सी चीख निकल गई. मगर मैने तभी दो तीन और ज़ोर के झटके लगा दिए और मेरा लंड पूरा का पूरा अंदर घुस गया. पूरा लॉरा घुसा कर जैसे ही मैं इस्तिर हुआ मा के मुँह से गलियों की बौरच्छार निकल परी "सला, हरामी क्या स्मझ रखा है रे, कामीने, ऐसे कही धक्का मारा जाता है, सांड की तरह से घुसा दिया सीधा एक ही बार में मधर्चोड़, धीरे धीरे करना ऩही आता है तुझे, साले कामीने पूरी चूत च्चिल गई मेरी, बाप है की घुसना ही ऩही जनता और बेटा है की घुसता है तो ऐसे घुसता है जैसे की मेरी चूत फर ने के लिए घुसा रहा हो, हरामी कही का"
"माफ़ कर देना मा मगर मुझे ऩही पाता था की तुम्हे चोट लग जायआ, तू तो जानती है ना की ये मेरी पहली चुदाई है" कह कर मैने मा की दोनो चुचियों को अपने हाथो में थाम लिया और उन्हे दबाते हुए एक चुचि के निपल को चोसने लगा. कुच्छ देर तक ऐसे ही रहने के बाद सयद मा का दर्द कुच्छ कूम हो गया और वो भी अब नीचे से अपनी गंद उचकाने लगी और मेरे बालो में हाथ फेरते हुए मेरे सिर को चूमने लगी. मैने पूरी तरह से स्थिर था और चुचि को चोसने और दबाने में लगा हुआ था, मा ने कहा "है बेटा, अब धक्का लगाओ और चॉड्ना शुरू करो अब देर मत करो तेरी मा की पयासी बुर अब तेरे लौरे का पानी पीना चाहती है".
मैने दोनो चुचियों को थाम लिया और धीरे धीरे अपनी गांद उच्छलने लगा. मेरा लॉरा मा के पनियाए हुए चूत के अंदर से बाहर निकालता और फिर घुस जाता था. मा ने अब नीचे से अपने ****आर उच्छालना शुरू कर दिया था. डूस बारह झटके मरने के बाद ही बुर से गछ गछ,,,,फ़च फ़च की आवाज़े आनी शुरू हो गई थी. ये इस बात को बतला रहा था की उसकी चूत अब पानी छ्होर्ने लगी है और अब उसे भी मज़ा आना शुरू हो गया है. मा ने अपने पैरो को घुटनो के पास से मोर लिया था और अपनी टॅंगो की कैंची बना के मेरे कमर पर बाँध दिया था. मैं ज़ोर ज़ोर से धक्का मरते हुए उसके होंठो और गालो को चूमते हुए उसके चुचियों को दबा रहा था. मा की मुँह से सिसकारियों का दौर फिर से शुरू हो गया था और वो हफ्ते हुए बर्बाराने लगी "है मारो, और ज़ोर से मारो राजा, छोड़ो मेरी चूत को, चोद चोद के भोसरा बना दो बेटा, कैसा लग रहा है बेटा छोड़ने में मज़ा आ रहा है या ऩही, मेरी बुर कैसी लगा रही है तुझे बता ना राजा, अपनी मा की बुर चोदने में मज़ा आ रहा है या ऩही, पूरा जर तक लॉरा पेल के छोड़ो राजा और कस कस के धक्के मार के पक्के मादर्चोद बन जाओ, बता ना राजा बेटा कैसा लग रहा है मा की चूत में लॉरा डालने में"
मैने धक्का लगाते हुए कहा "है मा बहुत मज़ा आ रहा है, बहुत कसी हुई है तुम्हारी बुर तो, मेरा लंड तो एक दम फस फस के जा रहा है तेरी बुर में, ऐसा लग रहा है जैसे किसी बॉटल में लकारी का ढक्कन फसा रहा हू, है क्या सच में मेरा बापू तुझे चोद्ता ऩही था क्या, या फिर तुम उस को चोदने ऩही देती थी, तुम्हारी चूत इतनी कसी हुई कैसे है मा, जबकि मेरे दोस्त कहते थे की उमर के साथ औरतो की चूत ढीली हो जाती है, है तुम्हारी तो एक डम कसी हुई है". इस पर मा ने अपने पैरो का शिकंजा और कसते हुए दाँत पीसते हुए कहा "साला तेरा बाप तो गान्डू है, वो क्या खा के चोदेगा मुझे, उस गान्डू ने तो मुझे ना जाने कब से चोदना छ्होरा हुआ है, पर मैं किसी तरह से अपने चूत की खुजली को अंदर ही दबा लेती थी, क्या करती किस से चुड़वति, फिर जिसके पास चुड़वाने जाती वो कही मुझे संतुष्ट ऩही कर पाता तो क्या होता, बदनामी अलग से होती और मज़ा भी ऩही आता, तेरा हथियार जब देखा तो लग गया की तू ना केवल मुझे संतूश कर पाएगा बल्कि, तेरे से चुड़वाने से बदनामी भी ऩही होगी, और तू भी मेरी चूत का पायसा है फिर अपने बेटे से चुड़वाने का मज़ा ही कुच्छ और है, जॉब सोच के इतना मज़ा आ रहा था तो मैने सोचा की क्यों ना चोदवा के देख लिया जाए"

"है मा तो फिर कैसा लग रहा है अपने बेटे से चुड़वाने में, मज़ा आ रहा है ना, मेरा लॉरा अपने चूत में ले के, बोलो ना बुर मारनी, साली मेरा लॉरा तुझे मज़ा दे रहा है या ऩही"
"है गजब का मज़ा आ रहा है राजा, तेरा लॉरा तो मेरी चूत के जर तक टकरा रहा है और मेरी चूत के दीवारो को मसल रहा है और मेरी नाभि तक पहुच जा रहा है, तू बहुत सुख दे रहा है अपनी मा को मार कस के मार धक्का बेटीचोड़, चोदु राम हलवाई, चोद ले अपनी मैया के चूत को और इसको दो फाँक कर दे मधर्चोड़"
"है जब चुड़वाने में इतना मज़ा आ रहा है और छोड़वाने का इतना मन था तो फिर सोते वाक़ूत इतना नाटक क्यों कर रही थी, जब मैं तुझे नंगा हो कर दिखाने को बोल रहा था"
"है रे मेरे भोलू राम, इतना भी ऩही समझता क्या, इसको कहते है नखरा, औरते दो तरह का छिनाल पं दिखा सकती है या तो सीधा तेरा लंड पकर के कहती की चोद मुझे या फिर धीरे धीरे तुझे तरपा तरपा के एक एक चीज़ दिखती और तब तरपा तरपा के चुदवाति, मुझे सीधे चुदाई में मज़ा ऩही आता, मैं तो खूब खेल खेल के चुदवाना चाहती थी, चक्की जितनी धीरे चलती है उतना ही महीन पीसती है साले, इसलिए मैने थोरा सा च्चिनाल पं दिखया था, समझा अब बाते चोदना बंद कर और लगा ज़ोर ज़ोर से धक्का और चोद मेरी बुर को मधर्चूऊऊऊद्दद ड्ड, तेरी मा की छूततततत्त में डंडा डालु बहन्चोद माररर्ररर ज़ोर से और बक्चोदि बंद कर"
"ठीक मेरी च्चिनाल मा अब तो मैं भी पूरा सिख गया हू, देख अब मैं कैसे चोदता हू तेरी इस मसतनी चूत को और कितना मज़ा देता हू तुझे, देख साली बुरचोदि फिर ना बोलना की बेटे ने ठीक से चोदा ऩही, रंडी जितना तूने मुझे सिखाया है मैं उस से कही ज़यादा मज़ा दूँगा तुझे,,,,,,, ,,साली मधर्चोड़"
मैं अब पूरे जोश के साथ धक्का मरने लगा था और मेरा पूरा लंड सुपरे तक निकल कर बाहर आ जा रहा था, फिर सीधा सरसरते हुए गचक से अंदर मा की चूत की गहराइयों में समा जा रहा था. लंड की चमरी तो अब सयद पूरी तरह से उलट चुकी थी, और चुदाई में अब कोई दिक्कत ऩही आ रही थी. मा की चूत एक डम से गरम भट्टी की तरह ताप रही थी और मेरे लंड को सता सात लील रही थी. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं जन्नत की सैर कर रहा हू. मेरी गांद पर मा का हाथ था और वो उपर से दबाते हुए मुझे अपनी चूत पर दबा रही थी और साथ में नीचे गांद उच्छल कर मेरे लौरे को अपनी चूत में ले रही थी. बर के होंठो को मसलते हुए मेरा लंड सीधा बुर की जर से टकराता था और फिर उतनी ही तेज गति से बाहर आ कर फिर घुस जाता था. कमरे का माहौल फिर से गरम हो गया था और वातावरण में चुदाई की महक फैल गई थी. पूरे कमरे में गछ गछ फ़च फ़च की आवाज़ गूँज रही थी. हम दोनो की साँसे धोकनि की तरह से चल रही थी. दोनो के बदन से निकलता पसीना एक दूसरे को भिगो रहा था मगर, इसकी फिकर किसे थी.
मा नि अपने तेज चलती सांसो के बीच से बर्बरते हुए मेरा उस्टस बढ़ाया "ओह ओहस्सस्स्स्स्स्स्स्सिईईईई, चोदो और ज़ोर से पेलो अपना डंडा, घुमा घुमा के डालो राजा, सस्स्स्स्स्स्सिईईईईईईईई अब तो बस अपने रस से बुझा दे मेरी चूत के पायस को, चोद दे मुझे मधर्चोड़, साले मेरे सैया, ऐसे ही धक्का मारे जा, ऐसे ही चोद कर मुझे ठंडा कर दे, तेरे डंडे से ही ठंडी होगी तेरी मा, पँखे से ठंडे होनी वाली ऩही हू मैं, तेरी मा को तो तेरा मोटा मुसलांड चाहिए जो की उसकी बुर को दो फाँक कर के उसकी चूत के अंदर की ज्वाला को ठंडा कर दे, मार साले बहँचोड़, तेरी बहन के गांद में लंड डालु, ज़ोर से मार ना, बेटीचोड़, गन्दू, है रे आज से तू ही मेरा भरतार है तू ही मेरा सैय्या और तू ही मेरा चोदु है"
"है, ले साली बुरछोड़ी और ले, और ले मेरे लंड को अपनी मस्तानी चूत में, ले ना च्चिनाल खा जा मेरे लौरे को अपनी बुर से, पूरा लंड खा जा साली बेताचोड़ी मा, है रे मेरी चुड़दकर मैया, कहा से सिकहा है तूने इँटना मज़ा देना, ओह मेरा तो जानम सफल हो गया रीईईई हाईईईईईईई साली और ले मधर्चोद्द्द्द्द्द्दद्ड"
"दे और कस कस के दे बेटा, इसी लंड के लिए तो मैं इतनी पयासी थी, ऐसे ही लंड से चुड़वाने की चाहत को पाले हुए थी मैं मन में ना जाने कब से, आज मेरी तम्माना पूरी हो गई, आने दे तेरे उस भारुए बाप को अगर कभी हाथ भी लगाया मेरे इस बदन को तो साले के गांद पर च्चर लात मार कर घर से निकल दूँगी, सला मधर्चोड़ वो क्या जानेगा चॉड्ना, अभी यहा होता तो दिखती की चॉड्ना किसको कहते है, तू लगा रह बेटा चोद के मेरी **** को मत दे और इसमे से अपने लिए मक्खन निकल ले, मेरे चुड़दकर बलम"
अब तो बस आँधी आए या तूफान कोई भी ह्यूम ऩही रोक सकता था हम दोनो अब अपने चरम पर पहुच चुके थे और चुदाई की रफ़्तार में कोई कमी ऩही चाहते थे. चाहते थे तो बस इतना की कैसे भी एक दूसरे के बदन में समा जाए और मार मार के चोद चोद के एक दूसरे के लंड और चूत का भुर्ता बना दे. मा की सिसकारिया तेज हो गई थी और अब दोनो में से कोई भी एक दूसरे को छ्होर्ने वाला ऩही था दोनो, जी जान से एक दूसरे से चिपके हुए धक्के धक्के पर धक्का लगाए जा रहे थे मैं ुअपर से और मा नीचे से.

मा सिसकते हुए बोली "है राजा ऐसे ही मेरा निकलने वाला है, मरता रह धक्का धीरे मत करियो, ऐसे ही मधर्चोड़ अब निकल जाएगा मेरा, सस्स्स्स्स्स्स्सिईईईईईईई ऊऊऊऊउगगगगगगगगगग ग बेटीचोड़ मारे जा माआ सस्स्स्स्स्स्स्स्सिईईईईई मधर्चूऊऊऊऊओ ऊओद्दद्ड, निकल जाएगाआआआआआअ, सलीईईई, मेरा निकल रहा हाईईईईईईईईई मधर्चोड़,, ,,,,,,,, चोद कस के और ज़ोर ज़ोर से माआआआआअरर्र्र्ररर र्र, गंद्द्द्द्द्द्द्द्द्दद्डुऊऊउ अयू, छोद्द्द्द्द्द्द्दद्ड डाआाआल मिटा दे खुज्जज्ज्ज्ज्ज्ज्जलीइीईई ईई, चोद, चोद ज़ोर ज़ोर सीईईईईई, तेरी मा के बुर में गढ़े का लॉरा डालुउउुुुुुुुुउउ चोद ना साले और मारीईईई जा, निकलाआआआआआअ रे मेरा तो निकलाआाआ, झारी रीईईई मैं तो झरीईईईईईईई कह कर मेरे मेरे कंधो पर अपने दाँत गर्अ दिए.

मेरा भी अब निकलने वाला था और मैं भी ज़ोर ज़ोर से धकका लगते हुए छोड़ने लगा और गालिया बकते हुए झरने लगा "ओह साली मेरा भी निकल रहा है रीईईई, मधर्चोद्द्द्द्द्द्द्दद्ड द, निकल रहा है मेरााआआआआअ, ओह रंडी, छीनाल साली, तूने तो आज जन्नत की सैर कार्रर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्रररा आआआआआअ डीईईईईईई रे, ओह माआआआअ, गया मैं तो, ओह चुड़ैल सलिइीईईईई तेरी बुर में मेरा पानी निकल रहा है रीईईईईई लीईईई पे ले अपनी चूत से मेरे लौरे के पानी को पे ले और निगल ज़ाआाआआआआ मेरे लौरे को पूरा का पूरा बुर मारनी बुरछोड़ी"''' ''....... ......... ... है रे रंडी निकल गया रे मेरा तो पूरााआआआआआ" कह कर मैं मा के उपर लेट गया. हम दोनो की आँखे बंद थी और दोनो एक दूसरे बदन से चिपके हुए थे. थकान के मारे दोनो में से किसी को होश ऩही था की कया हो गया है.
एक दूसरे से चिपके हुए कब आँख लगी कब मेरा लंड उसकी चूत से बाहर निकल गया कब हम दोनो सो गये इसका पाता हमे ऩही लगा.
फिर हम दोनों आज तक जम के चुदाई करते हैं. अब तो बापू के सामने भी माँ मेरे से अपनी चूत मवाने में नहीं हिचकिचाती. बापू ने भी माँ को यही सोच कर छुट दे दी है कि जब उसने अपने बेटे को पैदा किया है तो उस से अपनी प्यास शांत करती है तो इसमें बुरा ही क्या है ?


The End

Wednesday, 1 June 2016

Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai

प्यारे दोस्तो, मेरा नाम वीरू, बीस साल का हूँ। Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai मैं कॉलेज के प्रथम वर्ष में हूँ। मैं एक मध्यवर्गीय परिवार से हूँ। मैं शर्मीले स्वभाव का सीधा सा दिखने वाला लड़का हूँ, राजस्थान के श्री गंगानगर में रहता हूँ।
मैं आपको अपनी पड़ोसन जिया के साथ हुए पहला अनुभव बताने जा रहा हूँ। वह 18 साल की एक ख़ूबसूरत और गोरी-चिट्टी लड़की है, उसकी चूचियाँ इतनी मदमस्त कर देने वाली हैं कि किसी का भी लण्ड खड़ा हो जाए। मेरा और उसका घर एक दम साथ-साथ था। मेरे को वो बहुत अच्छी लगती थी। पर मैं उससे कभी बात नहीं कर पाया, मेरा मन बहुत करता था उससे बात करने का और उसको पटाने का, पर यह कैसे होगा समझ नहीं आता था।
मेरे को एक आईडिया आया, उसका एक छोटा भाई था राहुल। मैंने उसको पटाने की सोची, अगर इसको पटा लिया तो जिया को पटाना आसान हो जायेगा। इसलिए मैं जिया के भाई को पटाने लगा और उसके साथ खेल खेलने लगा। उसको अपने घर पर बुला कर पीसी पर गेम भी खिलाता, इस तरह वो मेरे साथ रहने लग गया और कभी कभी मैं भी उसके घर भी चला जाता। कुछ समय बाद जिया से भी मेरी थोड़ी-थोड़ी बातें होने लग गई और हम एक साथ मिल कर खेलने लग गए।
पर मैं तो जिया को पटा कर चोदना चाहता था, पर कैसे हो सकता था। मैं नए-नए आईडिया सोचने लग गया कि किस तरह जिया को चोदूँ, मेरे मन में फ़िर एक आईडिया आया।
मैं एक ब्लू फिल्म की सीडी लेकर आया, उस दिन उसके घर वाले बाहर गए हुए थे। मैंने अपनी छत से उसकी छत पर पर उस सीडी को फेंक दिया और अपनी छत पर घूमने लग गया। उसने मुझे देखा और वो भी छत पर आ गई और आते ही उसको वो सीडी मिल गई। वो मेरे पास उस सीडी को ले कर आई और बोली- यह सीडी छत पर मिली है।
मैंने पूछा- क्या है इसमें ?
तो उसने बोला- मुझे नहीं पता, मुझे तो छत पर पड़ी मिली है।
मैं उससे कहा- चलो देखते हैं कि क्या है इसमें !
तो वो राजी हो गई और मैं अपनी छत से उसकी छत पर आकर उसके घर पर चला गया।
वो जाते ही सीडी प्लेयर में उस सीडी को लगाने लगी। मेरा दिल बहुत जोर जोर से धक-धक कर रहा था, पता नहीं क्या होगा। कहीं उसने अपने घर वालों को इसके बारे में बता दिया तो?
मैं बहुत डर गया था।
उसने सीडी लगा कर टीवी ऑन किया। मैं अभी भी डर रहा था और टीवी चालू होते ही एक लड़का और एक लड़की आपस बातें कर रहे थे।
उसने मुझ से कहा- यह कोई हॉलीवुड फिल्म लगती है !थोड़ी देर में उस लड़के ने उस लड़की के सारे कपड़े उतार दिए। उसने एक दम अनजान की तरह कहा- ये क्या कर रहे हैं?
तो मैंने उससे कहा- यह एक ब्लू फिल्म है। पहले नहीं देखी क्या कभी ? उसने कहा- नहीं तो।
फिर धीरे धीरे वो लड़का उस लड़की की चूचियाँ दबाने और चूसने लग गया। उस लड़की ने उस लड़के के भी सारे कपड़े उतार दिए और फिर उसका लण्ड चूसने लग गई।
उसने कहा- मुझे तो शर्म आ रही है, कितने गंदे है ये।
मैंने उससे कहा- ऐसे तो सब लोग ही करते हैं, इसको ही तो सेक्स बोलते हैं।
मैंने उससे पूछा- तूने कभी सेक्स किया है?
उसने कहा- नहीं किया।
मैंने उससे कहा- इसमें बहुत मजा आता है।
तभी मैंने उसके पास जाकर बैठ गया और अपना हाथ धीरे उसकी चूचियों पर रखा, तो उसने मेरा हाथ हटा दिया और बोली- यह क्या कर रहे हो तुम?
मैंने कुछ न बोलते हुए फिर से अपना हाथ उसकी चूचियों पर रखा और उसके टॉप के ऊपर से चूचियाँ दबाने लगा। उस समय उसकी शक्ल देख कर ऐसा लग रहा था कि उसको मजा आ रहा था। फिर मैं दोनों चूचियों को एक साथ मसल मसल कर दबाने से ऐसा लगा और फिर मैं उसके टॉप मैं हाथ डाल कर चूचियों दबाने लगा और वो सिसकियाँ लेने गई। अब मुझे पता चल गया कि उसको मजे आ रहे हैं।
मैंने उसको पूछा- मज़ा आ रहा है क्या?
तो उसने कहा- हाँ, आ रहा है। क्या इसको ही सेक्स कहते हैं?
मैंने कहा- अभी तो कुछ भी नहीं हुआ है, अभी तो और बहुत मजे आयेंगे।
उसने- कहा कैसे?
तो मैं कहा- तुझे मेरा साथ देना होगा !
तो उसने हामी भर दी।
मैंने उसका टॉप और जींस उतार दी। उसने लाल रंग की ब्रा और पैंटी पहन रखी थी। वो बहुत ही गोरी थी और गोरे रंग पर लाल रंग बहुत सुन्दर लग रहा था। फिर मैंने दोनों को उतार फेंका। मैं पहली बार किसी लड़की की नंगी चूत के दर्शन कर रहा था, उसकी चूत में हल्के भूरे रंग के बाल थे।
उसने कहा- मुझे शर्म आ रही है !
और उसने अपने दोनों हाथ अपनी चूत और मोमो पर लगा लिए।
मैंने कहा- इसमें शर्माने की क्या बात है? सेक्स तो नंगे होकर ही किया जाता है।
मैंने प्यार से उसके दोनों हाथ हटा दिए और उसकी दोनों चूचियों को चूमने लगा तो वह पागल होने लगी। मैंने दूसरा हाथ उसकी चूत पर रखा, उसकी चूत एक दम गीली हो चुकी थी। अब मैं समझ गया कि ज़िया एक दम चुदने को तैयार है।
पर मैं उस को इतनी जल्दी नहीं चोदना चाहता था। इसलिए मैं उसकी चूत में अपनी एक उंगली डालने लगा और थोड़ी सी उंगली अन्दर जाते ही वह चिहुँक उठी,”दर्द हो रहा है।”
तो मैंने कहा,”जान पहली बार ज़रा दर्द होता है, आज तो इस दर्द सहन करना ही पड़ेगा।”
उसने कहा,” ठीक है।”
फिर मैं उसको ऊँगली से चोदने लगा और उसके मुँह से सी सी की आवाज आ रही थी। फिर मैंने उसको मेरी शर्ट-पैंट उतारने के लिए बोला।
उसने कहा- मुझे शर्म आ रही है।
मैंने कहा- अब काहे की शर्म !
और मेरे कपड़े उतारने के लिए बोला तो उसने मेरी शर्ट-पैंट उतार दी और लगे हाथ अण्डरवियर भी उतारने को बोला। ना ना करते हुए उसने उसको भी उतार ही दिया। उसने मेरा लण्ड देखा और अपनी आँखें बंद कर ली।
मैंने उससे कहा- यह प्यार करने की चीज है इससे मुँह नहीं मोड़ा करते।
फिर मैंने उसके दोनों हाथ आँखों से हटा दिए और उसको अपना लण्ड दिखाते हुए कहा- इसको लण्ड बोलते हैं और इसको ही चूत में डाल कर चुदाई करते हैं जिससे चूत और लण्ड का मिलन होता है। इस को अन्दर डालने से दोनों को बहुत मजा आता है !
तो उसने कहा- इतना बड़ा मेरी चूत में कैसे जायेगा? यहाँ तो उंगली भी ठीक से अन्दर नहीं जा रही है।
तो मैंने कहा- तुम चिंता मत करो, सब कुछ हो जायेगा। पर इसको चूत में डालने से पहले चूसना पड़ता है।
मैंने अपना लण्ड पकड़ कर उसके मुँह में डाल दिया। पहले तो उसने मुँह में लेते ही निकाल दिया। मैंने उसके मुँह में फिर से अपना लण्ड डाल दिया तो इस बार वो धीरे धीरे मेरे लण्ड का सुपारा चूसने लग गई और धीरे धीरे अपना सारा लण्ड उसके मुँह में अंदर-बाहर करने लग गया।
फिर मैंने उस को बेड पर लिटाया और 69 की अवस्था में आकर उसकी चूत को उंगली और जीभ से चोदने लगा। वो सिसकारियाँ लेने लगी और बोली- वीरू ! थोड़ा धीरे करो, मुझे दर्द हो रहा है।
मैंने कहा- दर्द तो हो रहा है पर मज़ा आ रहा है या नहीं?
वो बोली- हाँ ! मज़ा तो आ रहा है पर दर्द भी हो रहा है।
मैंने कहा- थोड़ी देर में यह दर्द खत्म हो जाएगा।
उसके मुँह से कामुक सिसकियाँ निकल रही थी। उसके मुँह से आवाजें आने लगी- सी……सी…स्…आ…अच्छा लग रहा … और चूसो और !
उसकी चूत एक दम गीली हो चुकी थी और उसकी चूत ने अंदर से सफ़ेद सफ़ेद सा पानी छोड़ दिया। जिसे मैंने अपने मुँह पर महसूस किया और मेरा भी वीर्य निकलने वाला था और मैं उसके मुँह में झड़ गया।
उसने कहा- यह क्या है?
मैंने कहा- प्यार की निशानी है। उसने मेरा सारा वीर्य पी लिया।
इसके बाद मैंने उसे सोफे पर बैठा दिया और अंदर से तेल की शीशी ले आया और उसकी चूत और अपने लण्ड पर तेल लगा लिया फिर उसकी टांगों को अपने कंधों पर रख लिया। इससे उसकी चूत मेरे लण्ड के करीब आ गई और मैं अपना लण्ड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। ज़िया सिसकारियाँ भरने लगी।
फ़िर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत के मुहाने पर रखा और अंदर करने लगा। जिया की चूत कुंवारी होने के कारण काफी कसी थी। मैंने जोर लगा कर अपना लण्ड उसकी चूत में ठेल दिया। लण्ड का सुपारा ही अंदर गया था कि जिया जोर जोर से चीखने लगी। अपने हाथ-पाँव मारने लगी और बोलने लगी- मुझे छोड़ दो ! मुझे कुछ नहीं करना।
मैंने अपने हाथों से उसका मुँह बंद कर दिया और जोर-जोर से धक्के लगा कर अपना लण्ड उसकी चूत में घुसाने लगा। अभी आधा ही अंदर गया था कि उसकी आँखों से आंसू आने लगे और उसका मुँह बंद था। मैंने धक्के लगाने चालू रखे। मेरे हाथ से बंद होने के कारण उसके मुँह से गूँ-गूँ की आवाजें आने लगी। मैं समझ गया कि उसको मजे आ रहे हैं, मैंने अपना हाथ उसके मुँह से हटा लिया, उसके मुँह से सी सी की आवाज आ रही थी।
मुझे उसकी चूत से कुछ बहने का अहसास हुआ, नीचे देखा तो उसकी चूत पूरी खून से भरी हुई थी। मैंने इस पर ध्यान ना देते हुए एक और जोर का झटका दिया जिससे मेरा तीन चौथाई लण्ड उसकी चूत में समा गया। इस झटके के लिए वो तैयार नहीं थी। और इस झटके के साथ ही जिया अपना सर जोर जोर से इधर उधर पटकने लगी। अब मैं थोड़ी देर के लिए रुका और उसके मम्मे मसलने लगा। उसके होठों को चूमने लगा, अपने लण्ड को धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा। अब उसका सर पटकना कुछ कम हुआ और वो भी धीरे धीरे अपने चूतड़ उछालने लगी।
वो बोली- तुमने तो मेरी जान ही निकाल दी थी, एक बार लगा कि मैं जिन्दा बच पाउंगी।
मैं बोला- मेरी जान ! दर्द तो एक बार हुआ होगा, लेकिन अब मज़ा आ रहा है या नहीं?
जिया ने कहा- हाँ, मज़ा तो बहुत आ रहा है, बस ऐसे ही अपने लण्ड को मेरी चूत में डालते रहो। सच में आज ज़न्नत जैसा अहसास हो रहा है।
मैंने कहा- मेरी जानू ! अभी तुमने ज़न्नत देखी ही नहीं है, आगे आगे देखो, मैं तुम्हें क्या क्या और दिखाता हूँ।
इतना कहते ही मैंने एक जोरदार धक्का लगा कर अपना पूरा लण्ड उसकी चूत में घुसा दिया। जिया इस अचानक हुए हमले के लिए बिल्कुल तैयार नहीं थी, इस कारण उसकी जोर की चीख निकल गई और बोली- प्लीज़ ! तुम अपना लण्ड मेरी चूत से निकाल लो, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, मैं मर जाऊंगी, प्लीज़ निकाल लो अपना लण्ड ! मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ती हूँ।
मैं उसकी बातों पर ध्यान ना देकर उसके मम्मे चूसने लगा और अपने लण्ड को उसकी चूत धीरे धीरे आगे पीछे पेलने लगा। थोड़ी देर में उसको पूरा मज़ा आने लगा। उसकी सील टूट चुकी थी और वो अब मेरा लण्ड अपनी चूत में आराम से अंदर ले रही थी। वो अपनी गाण्ड ऊपर नीचे उछालने लगी और बोलने लगी- यस यस्स्स और जोर से चोदो वीरू , मेरी चूत फ़ाड़ दोओअओ, चोदो और जोर से चोदते जाओ, मेरी चूत को फ़ाड़ दो और मेरी चूत की प्यास को मिटा दो।
इस पर मैं उसको और जोर-जोर से चोदना शुरु कर दिया।
मैंने अपनी गति बढ़ाई, फिर भी वह ज़ोर से करो ! की रट लगा रही थी।
मैंने कहा- हाँ जान और ज़ोर से करूँगा।
फिर मैंने उसके दोनों पाँव उठाए और काफी तेज़ी से लण्ड को उसकी चूत के अन्दर-बाहर करने लगा। और थोड़ी ही देर में मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में डाल दिया। वो भी मेरे साथ ही झड़ गई, फिर हम दोनों एक साथ ले लेट गए।
फिर तो मैंने और जिया ने एक बार और सेक्स किया! उसको घोड़ी स्टाईल में खड़ा कर उसकी गांड में लण्ड घुसाने लगा। उसकी गांड भी बहुत कसी थी। मैंने पूरा दम लगा कर पूरा का पूरा लण्ड उसकी गांड में पेल दिया और धक्के मारने लगा। एक बार तो उसको दर्द हुआ फिर उसको और मज़ा आने लगा। उसके चूतड़ मुझे बहुत ही आनंद दे रहे थे। दो-तीन मिनट में ही वो अपने चूतड़ उठा-उठा कर मेरे हर धक्के का जवाब देने लगी। मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी और लण्ड को गांड से निकाल कर फिर से उसकी चूत में डाल दिया। कुछ ही देर में उसकी चूत से पानी निकलने लगा।
उसने कहा- खूब ज़ोर-ज़ोर से धक्का लगाओ।
मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है। मैंने बहुत ही तेज़ी के साथ उसकी चुदाई शुरू कर दी।
वो बोली- आआआ!!! मैंऽऽऽ आआआऽऽऽ रहीऽऽऽ हूँऽऽऽ और तेज़ ऽऽऽ और तेज़ ऽऽऽ
उसकी चूत से पानी निकलने लगा और मेरा सारा लण्ड भीग गया। मैं भी बिना रुके उसे आँधी की तरह चोदता रहा। लगभग बीस मिनट तक चोदने के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया। इस दौरान वो भी तीन बार झड़ चुकी थी। लण्ड का पूरा पानी उसकी चूत में निकल जाने के बाद मैं हट गया।
अब मुझे दर लगने लगा कि वो कहीं गर्भवती न हो जाये इसलिए मैंने उसको ई-पिल लाकर खिला दी।
अब जब कभी वो अकेली होती तो हम सेक्स करते और आज तक मैं उसके साथ सेक्स कर रहा हूँ।